• search

क्या चीन पर शी जिनपिंग का कंट्रोल यूं ही बना रहेगा!

By Bbc Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    शी जिनपिंग
    EPA
    शी जिनपिंग

    चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ने राष्ट्रपति के कार्यकाल पर लगी सीमा को हटाने का प्रस्ताव रखा है.

    ये ऐसा कदम है जो मौजूदा नेता शी जिनपिंग को सत्ता में बनाए रखेगा. चीन की राजनीति में इसे एक निर्णायक घड़ी के तौर पर देखा जा रहा है.

    इस घोषणा की उम्मीद कई लोगों को थी. राष्ट्रपति शी जिनपिंग चीन की राजनीति में एक प्रभावशाली चेहरा बन चुके हैं.

    उनके साथ पार्टी के धड़ों की वफ़ादारी है, सेना और व्यापारी वर्ग है. इनकी वजह से वो देश के क्रांतिकारी संस्थापक माओत्से तुंग के बाद सबसे शक्तिशाली नेता माने जाते हैं.

    शी जिनपिंग की तस्वीरों के होर्डिंग पूरे देश में लगे हुए हैं और सरकारी गानों में उनके आधिकारिक छोटे नाम, 'पापा शी' का इस्तेमाल होता है.

    चीन कैसे चुनता है अपना राष्ट्रपति?

    चीन के बारे में वो बातें जो शायद ना पता हों!

    शी जिनपिंग
    Getty Images
    शी जिनपिंग

    जिनपिंग का कद पार्टी से बड़ा

    पिछले हफ़्ते तक़रीबन 80 करोड़ लोगों ने टेलीविज़न पर चीनी नए साल का जश्न देखा जहां पूरे प्रोग्राम में शी के 'चीन की नई सोच का ज़माना' का प्रचार होता रहा.

    दशकों तक कम्युनिस्ट पार्टी ने चीन पर राज किया है. अब शी जिनपिंग अपनी उसी पार्टी को पछाड़ कर स्पॉटलाइट में आए हैं जिस पार्टी ने उन्हें ऊंचाई तक पहुंचाया.

    अतीत में कम्युनिस्ट पार्टी मज़बूती के साथ नियंत्रण में रही, लेकिन पार्टी के सबसे ऊंचे पद पर बैठे व्यक्ति के हाथ में सीमित वक्त के लिए ही कमान आती थी.

    एक दशक के बाद नेता दूसरे नेता के हाथ में सत्ता पकड़ा देता था. शी जिनपिंग ने पद पर बैठने के शुरुआती दिनों में ही इस सिस्टम को तोड़ना शुरू कर दिया था.

    उन्होंने तुरंत एक भ्रष्टाचार विरोधी कैंपेन शुरू किया. इससे रिश्वत लेने या सरकारी पैसे का दुरुपयोग करने वाले 10 लाख से ज़्यादा पार्टी प्रतिनिधि अनुशासित हो गए.

    इसी कैंपेन ने शी जिनपिंग के राजनीतिक प्रतिद्वंदियों को भी ख़त्म कर दिया और शक जताने वालों को चुप करवा दिया.

    माओ के बाद 'सबसे ताकतवर' हुए शी जिनपिंग

    शी जिनपिंग को 2023 के बाद भी राष्ट्रपति बनाने की तैयारी

    शी जिनपिंग
    Getty Images
    शी जिनपिंग

    उत्तराधिकारी की कल्पना मुश्किल

    शी जिनपिंग ने अपने पद के शुरुआती दिनों में ही अपना राजनीतिक विज़न साफ दिखा दिया था जब उन्होंने अंतरराष्ट्रीय व्यापार के रास्ते बनाने के लिए 'वन बेल्ट वन रोड' जैसे प्रोजेक्ट को बढ़ावा दिया और 2020 तक चीन से ग़रीबी हटाने की योजना का एलान किया.

    लंबे वक्त से ऐसी अटकलें थीं कि वो खुद को राष्ट्रपति बनाए रखने की कोशिश करेंगे.

    शी जिनपिंग इतने शक्तिशाली हैं कि ये कल्पना करना भी मुश्किल है कि 5 साल में उनकी जगह लेने के लिए कोई आ पाएगा.

    पार्टी की लीडरशीप इस घोषणा के लिए ग्राउंडवर्क कर रही थी.

    पिछले अक्तूबर में पार्टी की एक अहम बैठक में शी जिनपिंग ने परंपरा तोड़ते हुए किसी उत्तराधिकारी का नाम आगे नहीं किया.

    ताकतवर शी जिनपिंग भारत के लिए ख़तरा या मौक़ा!

    जिनपिंग के 3 घंटे लंबे भाषण के क्या हैं मायने?

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Whether Chinas Xi Jinping control will remain the same

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X