Arushi Murder Case: 9 साल तक चला मामला, जानिए कब-कब क्या-क्या हुआ?

Written By:
Subscribe to Oneindia Hindi
    Aarushi Case: Allahabad High court to give Verdict Today| वनइंडिया हिंदी

    नई दिल्ली। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने आज आरुषि हत्याकांड में अपना फैसला सुनाते हुए राजेश तलवार और नुपुर तलवार को बरी कर दिया है। आरुषि तलवार के माता-पिता राजेश तलवार और नुपुर तलवार ने कोर्ट में याचिका दायर की थी। 16 मई 2008 को आरुषि तलवार का शव घर से बरामद हुआ था। राजेश और नुपुर ने सीबीआई कोर्ट के खिलाफ याचिका दायर की थी, जिसमें सीबीआई कोर्ट ने आरुषि की हत्या के लिए नुपुर और राजेश तलवार को दोषी करार दिया था। तलवार दंपति 2013 से गाजियाबाद की डासना जेल में हैं। आईए डालते हैं इस पूरे मामले की टाइमलाइ पर एक नजर

    Arushi Murder Case

    Arushi Murder Timeline

    16 मई 2008
    आरूषि का शव नोएडा स्थित घर में बेडरूम में मिला, आरुषि का गला रेतकर हत्या की गई थी। घर में काम करने वाले हेमराज पर हत्या का आरोप लगा

    17 मई 2008
    हेमराज का शव घर की टेरेस से बरामद हुआ।

    18 मई 2008
    पुलिस ने बताया कि हत्या सर्जिकल औजार से हुई है, घर के भीतर किसी पर शक जताया गया

    19 मई 2008
    तलवार के घर में काम करने वाले दूसरे कर्मचारी विष्णु पर हत्या का आरोप लगा

    21 मई 2008
    दिल्ली पुलिस ने हत्या की जांच शुरू की

    22 मई 2008
    हत्या का आरोप तलवार दंपति पर लगा, इस मामले की जांच ऑनर किलिंग के तौर पर शुरू हुई। पुलिस ने आरुषि के दोस्तों से पूछताछ शुरू की, जिससे उसने हत्या से पहले 45 दिनों में 688 बार बात की थी।

    23 मई 2008
    राजेश तलवार को दोहरे हत्याकांड के आरोप में गिरफ्तार किया गया

    1 जून 2008
    सीबीआई ने मामले की जांच शुरू की

    13 जून 2008
    सीबीआई ने राजेश तलवार, कृष्णा को गिरफ्तार किया

    20 जून 2008
    राजेश तलवार का लाई डिटेक्टर टेस्ट कराया गया

    25 जून 2008
    नुपुर तलवार का लाई डिटेक्टर टेस्ट कराया गया, पहले टेस्ट में कुछ खास नहीं निकला

    3 जुलाई 2008
    सुप्रीम कोर्ट ने उस पीआईएल को खारिज किया जिसमे नार्को एनालिसिस टेस्ट को चुनौती दी गई थी

    12 जुलाई 2008
    राजेश तलवार को डासना जेल से आजाद किया गया।

    5 जनवरी 2010
    सीबीआई ने तलवार दंपति का नार्को टेस्ट कराने के लिए याचिका दायर की

    29 दिसंबर 2010
    सीबीआई ने क्लोजर रिपोर्ट फाइल की, नौकरों को क्लीन चिट दी गई, लेकिन दंपति पर सवाल खड़ा किया गया।

    25 जून 2011
    राजेश तलवार पर गाजियाबाद कोर्ट में हुआ हमला

    9 फरवरी 2011
    कोर्ट ने सीबीआई रिपोर्ट को मंजूर किया, तलवार दंपति पर इस रिपोर्ट में सबूतों को मिटाने का आरोप था

    21 फरवरी 2011
    तलवार दंपति ने इलाहाबाद हाई कोर्ट का रुख किया, उनके खिलाफ ट्रायल को रद्द करने की मांग की ।

    18 मार्च 2011
    हाई कोर्ट ने तलवार दंपति की याचिका को खारिज किया और दंपति के खिलाफ जांच का आदेश दिया।

    19 मार्च 2011
    तलवार दंपति ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया, जिसमें ट्रायल को रोकने की अपील की

    6 जनवरी 2012
    सुप्रीम कोर्ट ने तलवार दंपति की याचिका को खारिज किया और ट्रायल को जारी रखने का निर्देश दिया

    11 जून 2012
    स्पेशल जज एस लाल के सामने फिर से शुरू हुआ मामले का ट्रायल

    10 अक्टूबर 2013
    फाइनल बहस शुरू हुई

    25 नवंबर 2013
    गाजियाबाद की सीबीआई कोर्ट ने दंपति को आरोपी ठहराया

    26 नवंबर 2013
    सीबीआई कोर्ट ने तलवार दंपति को उम्रकैद की सजा सुनाई

    21 जनवरी 2014
    राजेश तलवार और नुपुर तलवार ने इलाहाबाद हाई कोर्ट में सीबीआई कोर्ट के फैसले के खिलाफ अपील की

    19 मई 2014
    इलाहाबाद हाई कोर्ट ने जमानत याचिका को खारिज किया

    11 जनवरी 2017
    इलाहाबाद हाई कोर्ट ने तलवार दंपति के सीबीआई कोर्ट के फैसले के खिलाफ याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा।

    17 सितंबर 2017
    इलाहाबाद हाई कोर्ट ने आरुषि और हेमराज हत्याकांड में अपना फैसला सुरक्षित रखा।

    इसे भी पढ़ें- PICs: बेटे की हत्या पर बेबस मां ने पांच महीने के इंतजार के बाद तोड़ी चुप्पी

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Arushi Murder Case - Allahabad High Court today will pronounce its verdict in the Aarushi killing case. Aarushi Talwar's parents Rajesh Talwar and Nupur Talwar filed a petition in the court.

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.