• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

लांच के लिए तैयार है स्पेस एक्स का पहला मानवयुक्त अंतरिक्ष मिशन डेमो -2, जानिए कब होगा लांच?

|

नई दिल्ली। निजी अंतरिक्ष मिशन कंपनी स्पेस एक्स बुधवार को आधिकारिक तौर पर अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन के लिए दो अंतरिक्ष यात्रियों को लॉन्च करेगा। हालांकि संभावना जताई गई है कि खराब मौसम के कारण मिशन में देरी भी हो सकती है। मिशन डेमो-2 स्पेस एक्स का पहला चालक वाला क्रू ड्रैगन स्पेस क्राफ्ट होगा। इससे पहले स्पेस एक्स ने मार्च 2019 में चालक रहित क्रू ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट डेमो-1 का सफल परीक्षण किया था।

space x

गौरतलब वर्ष 2011 में अटलांटिस द्वारा स्पेश शटल प्रोग्राम बंद करने के बाद यह पहला मौका है जब फ्लोरिडा से कोई एस्ट्रोनोट्स अंतरिक्ष स्टेशन के लिए लांच होगा और वर्ष 1975 में अपोलो-सोयूज मिशन के बाद अमेरिका में निर्मित पहला कैप्सूल होगा, जो मानव को ऑरबिट में लेकर जाएगा।

space x

लॉकडाउन के चलते आइसोलेशन में नासा के पूर्व वैज्ञानिक ने तैयार किया ऐसा वीडियो, पहली बार चांद-धरती को एक साथ देखिए

रिपोर्ट के मुताबिक नासा और स्पेस एक्स ने सोमवार को फ्लोरिडा में स्थित कैनेडी स्पेस सेंटर (केएससी) में लांचिंग वाले बड़े दिन से एक दिन पहले मिशन की अंतिम-मिनट की लॉन्चिंग की तैयारियों की अंतिम समीक्षा के लिए बैठक बुलाई और यदि सब कुछ योजना के अनुसार चलता है और अगर मौसम सहयोग करती है स्पेस एक्स का क्रू ड्रैगन बुधवार (27 मई) को शाम 4:33 बजे (2033 GMT) फाल्कन 9 रॉकेट लॉन्च कॉम्प्लेक्स 39 ए केंद्र से लांच हो जाएगा।

space x

अमेरिका से युद्ध की खबरों के बीच ईरान की जैस्मिन को मिला नासा के साथ अंतरिक्ष की सैर का मौका

खबरों के अनुसार 45 वें मौसम स्क्वाड्रन अंतिम उलटी गिनती तक मौसम की निगरानी रखना जारी रखेगा। यदि लॉन्च को अंतिम समय पर बंद कर दिया जाता है, तो शनिवार और रविवार (30 और 31 मई) को लॉन्चिंग के लिए बैकअप दिन तैयार किए गए हैं।

space x

अंतरिक्ष में इसरो का बड़ा मिशन, खुद का space station बनाएगा भारत

समाचार एजेंसी एसोसिएट प्रेस के अनुसार स्पेस एक्स का ड्रैगन क्रू कैप्सूल नासा के पुराने अपोलो अंतरिक्ष यान से लगभग हर मायने में बेहतर है। यह पहली बार है जब कोई निजी स्पेस कंपनी नासा के अंतरिक्ष यात्रियों डौग हर्ले और बॉब बिहकेन को अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में लॉन्च करने की योजना बनाई है।

space x

Mission Shakti: आखिर क्या है 'मिशन शक्ति', जिससे भारत बना Space Power

एक स्पेस एक्स फाल्कन 9 रॉकेट चालक दल कैप्सूल के साथ पिछले के दोनों मिशनों के लिए उपयोग किए जाने वाले पैड से लांच में शामिल होगा। रूस के वर्कहॉर्स सोयुज कैप्सूल अभी भी आधी सदी के बाद उपयोग में हैं, जो नासा के अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष स्टेशन पर उड़ान भरने के लिए मौजूद है। हालांकि विश्वसनीय होते हुए भी सोयुज तड़क-भड़क वाले ड्रैगन की तुलना में पुराना दिखता है।

space x

दुनिया का सबसे छोटा सैटेलाइट कलामसैट सफलतापूर्वक लॉन्च कर ISRO ने रचा इतिहास

स्पेस एक्स के मिशन निदेशक बेंजी रीड ने कहा, हम चाहते हैं कि यह न केवल उतना ही सुरक्षित और विश्वसनीय हो जितना आप दुनिया के सबसे उन्नत अंतरिक्ष यान से उम्मीद करते हैं, हम यह भी चाहते हैं कि यह अद्भुत और सुंदर दिखे। स्पेस एक्स और बोइंग नासा के अन्य वाणिज्यिक क्रू प्रदाता हैं, जिन्होंने शुरू से ही कैप्सूल का विकल्प चुना है।

पहली बार लॉन्च होगा भारत में बना प्राइवेट सैटेलाइट

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
This is the first time since Atlantis discontinued the Special Shuttle program in 2011 when an Astronotes from Florida would launch to the space station and be the first capsule manufactured in the US after the Apollo-Soyuz mission in 1975, carrying humans in the orbit Will go. Earlier, in March 2019, Space X successfully tested the driverless crew Dragon Spacecraft Demo-1.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X