• search

हर दिन छापे जा रहे है 3000 करोड़ के मूल्य के 500 के नोट, 2000 के नोटों की छपाई रुकी:आर्थिक मामलों के सचिव

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    नई दिल्ली। देश के कई राज्यों में करेंसी की किल्लत की वजह से रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने नोटों की छपाई की रफ्तार तेज कर दी है। देश के कई राज्यों में नोटबंदी जैसे हालात हो गए हैं। लोगों को पैसों के लिए घंटों तक एटीएम और बैंकों के बाहर लाइन लगाकर रहना पड़ रहा है। ऐसे में डिमांड पूरी करने के लिए नोटों की छपाई तेज कर दी गई है। आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग के मुताबिक 500, 200 और 100 रुपए के मूल्य के नोटों की छपाई तेजी से की जा रही है। उन्होंने बताया कि अतिरिक्त मांग को पूरा करने के लिए हर दिन 3000 करोड़ रुपए के 500 रुपए के नोट छापे जा रहे है।

     500 rupee notes worth Rs 3,000 cr printed daily: Garg

    सुभाष चंद्र गर्ग के मुताबिक देश में कैश की स्थिति बेहतर है । अतिरिक्त मांग को पूरा करने के लिए 500 के नोटों की छपाई को प्रति दिन 3000 करोड़ रुपए तक बढ़ा दिया गया है, जबकि 2000 रुपए के नए नोटों की छपाई रोक दी गई है। उन्होंने कहा कि हाल ही में देश में कैश की स्थिति का आकलन किया गया, जिसमें पाया गया कि अतिरिक्त मांग भी पूरी हो रही है और देश के 85 फीसदी एटीएम काम कर रहे हैं।

    आर्थिक मामलों के सचिव ने कहा कि इस समय देश में 2000 के 7 लाख करोड़ रुपए के मूल्य के नोट उपलब्ध है। ये नोट आवश्यता के अनुरूप हैं और पर्याप्त हैं। इसी वजह से फिलहाल 2000 रुपए के नए नोटों की छपाई रोकी गई है। इतना ही नहीं 2000 के नोटों से लेनदेन आम जनता के लिए सुविधाजनक नहीं होता है। इसलिए 2000 के बजाए 500,200 और 100 रुपए के नोटों की सप्लाई बढ़ाई गई है।

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Economic Affairs Secretary Subhash Chandra Garg said that Notes in denominations of Rs 500, Rs 200 and Rs 100 are convenient for transactions and the printing of Rs 500 notes has been ramped up to about Rs 3,000 crore every day to meet extra demand.

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more