• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

सिबिल (CIBIL) स्कोर क्या है? क्रेडिट लेने वालों को इससे लापरवाही पड़ सकती है भारी

Google Oneindia News

आज के दौर में कर्ज लेने की क्षमता का निर्धारण करने में कोलेटेरल सिक्योरिटी (गिरवी रखने वाली वस्तु) के साथ साथ अब सिबिल स्कोर (CIBIL) की बड़ी भूमिका है। अगर यह 750 से कम है तो ज्यादा सम्भावना है कि आपको कोई लोन ना दे। सिबिल दरअसल ऋण जानकारी में सबसे बड़े संग्राहक में से एक है। यह सभी प्रमुख बैंक, वित्तीय संस्थान, गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां, हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां, बड़े कॉर्पोरेट घरानों से जुड़ा हुआ है और इनके समेत 100 करोड़ से भी अधिक व्यक्तियों और व्यवसायों के क्रेडिट रिकॉर्ड की जानकारी इसके पास है। यह लोगों की क्रेडिट (उधार एवं ऋण) हिस्ट्री का आंकड़ा व्यापक, पुख्ता जानकारी व विश्लेषण के साथ देता है।

what is Cibil score which is critical for credit

आज हर बैंक और वित्तीय संस्थान यहां तक कि बड़ी कंपनिया भी लोन या उधार देने या वेंडर सेलेक्ट करने से पहले सामने वाले का सिबिल क्रेडिट स्कोर जरूर चेक करती हैं। ऐसे में यदि आपका सिबिल स्कोर 750 से नीचे है तो आपका ऋण या उधार सामर्थ्य की क्षमता पर्याप्त नहीं मानी जाती और आपका लोन उधार या व्यापार का अवसर रिजेक्ट हो सकता है।

आज शहरी क्षेत्र के साथ ग्रामीण व कस्बाई क्षेत्रों में भी लोग उपभोक्ता ऋण लेने लगे हैं जिनमें ज्यादातर वाहन ऋण या होम लोन होता है। निजी बैंकों के भी विस्तार होने से अब कई ग्राहकों को बैंक अकाउंट खोलने पर ही क्रेडिट कार्ड मिल रहा है। अतः कई बार अनजाने में ही लोगों से ऐसी गलतियां हो जाती हैं जिससे उनका पूरा क्रेडिट फ्यूचर ख़राब हो जाता है। एक बार भी आप डिफ़ॉल्ट हैं तो वह जानकारी आपके सिबिल रिकॉर्ड में हमेशा दिखती रहेगी। इसलिए लोगों को हमेशा इसके लिए सजग रहना चाहिए। आपके वित्तीय भुगतान रिकॉर्ड को CIBIL द्वारा नहीं बदला जा सकता क्योंकि जानकारी बैंकों और वित्तीय संस्थानों द्वारा साझा की जाती है।

अब यहां हम बताते हैं कि जाने अनजाने में कहां हम चूक कर अपनी क्रेडिट हिस्ट्री और सामर्थ्य को प्रभावित कर लेते हैं तथा हमारा सिबिल स्कोर प्रभावित हो जाता है। इसके कुछ प्रमुख कारण इस प्रकार हैं:

पहला कारण है कि हम क्रेडिट कार्ड का समझदारी से इस्तेमाल नहीं करते हैं और कई बार क्रेडिट लिमिट से अधिक क्रेडिट यूज कर लेते हैं जिसे ओवर-लिमिट कहते हैं ऐसे में क्रेडिट स्कोर प्रभावित होता है।

दूसरा कारण क्रेडिट कार्ड या ईएमआई रीपेमेंट हिस्ट्री है जो कुल क्रेडिट स्कोर का लगभग 35 प्रतिशत हिस्सा होता है, इसलिए आपके क्रेडिट स्कोर को बनाए रखने और सुधारने के लिए आपके बकाया रकम का समय पर भुगतान बहुत महत्वपूर्ण है।

तीसरा, यदि आप अपने क्रेडिट उपयोग अनुपात (CUR) को पार करते है, तो क्रेडिट स्कोर प्रभावित होता है। क्रेडिट उपयोग अनुपात एक माह में कार्ड की सीमा से संबंधित उपयोग को दर्शाता है। किसी व्यक्ति की क्रेडिट सीमा 1 लाख रुपये है, लेकिन उन्होंने 90,000 रुपये खर्च किए हैं, तो उनका CUR 90 फीसदी फीसदी होगा। एक ऊँचा अनुपात क्रेडिट-हंग्री के रूप में देखा जाता है और यह आपके क्रेडिट स्कोर को कम करता है। क्रेडिट उपयोग अनुपात को एक आदत न बनाएं। टोटल लिमिट का 70 या 80 फीसद से अधिक यूज करना भी आपके क्रेडिट स्कोर को कम कर सकता है।

चौथा, यदि आप न्यूनतम देय राशि ही केवल भुगतान करते हैं तो आपका स्कोर प्रभावित होता है। क्रेडिट कार्ड उपयोगकर्ताओं को इससे बचना चाहिए और पूरी बकाया बिल राशि या न्यूनतम देय राशि से कुछ अधिक का भुगतान करना चाहिए। इससे बचने का उपाय है कि ऑटोमेटिक पेमेंट सेट करें ताकि आप नियत तिथियों को भूल न करें।

पांचवां, लम्बे समय तक बकाया रहने पर सिबिल स्कोर तेजी से कम होता है। ऐसे में ईएमआई विकल्प चुनना बेहतर होता है। आपको अपने क्रेडिट कार्ड पर दी जा रही ईएमआई विकल्प का इस्तेमाल करना चाहिए। क्रेडिट कार्ड कंपनियां अपने ग्राहकों को अपने बकाये को ईएमआई में बदलने देती हैं। यह आपकी खरीदारी क्षमता को सीमित किए बिना आपके क्रेडिट स्कोर पर कोई विपरीत प्रभाव नहीं डालता है।

छठा, लोगों को कई लोन या कार्ड के लिए बेवजह आवेदन नहीं देना चाहिए एवं क्रेडिट कार्ड ऑफर के जाल में नहीं फंसना चाहिए। आज, कई क्रेडिट कार्ड कंपनियां आक्रामक तरीके से क्रेडिट कार्ड देती हैं। ऐसे में लोगों को एक ही समय में कई क्रेडिट एप्लिकेशन बनाने से बचना चाहिए। आपके रिकॉर्ड हिस्ट्री में आपके द्वारा की गई ऋण की पूछताछ भी दिखती है जो आपके सिबिल को कम करती है। कई कार्ड या कई लोन लेने पर ऐसा भी हो सकता है कि आप सभी कार्डों पर भुगतान का ट्रैक रखने में सक्षम न हों।

सांतवा, यदि आपके क्रेडिट कार्ड में लिमिट बैंक ने कम कर दी है तो उससे भी स्कोर गिर जाता है।

आठवां, सिक्योर्ड लोन और अनसिक्योर्ड लोन के बीच सही संतुलन ना होना भी आपके क्रेडिट स्कोर को प्रभावित कर सकता है। व्हीकल लोन और होम लोन सिक्योर्ड लोन की श्रेणी के अंतर्गत आते हैं, जबकि पर्सनल ऋण और क्रेडिट कार्ड अनसिक्योर्ड लोन श्रेणी के अंतर्गत आते हैं। अगर आपके पास केवल अनसिक्योर्ड लोन है तो आपके सिबिल स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है क्यूंकि वह इस निष्कर्ष पर पहुंचते हैं कि आप कोई कोलेटरल सिक्योरिटी देने की स्थिति में नहीं हैं। इसलिए, सिबिल स्कोर को बेहतर बनाने के लिए, लोन प्रोफाइल में सुरक्षित और असुरक्षित दोनों तरह के ऋणों का एक स्वस्थ संयोजन होना चाहिये।

नौंवा, कई बार हम कई जगह को-एप्लिकेंट या गारंटर हो जाते हैं और नियमित रूप से ऐसे गारंटी वाले और सह-स्वामित्व वाले ऋण खातों की निगरानी नहीं रख पाते। ऐसे में चूक हो जाती है। आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आप न केवल समय पर भुगतान करते हैं, बल्कि आपके साथ सह-हस्ताक्षरित, गारंटीकृत या संयुक्त रूप से रखे गए खातों के धारक भी अपने भुगतान में नियमित हैं, अन्यथा उनके चूक से आपकी क्रेडिट हिस्ट्री प्रभावित होती है।

दसवां, आपकी क्रेडिट रिपोर्ट में त्रुटि या गलत जानकारी भी एक कारण हो सकती है। नियमित रूप से आपको अपने क्रेडिट स्कोर की जांच खुद के लॉगिन से करते रहना चाहिए। हो सकता है कि बैंक ने गलती से क्रेडिट एजेंसियों को गलत जानकारी दे दी है या आप KYC धोखाधड़ी के शिकार हो गए हैं। यदि आप ऐसा पाते हैं तो आपको सभी क्रेडिट एजेंसियों से तुरंत संपर्क कर इसे सही करना चाहिए।

ग्यारहवां, यदि आपने अपने किसी ऋण या कार्ड का सेटलमेंट किया है तो यह भी आपके स्कोर को गिरायेगा और लाइफटाइम यह आपके रिकॉर्ड में दिखेगा जिस कारण बैंक आपको लोन देने से मना कर सकते हैं। इसलिए ऋण या कार्ड के सेटलमेंट से जहां तक हो बचना चाहिए। हो सकता है कि कुछ हजार के कार्ड सेटलमेंट के चक्कर में भविष्य में इस लम्बे जीवन में जरुरत पड़ने पर आपको कोई ऋण ही ना मिले। यह आपके भविष्य के ऋण की संभावनाओं को भी समाप्त कर सकता है। इसलिए इस विकल्प का इस्तेमाल ना ही करें तो अच्छा है।

बारहवां कारण यदि आपका कोई भी लोन छोटा या बड़ा या तो ओवरड्यू रह जाता है या एनपीए हो जाता है तो आपका सिबिल तेजी से गिरता है। इतना कुछ होने के बाद भी ऐसा नहीं है कि ऋण लेना या क्रेडिट कार्ड का उपयोग बुरा होता है। यदि हम इसका समझदारी से उपयोग करते हैं तो यह अच्छा है। यदि आप अपने क्रेडिट कार्ड का उपयोग करने का सही तरीका जानते हैं, आप अपने दैनिक खर्चों का प्रबंधन करने के लिए चतुराई से इसका उपयोग करते हैं, तो यह एक बेहद प्रभावी और उपयोगी वित्तीय साधन है क्यूंकि यह 15 दिन से लगा कर 50 दिन तक ब्याज मुक्त उधार देता है।

रिवार्ड पॉइंट अर्जित करने के अलावा, कई जगह प्रवेश, लाउन्ज एक्सेस, ब्याज मुक्त ईएमआई जैसे कई छूट और ऑफर भी प्राप्त कर सकते हैं। इसी तरह ऋण का इस्तेमाल यदि आप बेहतर करते हैं तो यह आपके लिए फायदे का सौदा है, अन्यथा नहीं। लेकिन यदि आपका सिबिल स्कोर बिगड़ गया तो आपको क्रेडिट मिलने में भी समस्या आ सकती है।

यह भी पढ़ेंः आईएनएस विक्रांत: भारतीय नौसेना का नया गौरव

(इस लेख में लेखक ने अपने निजी विचार व्यक्त किए हैं. लेख में प्रस्तुत किसी भी विचार एवं जानकारी के प्रति Oneindia उत्तरदायी नहीं है।)

Comments
English summary
what is Cibil score which is critical for credit
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X