• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

2019 के लिए भाजपा-शिवसेना में डील फाइनल, ये है सीटों का गणित

|

नई दिल्ली। 2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर सियासी दलों के बीच गठबंधन के गणित अब अंतिम दौर में पहुंच चुके हैं। यूपी में अखिलेश यादव और मायावती का महागठबंधन फाइनल होने के बाद भाजपा ने भी अलग-अलग राज्यों में अपने सहयोगी दलों के साथ सीट शेयरिंग को लेकर बातचीत करनी शुरू कर दी है। इसी कड़ी में पिछले दिनों बिहार एनडीए के घटक दलों के बीच सीटों का बंटवारा होने के बाद अब महाराष्ट्र में भी भाजपा और शिवसेना ने लोकसभा चुनाव को लेकर डील लगभग फाइनल कर ली है। सू्त्रों के हवाले से खबर है कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के ने सीट बंटवारे का फॉर्मूला तय कर लिया है, जिसका ऐलान अगले कुछ ही दिनों में हो सकता है।

48 लोकसभा सीटों के लिए ये है फॉर्मूला

48 लोकसभा सीटों के लिए ये है फॉर्मूला

सूत्रों की मानें तो दोनों पार्टियों के बीच महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों के लिए बंटवारे का जो फॉर्मूला तय किया गया है, उसके तहत भाजपा 25 और शिवसेना 23 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी। सीटों को लेकर हुए समझौते के मुताबिक, भाजपा पालघर लोकसभा सीट पर कोई उम्मीदवार खड़ा नहीं करेगी। वहां से अब शिवसेना ही चुनाव लड़ेगी। आपको बता दें कि इससे पहले 2014 के लोकसभा चुनाव में गठबंधन के तहत भाजपा 26 और शिवसेना 22 सीटों पर मिलकर चुनाव लड़ी थी। सूत्रों के मुताबिक, महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस ने पहले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के साथ सीट शेयरिंग को लेकर चर्चा की और बैठक में हुई बातचीत की जानकारी गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दी।

ये भी पढ़ें- पुलवामा हमले में वो छोटी सी चूक, जो CRPF के जवानों पर पड़ी भारी

विधानसभा चुनाव के लिए भी तय हुआ गणित

विधानसभा चुनाव के लिए भी तय हुआ गणित

सूत्रों ने यह भी दावा किया है कि भाजपा और शिवसेना के बीच महाराष्ट्र के आगामी विधानसभा चुनावों को लेकर सीट शेयरिंग का समझौता भी फाइनल हो चुका है। महाराष्ट्र में इस साल के आखिर में ही विधानसभा चुनाव होने हैं। समझौते के अनुसार, 288 विधानसभा सीटों वाले महाराष्ट्र में भाजपा 145 और शिवसेना 143 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। दोनों दलों के बीच सीट बंटवारे के फार्मूले में एक शर्त यह भी शामिल है कि गठबंधन के तहत शिवसेना को विधानसभा की 6 से 7 वो सीटें दी जाएंगी, जो वर्तमान में भाजपा के पास हैं। हालांकि, दोनों दलों की ओर से अभी तक इन दोनों समझौतों के बारे में कोई भी आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। गौरतलब है कि शिवसेना लगातार इस बात को कहती रही है कि सीट बंटवारे को लेकर कोई भी फॉर्मूला पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ही फाइनल करेंगे।

शिवसेना का साथ, भाजपा को राहत

शिवसेना का साथ, भाजपा को राहत

आपको बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा और शिवसेना एक साथ चुनाव मैदान में उतरे थे। हालांकि 2014 के विधानसभा चुनावों में दोनों अलग-अलग चुनाव लड़े, लेकिन बाद में दोनों दलों ने मिलकर महाराष्ट्र में सरकार बनाई। विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 123 सीटों पर जीत हासिल की, जबकि शिवसेना के खाते में महज 63 सीटें ही आईं। 2014 के बाद कई मौकों पर दोनों दलों के बीच जुबानी टकराव देखने को मिल चुका है। हाल ही में राम मंदिर के मुद्दे पर भी शिवसेना ने भाजपा को घेरा था। हालांकि 2019 के लोकसभा चुनाव में शिवसेना का साथ मिलने से भाजपा को अब जरूर राहत मिलेगी, क्योंकि हाल ही में आए कई चुनावी सर्वेक्षणों में दोनों दलों के अलग-अलग चुनाव लड़ने से एनडीए को नुकसान का अनुमान जताया गया था।

ये भी पढ़ें- पुलवामा आतंकी हमले की 5 छिपी बातें, CRPF पर किया गया 'लोन वुल्फ' अटैक

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Lok Sabha Elections 2019: BJP And Shiv Sena Finalises Seat Sharing Deal In Maharashtra.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X