• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

रूस ने अब HIV पॉजिटिव कैदियों को जंग की आग में झोंका! हार के डर से तिलमिला उठे पुतिन

यूक्रेन के सैन्य खुफिया विभाग ने बताया कि ऐसे 100 से अधिक बीमार कैदियों को रंगीन ब्रेसलेट पहनाकर तैनात किया गया है।
Google Oneindia News

रूस और यूक्रेन के बीच जारी संघर्ष (Russia-Ukraine Conflict) अब एक अहम मोड़ पर पहुंच चुका है। रूस की सैन्य लामबंदी और यूक्रेन जंग के लिए नए सैन्य कमांडर जनरल सर्गेई सुरोविकिन के आने से यूक्रेन में जंग की दशा और दिशा ही बदलती जा रही है। खबर है कि जंग में रूस ने अपने हजारों सैनिकों को गवां दिए हैं। इसके लिए राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने सैन्य लामबंदी की घोषणा की थी। अब खबर है कि, रूस वैसे खूंखार अपराधियों को सेना में भर्ती कर रहा है जो भयंकर और लाइलाज बीमारियों से पीड़ित हैं।

रूस का खतरनाक खेल

रूस का खतरनाक खेल

ब्रिटेन की खुफिया जानकारी के मुताबिक, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की निजी सेना वैगनर समूह (The Wagner group) खूंखार अपराधियों को यूक्रेन जंग में भेज रहा है। खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक, पुतिन की निजी सेना रूस के वैसे अपराधियों की आग में झोंक रहा है जो पहले से ही गंभीर रोग से ग्रसित हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि, पुतिन की प्राइवेट आर्मी एचआईवी और हेपेटाइटिस और अन्य भयंकर रोग से ग्रसित अपराधियों की जंग में भेजने के लिए भर्ती कर रहा है।

पुतिन बीमार कैदियों को जंग में भेज रहे हैं

पुतिन बीमार कैदियों को जंग में भेज रहे हैं

ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, वैगनर समूह ने सेना में भर्ती करने के लिए अपेक्षाकृत उच्च भर्ती मानकों को बनाए रखा है। खबर के मुताबिक रूस जिन लोगों को जंग में भेज रहा है वे पहले से पेशेवर सैनिकों के तौर पर काम कर चुके हैं। रिपोर्ट के मुताबिक रूस के लिए यूक्रेन जंग में भेजने के लिए सैनिकों की जरुरत है और ऐसे में वह बीमारी से ज्यादा अनुभव को प्राथिमिकता दे रहे हैं।

100 से अधिक बीमार कैदी भर्ती हुए

100 से अधिक बीमार कैदी भर्ती हुए

वहीं यूक्रेन के सैन्य खुफिया विभाग ने बताया कि ऐसे 100 से अधिक बीमार कैदियों को रंगीन ब्रेसलेट पहनाकर तैनात किया गया है। खुफिया विभाग का कहना है कि, इससे रूसी सैनिकों में आक्रोश का माहौल बढ़ रहा है। वहीं रूस ने कहा कि यूक्रेन ने सेवस्तोपोल के पास अपने काला सागर बेड़े पर शनिवार को 16 ड्रोन से हमला किया और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से हमले पर चर्चा के लिए सोमवार को बैठक करने को कहा।

रूस ने अनाज आपूर्ति समझौते में अपनी भागीदारी खत्म की

रूस ने अनाज आपूर्ति समझौते में अपनी भागीदारी खत्म की

इस हमले के बाद,रूसी रक्षा मंत्रालय ने शनिवार को अनाज आपूर्ति समझौते में अपनी भागीदारी स्थगित करने का एलान किया। एक बयान जारी कर रक्षा मंत्रालय ने कहा, सेवास्तोपोल के पास काला सागर में तैनात रूसी नौसैनिक बेड़े पर हुए आतंकी हमले के विरोध में रूस अनाज आपूर्ति समझौते में अपनी भागीदारी तुरंत प्रभाव से स्थगित कर रहा है। रूसी रक्षा मंत्रालय ने आरोप लगाया कि यूक्रेन ने नौ ड्रोन से रूसी सैन्य बेड़े के साथ ही वहां मौजूद कई नागरिक नौकाओं को भी निशाना बनाया। इस हमले रूस का एक जंगी जहाज बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुआ है।

ये भी पढ़ें :रूस की चाल से अनाज का निर्यात रुका! घुटने पर आए पश्चिम देश, बाइडेन बोले, भुखमरी बढ़ेगीये भी पढ़ें :रूस की चाल से अनाज का निर्यात रुका! घुटने पर आए पश्चिम देश, बाइडेन बोले, भुखमरी बढ़ेगी

Comments
English summary
The Wagner group, which is called president Vladimir Putin's private army, is apparently recruiting Russian convicts suffering from diseases including HIV and hepatitis C for the Ukraine war, according to UK intelligence.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X