• search
राजस्थान न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

जिसे बुढ़ापे का सहारा बनने के लिए गोद लिया, उसी ने कर डाला मर्डर, अब मिली उम्रकैद

By दुर्गसिंह राजपुरोहित
|

BARMER NEWS, बाड़मेर। जिले के बायतू थाना क्षेत्र अंतर्गत चवा गांव में गोद के पुत्र द्वारा पिता की हत्या करने के मामले में अनुसूचित जाति एवं जनजाति (अत्याचार निवारण प्रकरण) के न्यायधीश सुश्री वमितसिंह ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। न्यायधीश ने तमाम सबूतों व 18 गवाहों के बयान के बाद आरोपी दाऊराम निवासी चवा को पिता की हत्या के आरोप में दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास व 10 हज़ार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है।

Life imprisonment to son in Barmer Rajasthan

विशिष्ट लोक अभियोजक सवाई माहेश्वरी ने बताया कि करीब 1 वर्ष पूर्व 02 मार्च 2018 को परिवादी लाधाराम ने पुलिस थाना बायतू में पुलिस को रिपोर्ट देकर बताया था कि 01 मार्च की रात्रि करीब 11 बजे उसका छोटा भाई पुरखाराम अपनी ढाणी में था। उस दौरान उसके भाई गोमाराम के लड़के दाऊराम ने उसके भाई पुरखाराम के साथ लाठी से मारपीट की। जिससे पुरखाराम के सिर में गंभीर चोट लगने से मौके पर ही उसकी मृत्यु हो गई।

लव स्टोरी में छात्रा ने पहले हाथ की नस काटी, फिर नहर में कूदी, दोनों बार यूं बची जिंदा

रिपोर्ट के अनुसार दाऊराम ने पुरखाराम से जमीन के विवाद के कारण घर मे घुसकर मारपीट कर पुरखाराम की हत्या कर दी। बायतू पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच की और आरोपी के विरुद्ध न्यायालय में आरोप पत्र पेश किया। न्यायालय ने घटना में प्रयुक्त लाठी और आरोपी के कपड़ों पर लगे मृतक के खून के आधार व 18 गवाहों के आधार पर आरोपी को भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास व 10 हज़ार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। गौरतलब है कि आरोपी डाऊराम मृतक पुरखाराम का गोद पुत्र था। अभियोजन पक्ष की ओर से सवाई कुमार माहेश्वरी ने पैरवी की।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Life imprisonment to son in Barmer Rajasthan
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X