• search

नीरव मोदी और विक्रम कोठारी जैसों के साथ क्या करता है चीन?

By Bbc Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    सांकेतिक तस्वीर
    Getty Images
    सांकेतिक तस्वीर

    विजय माल्या, नीरव मोदी और अब विक्रम कोठारी, देश या सरकारी बैंकों को करोड़ों का चूना लगाकर मुकरने या भागने वालों की कहानी सामने आती है तो दिमाग़ में सबसे पहले सवाल आता है कि ऐसों के साथ क्या किया जाना चाहिए.

    बड़े घोटाले करने वालों के नाम सामने आते हैं तब ख़बर होती है कि कितना नुकसान हो गया. लेकिन बैंकों के डूबे हुए कर्ज़ (NPA) के आंकड़े इशारा करते हैं कि उधार लेकर डकार जाना भारतीयों की बड़ी दिक्कत है.

    पंजाब नेशनल बैंक कार्रवाई कर रहा है तो नीरव मोदी ने धमकी दी है कि इन सारी ख़बरों ने उनके ब्रांड को नुकसान पहुंचाया है.

    न लोन, न प्रमोशन

    चीन
    Getty Images
    चीन

    ऐसों के साथ क्या किया जाए, इसका एक हल हमें पड़ोसी देश चीन से मिल सकता है. चीन की सुप्रीम पीपल्स कोर्ट ने हाल में 67 लाख से ज़्यादा बैंक डिफ़ॉल्टरों को काली सूची में डाल दिया है.

    इसका मतलब ये कि वो विमान से सफ़र नहीं कर सकते, लोन या क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन नहीं कर सकते और उन्हें प्रमोशन भी नहीं मिलेगा.

    नीरव मोदी को कैसे रोका जा सकता था?

    पीएनबी स्कैम: नीरव मोदी ने भारत को कब कहा टाटा

    ग्लोबल टाइम्स की ख़बर के मुताबिक अब तक चीनी सरकार ने 61.5 लाख लोगों को विमान टिकट ख़रीदने और 22.2 लाख लोगों के तेज़ रफ़्तार रेलगाड़ियों में सफ़र करने पर पाबंदी लगा दी है.

    कैसे शिकंजा कसा जाता है?

    नीरव मोदी
    AFP
    नीरव मोदी

    सुप्रीम पीपल्स कोर्ट के एंफ़ोर्समेंट ब्यूरो चीफ़ मेंग ज़ियांग ने बताया कि कोर्ट ने आधिकारिक आईडी और पासपोर्ट की मदद से एयरलाइन और रेल कंपनियों के साथ सहयोग शुरू कर दिया है.

    मेंग ने बताया कि कोर्ट ने जिन डिफ़ॉल्टर्स को ब्लैकलिस्ट किया है, उनमें सरकारी नौकर, स्थानीय विधायिका और राजनीतिक सलाहकार संस्थाओं के सदस्य और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ चाइना के प्रतिनिधि शामिल हैं.

    पीएनबी स्कैम: कौन हैं डायमंड मर्चेंट नीरव मोदी?

    जितना बड़ा फ्रॉड, उससे ज़्यादा निवेशकों को चपत

    इनके अलावा कुछ ऐसे भी हैं जिनका डिमोशन कर दिया गया है और इस कड़ी कार्रवाई का क्या असर हुआ? कम से कम दस लाख डिफ़ॉल्टर्स ने ख़ुद ही अदालत का आदेश मानने की बात कही है.

    सामान ख़रीदने पर पाबंदी?

    नीरव मोदी
    BBC/Kirtish Bhatt
    नीरव मोदी

    बिज़नेस इनसाइडर की पिछले साल दिसंबर की एक ख़बर के मुताबिक चीन ऐसी पब्लिक ब्लैकलिस्ट रखता है जो कर्ज़ डकारने वालों की आवाजाही और सामान ख़रीदने तक पर पाबंदी लगाता है.

    देश की सबसे बड़ी अदालत अपनी वेबसाइट पर 'बेईमान लोगों' के नाम और आईडी नंबर छापती है. ये लोग न तो विमान और हाई-स्पीड रेलगाड़ी में सफ़र कर सकते हैं बल्कि उनके बच्चे भी महंगे स्कूलों में नहीं पढ़ सकते.

    डिफ़ॉल्टर तीन-सितारा या उससे ज़्यादा महंगे होटलों में ठहर नहीं सकते. इसके अलावा अगर वो सिविल सर्विस से जुड़ना चाहते हैं तो उन्हें मुश्किल परीक्षा से गुज़रना होता है. कार बुक कराने के लिए ज़्यादा पैसा ख़र्च करना होता है.

    प्लास्टिक सर्जरी का सहारा

    विमान
    EPA
    विमान

    ये पाबंदियां आईडी नंबर के ज़रिए लगाई जाती थीं. कुछ लोगों ने सफ़र करने पर लगी रोक से बचने के लिए अपने पासपोर्ट इस्तेमाल करने शुरू किए, लेकिन अब वो ख़ामी भी दूर कर दी गई है.

    ये लिस्ट साल 2013 में शुरू की गई थी और उस समय इसमें 31 हज़ार से ज़्यादा नाम थे. तब से दिसंबर, 2017 तक इसमें क़रीब 90 लाख लोग जुड़े.

    साल 2017 की शुरुआत में चीन में एक ऐसे ही कर्ज़दार के पहले दर्जे से विमान सफ़र करने पर 15 हज़ार डॉलर का जुर्माना लगाया गया था.

    रोज़गार में दिक्कत

    रेल
    Getty Images
    रेल

    डिफ़ॉल्टर पर कार्रवाई को लेकर इतना ख़ौफ़ है कि एक व्यक्ति ने बचने के लिए प्लास्टिक सर्जरी करा ली थी.

    यही नहीं ब्लैकलिस्ट में जो नाम जुड़ जाते हैं, उससे रोज़गार की संभावनाओं पर भी असर पड़ता है.

    कई कंपनियां इसकी जांच करती हैं और लिस्ट में शामिल डेढ़ लाख से ज़्यादा लोगों को कार्यकारी पद नहीं दिए गए हैं.

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    What does China do with Nirav Modi and Vikram Kothari

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X