• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

ये रानी 1700 साल पहले राज करती थी

By Bbc Hindi

लेडी ऑफ़ काओ
Reuters
लेडी ऑफ़ काओ

पेरू में वैज्ञानिकों को थ्रीडी प्रिटिंग तकनीक के ज़रिए एक ताकतवर महिला शासक का चेहरा दोबारा बनाने में कामयाबी मिली है.

लेडी ऑफ़ काओ के नाम से जानी जाने वाली ये शासक उत्तरी पेरू के मौचे संस्कृति से थीं और 1700 साल पहले इनकी मौत हो गई थी.

त्रुहिलियो के नज़दीक कच्ची मिट्टी की ईंटों से बने व्हाका काओ विएख़ो परामिड के अवषेशों के बीच उनकी ममी 2006 में मिली थी.

खोपड़ी की रचना का अध्ययन करने के बाद वैज्ञानिक उनके चेहरे को दोबारा बनाने में सफल हुए हैं.

लेडी ऑफ़ काओ को उनके ताज और सोने और तांबे के सिक्कों के साथ दफनाया गया था. उनकी कब्र में कई हथियार भी पाए गए थे जिनमें दो बड़े-बड़े गदे और 23 भाला फेंकने वाले भी शामिल थे.

लेडी ऑफ़ काओ की ममी
Reuters
लेडी ऑफ़ काओ की ममी

आधुनिक तरीकों से किए गए ममी के परीक्षण से पता चला कि शायद बच्चे के जन्म के समय हुई समस्यायों के कारण उनकी मौत क़रीब 20 साल की उम्र में हो गई थी.

उनके पैरों और चेहरे पर सांप और मकड़े से मिलते जुलते मैजिकल टैटू देखे गए.

जिस तरह से उनको दफनाया गया था, उसे देख कर लगता है कि वो या तो कोई पुजारी रही होंगी या फिर कोई शासक.

उनकी ममी की खोज से पहले माना जाता था कि मौचे संस्कृति में केवल पुरुष ही ऊंचे ओहदे पर होते थे.

लेडी ऑफ़ काओ
EPA
लेडी ऑफ़ काओ

पेरू के संस्कृति मंत्री सल्वाडोर डेल सोलर का कहना है कि उनके चेहरे को दोबारा बनाने पर पता चला कि उनका मुंह अंडाकार था और उनके ऊंचे चेकबोन थे जो काफी हद तक पेरू में रहने वालों जैसा है.

वो कहते हैं, "हम भविष्य और अतीत के इस अजीब संयोजन की घोषणा करते हैं. तकनीक की मदद से आखिर हम हमारी संस्कृति के एक पुराने राजनीतिक और धार्मिक नेता का चेहरा देखे सके."

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
This queen ruled 1700 years ago.
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X