• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

भगवा रंग में रंगे बांग्लादेशी मुसलमान, जहां हर दाढ़ी कहती है 'रंग तू मोहे गेरुवा'

|

बेंगलुरू। मुस्लिमों में दाढ़ी रखना आम है, लेकिन भगवा दाढ़ी आजकल बांग्लादेशी मुस्लिमों का फैशन स्टेटमेंट बन चुका है। हालांकि इसका भाजपा या आरएसएस से कोई संबंध नहीं है और न ही आरएसएस बांग्लादेश में शाखा खोलने की तैयारी कर रही है और न ही बीजेपी अध्यक्ष बांग्लादेश में चुनाव जीतने की तैयारी कर रहे हैं।

Beard

दाढ़ी का भगवा रंग मेंहदी का चमत्कार है, जो बांग्लादेशी बुजर्ग अपनी दाढ़ी में इस्तेमाल कर रहे हैं, जो बुढ़ापे अथवा बुढ़ापे से पूर्व सफेद हो रही दाढ़ी के बाल को छुपाने की कोशिश है। शायद यही कारण है कि इसका प्रचलन बुजर्ग और अधेड़ उम्र के लोगों में बहुतायत में हैं। चूंकि काले बालों पर हाथों में रचाने वाली मेहंदी का असर नहीं होता है, भगवा रंग सिर्फ सफेद अथवा भूरे रंगों वाले बालों को नारंगी अथवा भगवा रंग कर पाते हैं।

बांग्लादेश में बुजुर्गों में तेजी से फैलता यह फैशन आजकल चर्चा का विषय बना हुआ है। हालांकि भगवा रंगों वाले दाढ़ी का फैशन बांग्लादेश समेत एशियाई देशों के साथ-साथ मध्य-पूर्व देशों में भी प्रचलित है। बांग्लादेश में भगवा दाढ़ी का फैशन अभी जल्दी ही पसरा है।

beard

हालांकि राजधानी ढाका में इसका असर ज्यादा देखा जा सकता है, जहां की गलियों में बुजुर्ग लंबी-नारंगी दाढ़ी के साथ बहुतायत में नजर आते हैं। दाढ़ी के सफेद बालों में मेहंदी के प्रयोग इसकी रंगत ही निखरती है बल्कि महेंदी बालों को मजबूती भी प्रदान करते हैं। यही कारण है कि ज्यादातर बांग्लादेशी बुजुर्ग अपनी दाढ़ी पर मेहंदी लगाना पसंद कर रहे हैं,

गौरतलब है दुनिया भर में बियर्ड लुक यानी दाढ़ी रखने का फैशन तेजी से फैला हुआ है, लेकिन भगवा रंग जिसे हिंदुओं से जोड़ा जाता है अगर वह मुस्लिमों के पहनावे अथवा शरीर के किसी भाग में नजर आए तो दिलचस्प लगता है। हालांकि इसके पीछे मुस्लिम समुदायों का तर्क है कि कई मजहबी पुस्तकों में पैगंबर मुहम्मद के बालों में डाई करने का जिक्र है।

beard

यही कारण है कि बांग्लादेश में आम लोग ही नहीं बल्कि इमाम भी बड़ी संख्या में रंगीन दाढ़ी रख रहे हैं और रंगी हुई दाढ़ी के जरिए लोग खुद को इस्लाम के अनुयायी के तौर पर पेश कर रहे हैं। करीब 17 करोड़ की आबादी वाले बांग्लादेश में अधिकतर लोग मुस्लिम हैं।

बताया जाता है कि बीते कुछ सालों में बांग्लादेश में इसकी लोकप्रियता में तेजी से इजाफा हुआ है और आलम यह है कि अगर आप राजधानी ढाका से गुजरे तो मुश्किल ही होगा कि कोई भगवा रंग की दाढ़ी वाला आपको शख्स न दिखे। हालांकि पहले बालों में मेहंदी लगाने का चलन बुजुर्ग तक सीमित था, लेकिन फैशन स्टेटमेंट के रूप उभरने के बाद अब लगभग हर कोई इसे अपनाने लगा है। यही नहीं, ढाका में कई लोग ऐसे भी नजर आएंगे जिन्होंने दाढ़ी के साथ-साथ अपनी मूछों को भी भगवा रंग में रंगा हुआ है।

beard

उल्लेखनीय है मुस्लिमों दाढ़ी रखन की रवायत धर्म से जुड़ी है, जो कि फैशन स्टेटस बिल्कुल नहीं, लेकिन भगवा रंग की दाढ़ी जरूर फैशन स्टेट्स बन चुका है। एक ओर बेहद रुढ़िवादी और कट्टर मुसलमान यानी सलफ़ी लोग बेतरतीब तरीक़े से अपनी दाढ़ी बढ़ाते हैं और अक्सर वे मूंछ भी नहीं रखते।

उनका दावा है कि वो पैगंबर मुहम्मद का अनुसरण करते है, जो करीब 1,400 साल पहले शायद ऐसी ही दाढ़ी रखते थे। हालांकि कहा यह जाता है कि पैगम्बर मुहम्मद भी अपनी दाढ़ी को डाई करते थे। यही कारण है कि सलफ़ी विचारधारा के कुछ लोग अपनी दाढ़ी को कई रंग की हिना का प्रयोग रंगते हैं, जिससे उनकी दाढ़ी कभी गहरे भूरे रंग तो कभी चमकीले नारंगी रंग की दिखती है।

beard

दक्षिण-पूर्व देश मिस्र में होस्नी मुबारक का शासन ख़त्म होने के बाद वहां भी दाढ़ी रखने का चलन बड़े पैमाने पर शुरू हुआ। दरअसल, मिश्र में दाढ़ी को इस्लामी आंदोलन के प्रतीक के तौर पर देखा जाता था, जिसे मुबारक अपनी सत्ता के लिए गंभीर ख़तरा मानते थे। उनके शासनकाल में सरकारी कर्मचारियों जिनमें पुलिस अधिकारी से लेकर इजिप्ट एयर के पायलट शामिल हैं, उन्हें दाढ़ी रखने की मनाही थी। हालांकि अब ऐसा नहीं है और लोग अब बड़े पैमाने पर दाढ़ी रखते हैं।

हालांकि दाढ़ी रखने का ताल्लुक़ केवल मुस्लिम समुदाय से ही नहीं है, बल्कि ज्यादातर कॉप्टिक ईसाई पादरी और चर्च से जुड़े लोग भी लंबी दाढ़ी रखते हैं। वैसे, दाढ़ी को एक पुरूष की मर्दानगी और सम्मान का भी एक प्रतीक माना गया है। चेहरे की दाढ़ी सामाजिक पहचान से ज्यादा जीने का एक तरीका है।

beard

यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन में स्कूल ऑफ ओरिएंटल एंड अफ्रीकन स्टडीज़ के प्रोफेसर मुहम्मद अब्दुल हलीम कहते हैं कि ऐसी मान्यता है कि पैगंबर मोहम्मद दाढ़ी रखते थे, लेकिन जो लोग इस बात पर जोर देते हैं कि सच्चे मुसलमान दाढ़ी रखते हैं पर उनका तर्क है कि वो तो सिर्फ पैगंबर ने जो किया, उसी का पालन करने के लिए कह रहे हैं।

'सिंघम स्टाइल' में स्वाट टीम ने बनवाया वीडियो, सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद सभी लाइन हाजिर

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Nowadays Bangladeshi older Muslims become fan of Saffron color, however they are dyeing beard by Mehndi to hide their white hair. But later on it become fashion statement in Bangladesh and in capital Dhanka mojority of older people can seen with saffron beard .
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more