• search
कानपुर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

यूपीसीडा के चीफ इंजीनियर अरुण मिश्रा गिरफ्तार, करोड़ों रुपए के घोटाले का आरोप

|

कानपुर। सीएम योगी आदित्यनाथ की भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम जारी है। उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीसीडा) के प्रधान महाप्रबंधक अरुण कुमार मिश्रा को कानपुर के चकेरी में सड़क निर्माण घोटाले के मामले में मंगलवार को गिरफ्तार किया गया है। अरुण मिश्रा पर चकेरी-पाली रोड का कागज पर निर्माण कराकर 2.11 करोड़ रुपए के घोटाले का आरोप है।पुलिस ने अरुण मिश्रा को कानपुर के रामादेवी के पास से गिरफ्तार किया है। बता दें, तीन दिन पहले ही शासन ने प्रधान महाप्रबंधक अरुण मिश्रा, सहायक अभियंता नागेंद्र सिंह, अवर अभियंता एसके वर्मा के विरुद्ध कोर्ट में चार्जशीट दायर करने की अनुमति दी थी। अभी आरोप पत्र दायर नहीं किया गया है।

upsida chief engineer arun mishra arrested in corruption case

एसपी पूर्वी राजकुमार अग्रवाल ने बताया कि चकेरी पाली रोड निर्माण के घोटाले में अरुण मिश्र आरोपी हैं। आरोपी ने केवल कागजों पर ही 2.11 करोड़ रुपए पास करवाकर गबन कर लिया था। एसपी ने बताया कि शासन की मंजूरी के बाद मंगलवार को रामादेवी चौराहे के पास से अरुण मिश्र को गिरफ्तार कर लिया गया है। मामले में जल्द चार्जशीट दाखिल की जाएगी। बता दें, वर्ष 2009 में यूपीसीडा ने प्रयागराज नेशनल हाईवे से पाली गांव होकर चकेरी औद्योगिक क्षेत्र में जाने वाली तीन किलोमीटर सड़क का निर्माण किया था। इसके आगे की 1940 मीटर सड़क को पीडब्ल्यूडी ने बनाई थी।

यूपीसीडा के अफसरों ने पीडब्ल्यूडी के हिस्से की सड़क को भी अपने हिस्से के निर्माण कार्य में दिखा दिया था। 12 जनवरी, 2009 को यूपीसीडा के तत्कालीन अधिशाषी अभियंता अजीत सिंह, सहायक अभियंता नागेंद्र सिंह और अवर अभियंता एसके वर्मा ने मेसर्स कार्तिक इंटरप्राइजेज फर्म द्वारा बनाए जाने की बात कहते हुए 2 करोड़ 11 लाख रुपए पास करा लिए थे। यूपीसीडा से दो किश्तों में इस रकम का भुगतान कर दिया गया था। मामले का खुलासा हुआ तो यूपीसीडा के तत्कालीन प्रबंध निदेशक इफ्तेखारुद्दीन ने 2012 में अजीत सिंह, नागेंद्र सिंह और एसके वर्मा और फर्म कार्तिक इंटरप्राइजेज के खिलाफ चकेरी थाने में एफआइआर दर्ज कराई थी। जांच शुरू हुई, जिसमें अरुण कुमार मिश्रा भी दोषी पाए गए थे। अभी तक शासन की अनुमति नहीं मिलने से अरुण मिश्रा के खिलाफ चार्जशीट दाखिल नहीं हो पा रही थी। शासन की आठ साल बाद अनुमति मिलते ही सीओ कैंट सत्यजीत गुप्ता ने अरुण कुमार मिश्रा, नागेंद्र और एसके वर्मा के खिलाफ चार्जशीट लगाने की कार्रवाई शुरू कर दी है।

जाति मज़हब से ऊपर उठकर भाजपा सरकार ने सबका विकास किया : योगी आदित्यनाथ

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
upsida chief engineer arun mishra arrested in corruption case
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X