• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जियो उपभोक्ता हैं तो खुद को कोसिए, जिसने इनकमिंग रिंग अवधि पर चलाई है कैंची

|

बेंगलुरू। अगर आप भी पिछले कई महीने से मोबाइल फोन पर आने वाले कॉल के जल्दी कट जाने और फोन में मिस्ड कॉल होने की समस्या से दो चार हो रहे हैं, तो आप अकेले नहीं है। यह समस्या इसलिए पैदा हो रही है, क्योंकि अग्रणी टेलीकॉम कंपनी बन चुकी जियो ने इनकमिंग कॉल की रिंग की समयावधि को नियंत्रित कर दिया है, जिससे आपके फोन पर आने वाले इनकमिंक कॉल 25 सेकेंड के बाद खुद ब खुद कट हो जाते है।

Jio

हालांकि शुरूआत में यह समस्या सिर्फ जियो उपभोक्ताओं को ही झेलनी पड़ रही थी, लेकिन ट्राई द्वारा कोई व्यवस्था विकसित नहीं किए जाने से अन्य टेलीकॉम कंपनियों ने भी इनकमिंग रिंग अवधि 25 सेंकेंड कर दी है। एयरटेल ने सफाई देते हुए कहा कि उक्त यह फैसला उसने जियो द्वारा की गई शुरुआत के बाद लिया है, जिससे ग्राहकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। एयरटेल कंपनी के मुताबिक इंडस्ट्री द्वारा लगातार सूचना के बावजूद ट्राई ने जब कोई निर्देश नहीं दिए गए तो कंपनी को मजबूरन उपभोक्ता हितों के खिलाफ यह कदम उठाना पड़ा।

Jio

गौरतलब है इनकमिंग रिंग की समयावधि 25 सेकेंड तक नियंत्रित करने के पीछे जियो का तर्क है कि उपभोक्ता को यदि कॉल का जवाब देना होता है तो वह 15 सेकेंड के अंदर ही तय कर लेता है कि उसे जवाब देना है अथवा नहीं। इससे पहले तक ऑपरेटर्स के नेटवर्क पर 45 सेकंड का रिंग टाइम था। जियो द्वारा इनकमिंग रिंग की समयावधि पर नियंत्रण की आलोचना करते हुए एयरटेल ने आरोप लगाया कि जियो कंपनी ने राजस्व फायदे के लिए यह कार्ड खेला है।

Jio

एयरटेल के मुताबिक जियो कंपनी द्वारा इनकमिंग रिंग टाइम पर नियंत्रण करने से उपभोक्ताओं को समस्या हो रही है, क्योंकि जियो नंबर पर कम समय के लिए रिंग जाती है, जिससे जियो ग्राहक को इनकमिंग कॉलर को कॉल बैक करना पड़ता है। इसका राजस्व फायदा जियो को हो रहा है। वहीं, वोडाफोन-आइडिया ने इनकमिंग रिंग समयावधि को कम से कम 30 सेकेंड रखने का सुझाव दिया है। उसका कहना है कि प्राय: दुनियाभर में फोन की घंटी का समय इसी दायरे में होता है।

jio

यानी अब अगर कोई आपसे शिकायत करता है कि आप उनका फोन नहीं उठाते या फिर आपके फोन में मिस्ड कॉल होते हैं तो आपके फोन में भविष्य में छूटी हुई कॉल यानी मिस्ड कॉल की संख्या बढ़ने वाली हैं। इसके साथ ही लोगों की यह शिकायत भी बढ़ने वाली है कि आप उनका फोन नहीं उठाते है, क्योंकि जियो उपभोक्ता ही नहीं, अब टेलीकॉम कंपनियां मसलन, एयरेटल और वोडाफोन भी इनकमिंग रिंग की समयावधि पर नियंत्रण करने जा रही हैं।

Jio

हालांकि उपभोक्ताओं की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए एयरटेल और वोडाफोन कंपनी ने बाकायदा ट्राई से जियो के कदम की सूचना दे दी थी, लेकिन सूचना के बावजूद रेगुलेटर ने जब कोई निर्देश नहीं दिए गए तो दोनों कंपनियों के पास कोई और चारा नहीं रह गया। फिलहाल, रिलायंस जियो के नक्शे कदम पर चलते हुए अब भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया ने भी अपने नंबरों पर आने वाली इनकमिंग कॉल्स का समय कम कर दिया है। हालांकि वोडाफोन आइडिया ने अभी कुछ चुनिंदा सर्कल्स में रिंग टाइम में कटौती की है।

Jio

रिलायंस जियो के नक्शे कदम पर चलते हुए अब भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया ने भी अपने नंबरों पर आने वाली इनकमिंग कॉल्स का समय कम कर दिया है। इसके बाद अब अगर आप जियो, वोडाफोन आइडिया या फिर भारती एयरटेल के यूजर हैं तो आपका फोन 25 सेकंड से ज्यादा के लिए नहीं बजेगा। अगर इतनी देर में आपने कॉल रिसीव कर लिया तो ठीक नहीं तो मिस्ड कॉल हो जाएगा।

जियो उभोक्ताओं को जियो कंपनी का यह स्यापा इसलिए झेलना पड़ रहा है, क्योंकि भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (ट्राई) से मोबाइल फोन कॉल की घंटी की अवधि तय करने के बारे में अभी तक कोई व्यवस्था नहीं दिया गया है। देश दोनों बड़ी कंपनियनों ने ट्राई से इनकमिंग रिंग समयावधि के लिए कोई व्यवस्था बनाने अथवा दखल देने के लिए कई बार पत्र लिखकर आग्रह कर चुकी हैं। वहीं जियो कंपनी का कहना है कि यह सेवा प्रदाताओं पर छोड़ दिया जाना चाहिए, क्योंकि इस मामले में 'नियामकीय हस्तक्षेप की आवश्यकता ही नहीं है।

Jio

जियो कंपनी का कहना है कि ट्राई इस मामले पर यदि कुछ कहना भी चाहता है तो वह संदर्भ के लिए एक दिशानिर्देश के रूप में होना चाहिए और यह अनिवार्य निर्देश के रूप में नहीं होना चाहिए। ट्राई चाहे तो 20 से 25 सेकेंड के रिंग (घंटी) की सिफारिश कर सकता है, लेकिन प्रतिद्वंदी एयरटेल का कहना है कि इसका एक मानक स्तर होना चाहिए। उसकी राय में कॉल खत्म होने वाले एक्सचेंज पर घंटी की अवधि 45 सेकेंड और उद्गम एक्सचेंज पर यह 75 सेकेंड की होनी चाहिए।

Jio

माना जा रहा है टेलीकॉम इंडस्ट्री में एकाधिकार रखने वाली जियो कंपनी ने इनकमिंग रिंग की समयावधि में नियंत्रण लगाया है, जिससे उसको अधिक राजस्व का फायदा हो रहा है। हालांकि इस बारे ट्राई जल्द एक परिचर्चा पत्र जारी कर अपना विचार तय कर सकती है। ट्राई ने इस मुद्दे पर सभी ऑपरेटर्स से अपील की है कि वो आपसी सहमति से किसी समाधान पर पहुंचे जब तक कि वो खुद इस मुद्दे पर कोई औपचारिक सलाह नहीं ले लेता। ट्राई 14 अक्टूबर को इस मुद्दे पर एक खुल चर्चा करने की तैयारी भी कर रहा है।

JIO

उल्लेखनीय है जियो ने 21 फरवरी 2017 को 10 करोड़ यूज़र्स का आंकड़ा पार कर लिया था। रिलायंस जियो इंफोकॉम ने लॉन्चिंग के बाद से हर मिनट औसतन 1000 ग्राहक अपने नेटवर्क से जोड़े। इस तरह हर दिन करीब छह लाख नए ग्राहक जुड़े थे। कंपनी ने अपनी 4जी सेवाओं की औपचारिक शुरुआत पांच सितंबर 2016 को की थी। कंपनी ने अपने बिजनेस के पहले 83 दिन में ही पांच करोड़ ग्राहक का आंकड़ा पार कर ऐतिहासिक रिकार्ड बनाया था।

रिलायंस जियो बनी देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी, 33.13 करोड़ ग्राहकों के साथ सबको छोड़ा पीछे

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Telecom Industries supreme company Jio telecom first controls incoming ring time limit from user after that other company like airtel and vodafone followed. However Airtel and Vodafone company complained against Jio telecom to TRAI but end of the day both company helplessly controlled their consumers incoming ring limt too.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more