• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

शिवसेना ने कहा- दिल्‍ली हिंसा ने 1984 सिख दंगे की याद दिला दी, कंट्रोल कर पाने में केंद्र सरकार नाकाम

|

नई दिल्‍ली। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर हिंसा की आग में झुलसी राजधानी दिल्‍ली अब काबू में है। सुरक्षा के इंतजाम पुख्‍ता हैं और हालत पहले से बेहतर हो रहे हैं। हिंसा में अबतक 18 लोगों की मौत हो गई है और कई लोगों की दुकानें, घर और संपत्तियों को नुकसान पहुंचा है। इसे लेकर ही शिवसेना ने एक बार फिर केंद्र और केंद्रीय गृह मंत्रालय पर हमला बोला है। शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में कहा है कि दिल्ली में दंगे जारी रहे, जबकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प राजधानी का दौरा कर रहे थे।

शिवसेना का केंद्र सरकार पर निशाना, सामना में लिखा- हैदराबाद में हो रहा था नमस्‍ते और दिल्‍ली जल रही थी

शिवसेना ने कहा, "जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प बातचीत कर रहे थे, तो दिल्ली जल रही थी। राजधानी में कानून व्यवस्था बनाए रखने में केंद्र सरकार विफल रही। संपादकीय में आगे कहा गया है, "1984 के सिख विरोधी दंगों के लिए, भाजपा अभी भी कांग्रेस को दोषी ठहराती है। आपको बता दें कि इंदिरा गांधी की हत्या के बाद, दिल्ली में सिख समुदाय को निशाना बनाया गया था और सैकड़ों सिख भाइयों को मार दिया गया था।"

सामना में लिखा गया है कि 1984 के दंगों जैसा ही माहौल दिल्‍ली में है। लोग हाथों में पिस्‍तौल और तलवार लेकर सड़क पर हैं। संपादकीय में कहा गया है ' दिल्ली में जो दृश्य हम देख रहे हैं वह डरावना है। इसके लिए कौन जिम्मेदार है? और दिल्ली में यह स्थिति थी जब राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प राजधानी में थे और यह हमें अच्छा नहीं लगता है। सेना ने अमेरिका से रक्षा डील पर भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा। शिवसेना की तरफ से कहा गया कि ट्रम्प ने अपने भाषण में आतंकवाद को समाप्त करने के लिए पाकिस्तान को चेतावनी दी। ट्रम्प पाकिस्तान से लड़ने के लिए भारत को विनाशकारी मिसाइल देने जा रहे हैं लेकिन यह अंततः एक व्यापार है और हमें इसके लिए अरबों डॉलर का भुगतान करना होगा। ट्रम्प ने मोदी की कम से कम 25 बार प्रशंसा की और गले लगाया। इसपर शिवसेना ने कहा कि एक-दूसरे ने 25 बार गले लगाने की कीमत हमें 3 बिलियन डॉलर दी।

दिल्ली में किस कदर मचा था बवाल, देखिए हिंसा की तस्वीरें

उल्‍लेखनीय है कि भारत और अमेरिका के बीच तीन अरब डॉलर के रक्षा समझौते पर हस्ताक्षर हुए हैं। जिसमें अमेरिका के 23 एमएच 60 रोमियो हेलिकॉप्टर और छह एएच 64ई अपाचे हेलिकॉप्टर शामिल हैं। संयुक्त बयान में ट्रंप ने कहा कि इस सौदे से दोनों देशों के बीच रक्षा संबंध और मजबूत होंगे। ये दोनों हेलिकॉप्टर हर तरह के मौसम में दिन के किसी भी समय हमला करने में सक्षम हैं। चौथी पीढ़ी वाला यह हेलिकॉप्टर छिपी हुई पनडुब्बियों को निशाना बना सकता है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Shiv Sena slams centre on failing to control violence, says Namaste in Ahmedabad, fire in Delhi.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X