• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अवैध दस्‍तावेजों के साथ रह रहे 6 बांग्‍लादेशियों को असम सरकार ने वापस भेजा

|

नई दिल्‍ली। असम सरकार ने असम के करीमगंज जिले के सुतरकंडी में अंतरराष्ट्रीय सीमा चेक पोस्ट से कानूनी प्रक्रियाओं का पालन करते हुए बांग्लादेश के छह नागरिकों को वापस उनके देश भेज दिया। इन्‍हें अवैध दस्‍तावेजों के साथ भारत में घुसने के आरोप में असम के विभिन्‍न हिस्‍सों से पकड़ा गया था। भारतीय अधिकारियों ने कानूनी प्रक्रियाओं के माध्यम से उन्हें बांग्लादेश के अधिकारियों को सौंप दिया।

अवैध दस्‍तावेजों के साथ रह रहे 6 बांग्‍लादेशियों को असम सरकार ने वापस भेजा

बांग्लादेशी नागरिक पिछले दो वर्षों से राज्य के गोलपारा और कोकराझार के शिविरों में बंद थे। असम सरकार ने इस साल अब तक 49 बांग्लादेशी नागरिकों को बांग्लादेश भेजा है। करीमगंज जिले के एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि बांग्लादेशी नागरिक बांग्लादेश के कॉक्स बाज़ार क्षेत्र से हैं और पिछले दो वर्षों से असम में हिरासत में रखे गए शिविरों में बंद थे। हमने बांग्लादेश के अधिकारियों के साथ कानूनी प्रक्रिया और परामर्श पूरा करने के बाद उन्हें बांग्लादेश भेज दिया है।

पुलिस अधिकारियों ने कहा कि उन्हें गोलपारा और कोकराझार नजरबंदी शिविरों में रखा गया था और राजकीय रेलवे पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया था। इससे पहले 2 नवंबर को, असम सरकार ने 42 बांग्लादेशी नागरिकों को बांग्लादेश भेजा था। 25 बांग्लादेशी नागरिकों को सरकारी रेलवे पुलिस, गुवाहाटी के माध्यम से लाया गया है। उन्हें 2-3 साल पहले विदेशियों के अधिनियम के तहत हिरासत में लिया गया था। भारतीय पक्ष के अधिकारियों ने उन्हें बांग्लादेश के अधिकारियों को सौंप दिया था। आपको बता दें कि इससे पहले पिछले साल मई और जुलाई में, असम सरकार ने बांग्लादेश में 50 बांग्लादेशी नागरिकों को निर्वासित किया था।

प्रशांत किशोर ने नीतीश को बधाई देते हुए कसा तंज, बोले- थके हुए नेता के साथ बिहार को कुछ साल और रहना होगा

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Assam government deports 6 Bangladeshi nationals.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X