चुनाव परिणाम 
मध्‍य प्रदेश - 230
PartyLW
CONG50
BJP40
BSP00
OTH00
राजस्थान - 199
PartyLW
CONG140
BJP60
IND00
OTH00
छत्तीसगढ़ - 90
PartyLW
BJP40
CONG10
IND00
OTH00
तेलंगाना - 119
PartyLW
TRS30
TDP, CONG+10
AIMIM00
OTH00
मिज़ोरम - 40
PartyLW
CONG00
MNF00
MPC00
OTH00
  • search
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

    अविश्वास प्रस्ताव: बीजेपी को डरा-धमकाकर समर्थन क्यों करती है शिवसेना?

    By अखिलेश श्रीवास्तव
    |

    नई दिल्ली। शिवसेना प्रेमिका की तरह रूठती है और थोड़ा मनाने पर मान भी जाती है। सुबह शिवसेना नेता संजय राउत ने ये कहकर बीजेपी के खेमे की सांसें फुला दी थीं कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ही तय करेंगे कि वो विपक्ष के लाए अविश्वास प्रस्ताव का करेंगे या नहीं। इससे पहले संसद के बजट सत्र में जब टीडीपी मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाई थी तो शिवसेना ने ऐलान किया था कि अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान के दौरान वो अनुपस्थित रहेगी। हालांकि गुरुवार दोपहर बाद पार्टी ने अपने सांसदों को व्हिप जारी करके सरकार के समर्थन में वोट करने के निर्देश दे दिए।

    इसे भी पढ़ें:- #NoConfidenceMotion के खिलाफ वोट करेगी शिवसेना, अमित शाह ने की उद्धव ठाकरे से बात

    अविश्वास प्रस्ताव पर बीजेपी को मिला शिवसेना का साथ

    अविश्वास प्रस्ताव पर बीजेपी को मिला शिवसेना का साथ

    दरअसल अमित शाह और मोदी के नेतृत्व वाली बीजेपी के साथ, शिवसेना के संबंध उतने अच्छे नहीं रहे जितने कि अटल-आडवाणी वाली बीजेपी और बाल ठाकरे वाली शिवसेना के थे। शिवसेना ने प्रधानमंत्री के तौर पर मोदी का समर्थन तो किया था, लेकिन सरकार बनने के बाद ही दोनों दलों के बीच संबंधों में खटास पैदा हो गई। एक तो शिवसेना को मंत्रिमंडल में उचित प्रतिनिधित्व नहीं दिया गया और ऊपर से शिवसेना की आपत्ति के बावजूद सुरेश प्रभु को कैबिनेट में जगह दी गई।

    शिवसेना ने जारी किया व्हिप

    शिवसेना ने जारी किया व्हिप

    इसके बाद महाराष्ट्र में भी देवेंद्र फडनवीस सरकार के साथ कई मुद्दों पर टकराव होता रहा। उसके बाद हाल ही में हुए महाराष्ट्र के लोकसभा चुनाव में दोनों पार्टियां एक-दूसरे के खिलाफ लड़ीं और शिवसेना को हार का मुंह देखना पड़ा। इन तमाम तल्खियों के बीच शिवसेना कई मुद्दों पर केंद्र और फडनवीस सरकार की खुलेआम आलोचना करती नजर आई। शिवसेना ये ऐलान भी कर चुकी है कि लोकसभा का चुनाव वो अकेले अपने दम पर लड़ेगी, हालांकि बदली हुईं परिस्थितियों में ये लगता नहीं है।

    यूं बदलते रहें हैं शिवसेना-बीजेपी के रिश्ते

    यूं बदलते रहें हैं शिवसेना-बीजेपी के रिश्ते

    लोकसभा उपचुनाव के तुरंत बाद, मोदी सरकार के चार साल पूरे होने पर "समर्थन के लिए संपर्क" अभियान के तहत बीजेपी अध्य़क्ष अमित शाह खुद मातोश्री पहुंचे थे और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात कर तल्खी को कम करने की कोशिश की थी। सुबह संजय राउत के बयान ने बीजेपी को डरा दिया था लेकिन अमित शाह ने उद्धव ठाकरे से फोन पर बात की और पार्टी ने अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ मोदी सरकार के समर्थन का फैसला किया।

    अमित शाह ने उद्धव ठाकरे से की फोन पर बात

    अमित शाह ने उद्धव ठाकरे से की फोन पर बात

    दरअसल शिवसेना की जो कट्टर हिंदूवादी राजनीति रही है, उसके चलते वो कोई दूसरी राह पकड़ भी नहीं सकती। दोनों पार्टियां उग्र हिंदुत्व की राजनीति करती हैं और दोनों की राजनीतिक दिशा भी एक जैसी ही है। ऐसे में जब तक एकदूसरे के हित सधते रहें तो दोनों पार्टियों के अलगाव की कोई वजह नहीं हो सकती। दिक्कत तब होती है जब हितों को टकराव होता है। ऐसा होने पर शिवसेना खुलकर आलोचना भी करती है और बीजेपी को धमकाती भी है।

    नाराजगी के बावजूद एक साथ हैं शिवसेना-बीजेपी

    नाराजगी के बावजूद एक साथ हैं शिवसेना-बीजेपी

    बीजेपी भी अपने सबसे पुराने सहयोगी को अपने साथ रखने के दबाव में है। टीडीपी के साथ छोड़ने पर ये दबाव और भी बढ़ गया है। ऐसे में वो किसी भी कीमत पर अपने बचे हुए सहयोगियों को नहीं खोना चाहती। खासकर उग्र हिंदुत्व की राजनीति करने वाली शिवसेना को तो बिल्कुल नहीं। आरएसस की तरफ से भी भाजपा को जो सुझाव मिला है, उसमें भी सहयोगियों के बीच पार्टी की स्वीकार्यता बढ़ाने को कहा गया है। दूसरी तरफ विपक्षी खेमे बंदी की वजह से भी भाजपा दबाव में है। सारा विपक्ष मोदी सरकार और भाजपा के खिलाफ एकजुट हो रहा है, ऐसे में एनडीए का नेतृत्व करने वाली बीजेपी पर ये दबाव ज्यादा है कि वो अपने सहयोगियों को अपने पाले से किसी भी कीमत पर छिटकने ना दे, बीजेपी इसलिए भी कुछ भी कीमत चुकाकर अपने सहयोगियों को खुश रखना चाहती है।

    इसे भी पढ़ें:- सपा-बसपा ने तय किया यूपी में गठबंधन फॉर्मूला, मायावती खुद लड़ेंगी चुनाव, राहुल-सोनिया की सीटें छोड़ेंगे

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    No Confidence Motion : Why shiv sena first threatens and then supports BJP
    For Daily Alerts

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more