• search
उत्तराखंड न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

हल्द्वानी: लापता कोरोना मरीज की लाश 24 घंटे से पड़ी थी अस्पताल के बाथरूम में, नहीं थी किसी को खबर

|

हल्द्वानी। उत्तराखंड में बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण के बीच हल्द्वानी जिले से इंसानियत को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। यहां एक कोरोना संक्रमित मरीज का शव अस्पताल के बेसमेंट स्थित बाथरूम में पड़ा मिला। सूचना पर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट और कोतवाली पुलिस ने घटना स्थल का निरीक्षण किया। हालांकि अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है कि मरीज की मौत किन कारणों के चलते हुए है।

कोरोना मरीज 5 अगस्त को अस्पताल से हो गया था गायब

कोरोना मरीज 5 अगस्त को अस्पताल से हो गया था गायब

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रामनगर के गुलरघट्टी के रहने वाले रहीस अहमद (56) को मंगलवार को सुशीला तिवारी अस्पताल में लाया गया था। उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजीटिव आई थी। रहीस अहमद अस्पताल के सी-वार्ड में भर्ती थे जहां से वह बुधवार को अचानक गायब हो गए थे। मरीज़ों की गिनती करने के दौरान एक मरीज़ की जैसी ही ख़बर अस्पताल मैनेजमेंट को लगी इसकी सूचना पुलिस को दी गई। इसके बाद पुलिस की टीमें इस कोरोना संक्रमित मरीज़ की तलाश में जुटी रहीं, लेकिन बाहर खाक छानने के बाद पुलिस के हाथ कुछ नहीं लगा।

7 अगस्त को अस्पताल के बाथरूम में पड़ा मिला शव

7 अगस्त को अस्पताल के बाथरूम में पड़ा मिला शव

अस्पताल के एमएस डॉ. अरुण जोशी ने बताया कि अस्पताल की टीम ने गुरुवार सुबह से मरीज की तलाश शुरू की। उसका शव मानसिक रोग वार्ड के पास बाथरूम में मिला। हालांकि मरीज़ के अचानक गायब होने और फिर बाथरूम में मृत हालात में मिलने से वार्ड में तैनात अस्पताल स्टाफ पर कई सवाल उठ रहे हैं। वहीं, अस्पताल प्रशासन का कहना है कि वह डायबिटीज, निमोनिया रोग से पीड़ित था और उसका इलाज चल रहा था।

परिजनों ने की जांच की मांग

परिजनों ने की जांच की मांग

सूचना पर सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिंह, सीओ शांतनु पाराशर और कोतवाल संजय कुमार ने अपनी टीम के साथ मौका मुआयना किया। कोतवाल के अनुसार प्राथमिक जांच से पता चला कि वह सी वार्ड से रैंप के रास्ते से अंदर बेसमेंट तक गया। इधर, मरीज के बेटे ने जिला प्रशासन से इस घटना की जांच कराने की मांग की है। उसने कहा कि उसके पिता की मौत किन कारणों से हुई है। यह स्पष्ट होना चाहिए। एसपी सिटी अमित श्रीवास्तव का कहना है कि शव का पोस्टमॉर्टम कराने के बाद जांच की जाएगी।

होगी मजिस्ट्रेटी जांच

होगी मजिस्ट्रेटी जांच

सुशीला तिवारी अस्पताल में रामनगर के मरीज के भागने और 24 घंटे बाद अस्पताल के शौचालय में उसका शव मिलने की मजिस्ट्रेटी जांच होगी। डीएम सविन बंसल ने सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिंह को जांच सौंपी हैं और 15 दिन के भीतर रिपोर्ट देने को कहा है।

ये भी पढ़ें:- कांग्रेस विधायक हरीश धामी मलबे के तेज सैलाब में बहे, कार्यकर्ताओं ने बचाई जान

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
covid-19 patient body found in sushila tiwari hospital bathroom
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X