• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

शादी के 48 वर्षों में पत्नी को देखे बिना नहीं बिताया एक भी दिन, हुआ निधन तो इस तरह किया 'जिंदा'

|

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के आगरा में स्थित ताज महल को दुनिया की खबसे खूबसूरत प्यार की निशानी माना जाता है। आज के जमाने में भी कई ऐसे कपल हैं जो एक-दूसरे से बहुत गहरा प्रेम करते हैं, और उसी प्यार को जाहिर करने के लिए वह कुछ ऐसा कर जाते हैं जिसके लिए दुनिया उन्हें हमेशा याद रखती है। तमिलनाडु के मदुरै में रहने वाले एक व्यापारी ने भी अपनी पत्नी की याद में कुछ ऐसा किया जिसके बाद लोग उनके प्यार को सलाम कर रहे हैं।

पत्नी की याद में बनवाई प्रतिमा

पत्नी की याद में बनवाई प्रतिमा

दरअसल, करीब एक महीने पहले मदुरै के बिजनेसमैन सेथुरमन की पत्नी का निधन हो गया था। पत्नी के जाने के बाद सेथुरमन को उनकी बहुत याद आने लगी, ऐसे में पत्नी की कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने एक तरकीब निकाला जो अब सुर्खियों में हैं। सेथुरमन अपनी पत्नी पिचईमनियामल को रोज देख सके इसके लिए उन्होंने उनकी एक प्रतिमा बनवाकर घर में स्थापित कर दी।

पिचईमनियामल की तरह ही किया गया श्रृंगार

पिचईमनियामल की तरह ही किया गया श्रृंगार

प्रतिमा देखने में हूबहू पिचईमनियामल की तरह दिखाई देती हैं, एक नजर में देखने पर ऐसा लगता है जैसे कुर्सी पर सेथुरमन की पत्नी ही बैठी हों। प्रतिमा का श्रृंगार भी बिल्कुल पिचईमनियामल की तरह ही किया गया है। सेथुरमन बताते हैं कि पत्नी की प्रतिमा को बनाने में फाइबर ग्लास और रबर का इस्तेमाल किया गया है, साथ ही इसमें विशेष तरह के रंगों का भी प्रयोग किया गया है। विल्लुपुरम के एक मूर्तिकार प्रसन्ना ने सेथुरमन के मनमाफिक 6 फीट ऊंची प्रतिमा बनाई।

कर्नाटक के व्यापारी से मिली प्रेरणा

कर्नाटक के व्यापारी से मिली प्रेरणा

सेथुरमन ने बताया कि उन्हें पत्नी के मरणोपरांत उनकी की प्रतिमा बनवाने के लिए प्रेरणा कर्नाटक के एक व्यापारी से मिली थी। उन्होंने बताया कि कुछ दिनों पर उस व्यापारी ने भी अपनी पत्नी की इसी प्रकार एक मूर्ति तैयार करवाई थी। सेथुरमन भी उससे प्रेरित हुए। रबर और विशेष रंगों के प्रयोग से पत्नी की यह प्रतिमा बनवाई। सेथुरमन के अनुसार उनकी शादी को 48 साल हो गए थे।

48 वर्षों से देख रहे हैं पत्नी का चेहरा

48 वर्षों से देख रहे हैं पत्नी का चेहरा

सेथुरमन बताते हैं कि पछले 48 वर्षों में ऐसा एक दिन भी नहीं गया जब उन्होंने अपनी पत्नी पिचईमनियामल का चेहरा ना देखा हो। पत्नी की मौत के बाद उनकी कमी बहुत खलने लगी थी, अपनी बेचैनी को दूर करने के लिए उन्होंने पत्नी की प्रतिमा बनवाने का फैसला किया। जब वह इस प्रतिमा को देखते हैं तो उन्हें उसके साथ जुड़ाव महसूस करते हैं। पत्नी की प्रतिमा बनवाने के बाद सेथुरमन सोशल मीडिया पर चर्चा का केंद्र बन गए हैं।

पत्नी की याद में पति ने बनवाया 'प्यार का मंदिर'

पत्नी की याद में पति ने बनवाया 'प्यार का मंदिर'

ऐसे ही तेलंगाना में एक रिटायर्ड सरकारी कर्मचारी ने अपनी पत्नी के मरने के बाद उसकी याद में एक स्मारक बनवाया था। अपनी पत्नी की याद में बनाए गए इस स्मारक को लोग सच्ची मोहब्बत की निशानी के तौर पर देख रहे हैं। तेलंगाना बिजली विभाग से रिटार्यड कर्मचारी चंद्रा गौड़ ने अपनी मरहूम पत्नी की याद में एक मंदिर का निर्माण करवाया था। तेलंगाना के सिद्दीपट जिले के गोसानीपल्ली में गौड़ ने पत्नी राजमणि की याद में मंदिर बनवाया था। गंभीर बीमारी के चलते राजमणि का देहांत हो गया था।

दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा अब CISF के हवाले, आज से 270 जवान दिन-रात यहां रहेंगे, गृहमंत्री शाह ने दी मंजूरी

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
businessman from Madurai unveiled statue of his wife after 30 days of her demise
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X