• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

नई शिक्षा नीति में हिंदी को लेकर घिरी सरकार, दिग्गज मंत्रियों ने किया बचाव

|

नई दिल्ली। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2019 के प्रस्तावित विधेयक को लेकर चल रही बहस के बीच सरकार की ओर से सफाई सामने आई है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भरोसा दिलाया है कि हिंदी भाषा किसी पर भी थोपी नहीं जाएगी। दरअसल इस शिक्षा नीति को लेकर दक्षिण भारत के लोग विरोध कर रहे हैं, उनका कहना है कि स्कूली छात्रों पर हिंदी भाषा को थोपने का प्रयास किया जा रहा है। लेकिन इस पूरे विवाद पर सरकार का बचाव करने के लिए खुद वित्त मंत्री सामने आईं हैं।

nirmala

निर्मला सीतारमण ने दिलाया भरोसा

निर्मला सीतारण और एस जयशंकर ने ट्विटर पर तकरीबन एक जैसे ही मैसेज करके लोगों को भरोसा दिलाया है कि इस नीति को लागू करने से पहले इसकी समीक्षा की जाएगी। बता दें कि दोनों ही मंत्री तमिलनाडु से आते हैं, जहां इस शिक्षा नीति का सबसे अधिक विरोध हो रहा है। दोनों ही मंत्रियों ने यह ट्वीट तमिल भाषा में किया है। इससे पहले उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने भी सरकार का बचाव किया था और लोगों से अपील की थी कि वह इसे पढ़ें, इसका विश्लेषण करें, बहस करें, ऐसे ही इसे लेकर किसी भी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचे।

थरूर, कुमारस्वामी ने साधा निशाना

दरअसल कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी और कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने इस शिक्षा नीति को लेकर चेतावनी जारी की थी, जिसमे कहा गया था कि दक्षिण भारत के राज्यों पर हिंदी भाषा को थोपा नहीं जा सकता है, इससे पहले पी चिदंबरम और डीएमके नेता एमके स्टालिन ने भी इस शिक्षा नीति को लेकर अपनी चिंता जाहिर की थी। निर्मला सीतारमण ने ट्वीट करके लिखा कि लोगों की राय लेने के बाद ही इस शिक्षा नीति को लागू किया जाएगा। देश की सभी भाषाओं को आगे बढ़ाने के लिए पीएम मोदी ने एक भारत श्रेष्ठ भारत का बढ़ावा देते हैं। केंद्र सरकार प्राचीन तमिल भाषा के सम्मान और विकास के लिए प्रतिबद्ध है।

थोपना नहीं चाहिए हिंदी को

इस शिक्षा नीति के प्रस्तावित विधेयक लेकर शशि थरूर ने कहा था कि दक्षिण भारत में अधिकतर लोग हिंदी भाषा सीखने की कोशिश करते हैं, लेकिन उत्तर भारत में कोई भी मलयालम या तमिल सीखने की कोशिश नहीं करता है। भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति को को थोपा नहीं जाएगा, बल्कि हिंदी भाषा को स्कूलों में बढ़ावा दिया जाएगा। कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि एक भाषा को किसी पर थोपना नहीं चाहिए।

इसे भी पढ़ें- पीएम मोदी के कैबिनेट में शामिल मंत्रियों के लिए सलमान खान ने कही ये बात

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Hindi row over new education policy: Nirmala Sitharaman and S Jaishankar comes in defence.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X