• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

फिर से सक्रिय हुए लश्‍कर ए तैयबा के ट्रेनिंग कैंप्‍स, हाफिज सईद के बेटे ने संभाला जिम्‍मा

|

इस्‍लामाबाद। पाकिस्तान के मीरपुर और सियालकोट में आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का ट्रेनिंग कैंप फिर से शुरू हो गया है। इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि अंतरराष्ट्रीय दबाव के डर से पाक इंटेलीजेंस एजेंसी आईएसआई ने कुछ समय पहले इसे बंद कर दिया था। अब ये ट्रेनिंग कैंप्‍स फिर से एक्टिव हैं और हाफिज सईद का बेटा तलहा इसे ऑपरेट कर रहा है।

hafiz-saeed.jpg

कश्‍मीर के लिए होगा कंट्रोल रूम

रिपोर्ट में कहा गया है कि लश्कर के लिए खोला गया यह कैंप मीरपुर के मांगला और सियालकोट के हेड मराल में है। लश्कर ने इन कैंपों के लिए आतंकियों की भर्ती भी शुरू कर दी है। भर्ती स्वात घाटी के पास पाकिस्तान-अफगानिस्तान सीमा से सटे कबीलाई इलाकों, पेशावर, क्वेटा और इलाका-ए-घैर में की जा रही है। पिछले दिनों आईएसआई और आतंकी संगठनों के बीच कई बैठकें भी हुईं थी। इनमें पीओके में सक्रिय कई आतंकी संगठनों के कमांडरों ने हिस्सा लिया था। इसके बाद तय किया गया कि 'कश्मीरी जेहाद' के कंट्रोल रूम पीओके और पाक-अफगान सीमा पर बनाए जाएंगे। साथ ही आतंकियों की नई भर्ती पर भी जोर दिया जाएगा। कुछ दिनों पहले जाजर्टाउन विश्वविद्यालय की क्रिस्टीन फेयर ने हडसन इंस्टीट्यूट थिंक-टैंक में एक गोलमेज सम्मेलन के दौरान कहा कि वास्तव में पाकिस्तान सेना, लश्कर के आतंकियों को ट्रेनिंग देती है और इसी वजह से वे इतने सक्षम हैं। क्रिस्‍टीन की मानें तो लश्कर, आईएसआई का एक अच्छा मुखौटा है।

English summary
Lashkar-e-Taiba training camps which was closed by ISI active again.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X