• search
गांधीनगर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

Cyclone vayu : समुद्र में आया उफान, गुजरात की धरती से टकराईं 5 मीटर ऊंची लहरें, हुआ ये हाल

|

गांधीनगर। समुद्री तूफान वायु के चलते गुजरात के तटीय इलाकों में कोहराम मचा हुआ है। यहां कच्छ, जामनगर, पोरबंदर, जूनागढ़, दीव, अमरेली, भावनगर, नवसारी और वलसाड आदि जिलों से हजारों लोग सुरक्षित जगहों पर स्थानानंरित किए जा चुके हैं। समुद्र अशांत हो उठा है, जिसकी वजह से 2 से 4.5 मीटर ऊंचाई तक की लहरों का झोंका भूमि से टकरा रहा है। सरकारी बयान के मुताबिक, 700 स्थानों पर लोगों को स्थानांतरित किया गया है। दक्षिण गुजरात में तीथल समुद्र में 5 से 6 फीट ऊंची पानी की लहरें उठीं। इसके बाद कहीं-कहीं 5 मीटर तक ऊंचा उछाल भी देखा गया है। इस विकट स्थिति में साउथ गुजरात 3 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। वहीं, जलेश्वर क्षेत्र को वेरावल के तट पर खाली कराया जा रहा है।

समुद्र में 5 से 6 फीट ऊंची पानी की लहरें उठीं

समुद्र में 5 से 6 फीट ऊंची पानी की लहरें उठीं

मौसम विभाग के अनुसार, तूफान के गुरुवार सुबह गुजरात के वेरावल और द्वारका को हिट किए जाने के आसार हैं। इसलिए सरकार ने अपने बचाव मदद तंत्र को मजबूत किया है। हवा के कारण दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र के क्षेत्रों में बारिश शुरू हो गई है। अहमदाबाद और गांधीनगर में भी आवागमन बदला गया है। तूफान गुजरात के तट पर परिवर्तित हो रहा है। वेरावल से तूफान 300 किलोमीटर दूर है। जैसे-जैसे तूफान गुजरात के करीब आ रहा है, इसका असर गुजरात के कई इलाकों में देखा जा रहा है।

6 जिलों के 23 तालुका में बारिश

6 जिलों के 23 तालुका में बारिश

तटीय गावों से तीन लाख लोगों को स्थानांतरित किया गया है। बुधवार की रात वेरावल तट पर पहुंचने की संभावना जताई गई है। 6 जिलों के 23 तालुका में बारिश हुई। वलसाड क्षेत्र में अधिकांश एक इंच से अधिक बारिश हुई है। हवा के कारण राज्य के समुद्र तट को सतर्क कर दिया गया है। हवाई तूफान का असर वेरावल पोर्ट में दिखाई देने लगा है। समुद्र की धाराओं के कारण लहरें ऊंची हो रही हैं। वेरावल पोर्ट पर 4500 बड़ी बड़ी नावें हैं। तूफान आने पर 100 से अधिक नौकाओं के क्षतिग्रस्त होने की संभावना है। ऐसे में राज्य में, NDRF की 36 टीमें काम कर रही हैं।

गिर सोमनाथ जिले के 40 गांवों में सिस्टम अलर्ट पर

गिर सोमनाथ जिले के 40 गांवों में सिस्टम अलर्ट पर

गुजरात के दक्षिणी तट पर रात आठ बजे के आसपास हवाई तूफान आने की संभावना है। इसलिए समुद्र में डेढ़ मीटर ऊंची लहरें उठ सकती हैं। गुजरात के जामनगर, वलसाड, अमरेली के तट पर अलर्ट दिया गया है। गिर सोमनाथ जिले के 40 गांवों में सिस्टम अलर्ट पर है। भावनगर के तटीय इलाकों में 34 गांवों को अलर्ट किया गया है। सेना के 10 कॉलम तैनात किए गये हैं। पोरबंदर, राजकोट, अमरेली और भावनगर में सेना तैनात की जाएगी। सेना, एनडीआरएफ के तटरक्षक बल, अग्निशमन विभाग की टीम सुसज्जित है।

चक्रवात सौराष्ट्र के सात और जिलों को प्रभावित करेगा

चक्रवात सौराष्ट्र के सात और जिलों को प्रभावित करेगा

मछुआरों को निर्देश दिया गया कि वे समुद्र तट पर न जाएं। सौराष्ट्र के 10 जिलों में, दो दिनों के स्कूल कॉलेज को बंद करने का आदेश दिया गया है। गुजरात में समुद्री इलाकों में 8 इंच बारिश होने की संभावना होती है। राज्य सरकार के अपने मंत्रियों को विभिन्न जिलों की जिम्मेदारी सौंपी है। देश के 50 गांवों के 6665 लोगों को स्थानांतरित करने की तैयारी की गई है। अगर स्थानीय लोगों ने स्थानांतरित करने से इनकार कर दिया, तो पुलिस को काफिले के साथ स्थानांतरित कर दिया जाएगा। ऊना में NDRF की एक और टीम दोपहर में पहुंचेगी। एनडीआरएफ की तीन टीमों को गिर सोमनाथ जिले में तैनात किया जाएगा। महुवा से कच्छ तक हवाई तूफान प्रभावित होगा। सौराष्ट्र के सात और जिलों को प्रभावित करेगा।

150 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक की गति से आगे बढ़ रहा तूफान

150 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक की गति से आगे बढ़ रहा तूफान

अरब सागर में उत्पन्न होने वाले हवाई तूफान 150 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक की गति से आगे बढ़ रहे हैं। हवाई तूफान तटीय मुंबई से गुजर रहे हैं। तूफान मुंबई के तटीय इलाकों से 300 किलोमीटर दूर है। मुंबई, कोंकण, ठाणे और पालघर में भारी बारिश हो सकती है। ऐसे में सभी एजेंसियां अलर्ट पर हैं।

11 गांवों के 13900 लोगों को स्थानांतरित किया

11 गांवों के 13900 लोगों को स्थानांतरित किया

जामनगर जिले के 25 गांवों के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित कर दिया गया है। जामनगर के दो गांवों और लालपुर के 11 गांवों के 13900 लोगों को स्थानांतरित किया जा रहा है। जिन्हें विभिन्न स्कूलों, आश्रमों और सामाजिक हॉलों में ले जाया गया है। तूफान की स्थिति से निपटने के लिए NDRF की टीम को तैनात किया गया है। इसके अलावा, मरीन कमांडो की टीम को तैनात किया गया है।

सौराष्ट्र के सभी 125 डिपो को निर्देश दिया गया

सौराष्ट्र के सभी 125 डिपो को निर्देश दिया गया

अहमदाबाद के हवामान में आज सुबह बदलाव देखा गया है। कुछ क्षेत्रों में वर्षा भी हुइ है। हालांकि, बारिश के छींटे के बाद, गरमी बढ़ गई है। राज्य के मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने कहा कि प्रभावित जिले के सभी लोगों को सुरक्षा स्थान पर स्थानांतरित कर दिया जाएगा। हवाई तूफान से एसटी सिस्टम को अलर्ट दिया गया है। एसटी के सभी कर्मचारियों की छुट्टी रद्द कर दी गई है। सौराष्ट्र के सभी 125 डिपो को निर्देश दिया गया है। अतिरिक्त 25-25 बसों को सभी डिपो में स्टैंडबाय पर रखा गया है।

मौसम विभाग और इसरो के साथ संपर्क में सरकार

मौसम विभाग और इसरो के साथ संपर्क में सरकार

ऊर्जा विभाग ने सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात में नियंत्रण कक्ष शुरू किए हैं। तूफान की स्थिति के बारे में, राज्य सरकार भारत के मौसम विभाग और इसरो के साथ लगातार संपर्क में है और स्थिति की निगरानी कर रही है। राजस्व विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पंकज कुमार ने एक समीक्षा बैठक में पूरी स्थिति की समीक्षा की है और मदद एवं बचाव कार्य के लिये जिला प्रशासन को आदेश दिये है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Cyclone Vayu Updates: Cyclone Vayu changes location, to make landfall on June 13 noon
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X