• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

DIG Anant Dev: वो अधिकारी जिसे गैंगस्टर विकास दुबे मामले में पोल खुलने के बाद किया गया सस्पेंड

|

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में कानपुर के बिकरु कांड की एसआईटी जांच के बाद रिपोर्ट में दोषी पाए गए तत्कालीन एसएसपी और वर्तमान में डीआईजी अनंत देव तिवारी को निलंबित कर दिया गया है। इसके अलावा उत्तर प्रदेश सरकार ने अनंत देव के खिलाफ विभागीय कार्रवाई करने का भी आदेश दिया है। बता दें कि अनंत देव उत्तर प्रदेश के कानपुर में बिकरु घटना (जहां 8 पुलिसकर्मी मारे गए थे) में शामिल थे। अनंत देव के खिलाफ ये कार्रवाई एसआईटी की रिपोर्ट आने के बाद की गई है। एसआईटी के मुताबिक कानपुर बिकरु मामले में अनंत देव के खिलाफ जांच की सिफारिश की गई थी।

    Kanpur Bikru Case: SIT रिपोर्ट के बाद DIG अनंत देव निलंबित, जांच में मिले दोषी | वनइंडिया हिंदी
    क्या है मामला ?

    क्या है मामला ?

    मारे गए गैंगस्टर विकास दुबे के निवास पर पुलिस मुठभेड़ के बाद शहीद सीओ देवेंद्र मिश्रा का एक ऑडियो वायरल हुआ था। वायरल ऑडियो में विकास दुबे के घर छापे से पहले सीओ देवेंद्र मिश्रा और एसपी ग्रामीण के बीच फोन पर हुई बातचीत है। इस ऑडियो में सीओ देवेंद्र मिश्रा ने चौबेपुर एसओ और पूर्व एसएसपी अनंत देव पर गंभीर आरोप लगाए थे। गौरतलब है कि कानपुर के बिकरु गांव में दो जुलाई 2020 की रात कुख्यात अपराधी विकास दुबे और उसके साथियों ने सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की घेरकर हत्या कर दी थी।

    कौन हैं अनंत देव तिवारी?

    कौन हैं अनंत देव तिवारी?

    पूर्व डीआईजी अनंत देव उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले के मूल निवाली हैं, कानपुर से उनका गहरा नाता रहा है उनके कई परिजन यहीं शहर में रहते हैं। अनंत ने अपनी शिक्षा फतेहपुर से पूरी की और कॉलेज खत्म करने के बाद सिविल सर्विस की तैयारी के लिए इलाहाबाद (प्रयागराज) चले आए। अनंत देव 1986 बैच के पीपीएस अफसर हैं, फिर प्रमोशन के बाद उन्हें आईपीएस बनाया गया। वह 1998 में एक साल के लिए कानपुर में तैनात थे।

    कानपुर में किए कई एनकाउंटर

    कानपुर में किए कई एनकाउंटर

    कानपुर में तैनाती के दौरान अनंत देव ने स्वरूप नगर, कलेक्टरगंज समेत तीन सर्किलों की जिम्मेदारी निभाई। इस दौरान अनंत देव कानपुर में कई गिरोहों और अंडरवर्ल्ड से जुड़े अपराधियों के एनकाउंटर के लिए भी जाने गए, उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान डी-39 गैंग की कमर तोड़ दी थी। इसके अलावा अनंत देव ने अतीक गैंग और दाउद इब्राहीम के कई अपराधियों को जेल की सलाखों के पीछे पहुंचाया। इसके बाद साल 2007 में मायावती सरकार ने डकैतों के खात्में के लिए उनकी तैनाती पाठा में करा दी।

    80 अधिकारी और कर्मचारी दोषी

    80 अधिकारी और कर्मचारी दोषी

    मीडिया रिपोर्ट के अनुसार हाल ही में बिकरु कांड को लेकर एसआईटी ने हाल ही में अपनी रिपोर्ट पेश की है जिसमें 80 अधिकारियों और कर्मचारियों को दोषी पाया गया है। अनंत देव के अलावा इस मामले में कई अन्य अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है। इस मामले पर उत्तर प्रदेश गृह विभाग के मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि तत्कालीन डीआईजी अनंत देव को निलंबित कर दिया गया है। जब मुख्य सचिव से पूछा गया कि क्या इस मामले में कुछ अन्य पुलिस अधिकारियों को भी निलंबित क्या गया है? अवस्थी ने कहा, फिलहाल अभी आनंद देव के खिलाफ ही एसआईटी की रिपोर्ट के बाद कार्रवाई की गई है।

    कानपुर बिकरू कांड: SIT रिपोर्ट में दोषी पाए गए DIG अनंत देव निलंबित, दूसरे अधिकारियों के खिलाफ भी तैयारी

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    full story of DIG Anant Dev tiwari who was suspended in the matter of gangster Vikas Dubey
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X