• search

बड़े भाई की मदद से कर्ज कम करेंगे अनिल अंबानी, जियो के साथ करेंगे करार

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    नई दिल्ली। कर्ज में डूबे अनिल अंबानी ने अपने बोझ को कम करने की रणनीति तैयार कर ली है। रिलायंस कम्युनिकेशंस के मालिक अनिल अंबानी ने अपने 45000 करोड़ के कर्ज को कम करने की तैयारी कर ली है। बड़े भाई अनिल अंबानी की मदद से वो अपना कर्ज घटाकर 6000 करोड़ करने की तैयारी कर रहे हैं।

     RCom to exit from SDR framework, to reduce debt by Rs 25,000 crore by March 2018: Anil Ambani

    अनिल अंबानी ने कहा कि उनकी कंपनी आरकॉम 4जी स्पेक्ट्रम शेयरिंग करेगी। अनिल कंपनी की कंपनी जियो के साथ 4G स्पेक्ट्रम शेयरिंग करार करने जा रही है। इसकी मदद से उनकी कंपनी पर कर्ज का बोझ थोड़ा कम होगा। प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए अनिल अंबानी ने कहा कि हमने कर्ज को 45000 करोड़ से घटाकर 6000 करोड़ करने का लक्ष्य कर लिया है। उन्होंने जानकारी दी कि उनकी कंपनी जियो के साथ समझौता करेगी। आपको बता दें कि अनिल अंबानी की कंपनी को एसएसटीएल के जरिए 4जी और 5जी का लाइसेंस मिला है।

    उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि कंपनी स्पेक्ट्रम, फाइबर और पॉवर कारोबार बिक्री की तैयारी कर चुकी है। अंबानी ने कहा कि उनके पास कर्ज को कम करने के लिए आरकॉम की हिस्सेदारी बेचने के लिए करीब 9 ऑफर्स आए हैं। फिलहाल कंपनी परिसंपत्ति को बेचने की प्रक्रिया पूरी करना चाहत रही है, जिसमें करीब 49 दिनों का वक्त लगेगा।

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Reliance Group head Anil Ambani said that the wireless division of the company, RComBSE 30.78 % will exit SDR mechanism and that it would reduce its debt by about Rs 25,000 crore through the sale of some of its spectrum, tower and real estate assets.

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more