• search
लखनऊ न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

मुजफ्फरनगर राहत कैंप में 40 बच्चों की मौत पर कठघरे में अखिलेश सरकार

|
camps
लखनऊ। मुजफ्फरनगर दंगें के बाद शरणार्थियों के लिए बनाए गए राहत शिविरों पर अब उत्तर प्रदेश सरकार घिरती जा रही है। पहले सपा मुखिया ने यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया कि कैंप में कोई पीड़ित नहीं ब्लकि षंड्यत्रकारी है तो वहीं अब मानवाधिकार आयोग ने सरकार को नोटिस जारी कर 40 बच्चों की मौत पर सवाल खड़ा कर दिया है।

राहत शिविरों में ठंड के कारण बच्चों की मौत होने की खबर पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने यूपी के मुख्य सचिव तथा मुजफ्फरनगर एवं शामली के जिलाधिकरियों को नोटिस जारी किया। आयोग ने दंगा राहत शिविरों में अत्यधिक ठंड के कारण 40 बच्चों की मौत पर स्वत: संज्ञान लेते हुए नोटिस जारी किा है।

इस नोटिस में आयोग की तरफ से कहा गया है कि शिविरों में रह रहे लोगों के पास पर्याप्त मात्रा में कंबल तक नहीं हैं, जिसके कारण शामली और मुजफ्फरनगर में नवजातों एवं बच्चों की मौत हुई। आयोग ने यह भी कहा है कि यदि मीडिया में आई खबरें सही हैं तो यह नवजातों और बच्चों के अधिकारों के उल्लंघन का गंभीर मुद्दा उठाती हैं।

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

लखनऊ की जंग, आंकड़ों की जुबानी
Po.no Candidate's Name Votes Party
1 Rajnath Singh 633026 BJP
2 Poonam Shatrughan Sinha 285724 SP

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
National Human Rights Commission sought reports from Uttar Pradesh government and the district authorities of Muzaffarnagar and Shamli on reported death of around 40 children due to extreme cold in relief camps meant for riot victims.
For Daily Alerts

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more