• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अब Covid19 मरीजों का प्लाज्मा थेरेपी से हो सकेगा इलाज, जानिए क्या है यह थैरेपी?

|

बेंगलुरू। कर्नाटक के स्वास्थ्य शिक्षा मंत्री डा. के सुधाकर ने मंगलवार को बताया है कि कर्नाटक को ICMR ने प्लाज्मा थेरेपी (Plasma Therapy) के जरिए Covid19 मरीजों के इलाज की मांग पर अपनी सहमति जता दी है। डा. सुधाकर ने कहा है कि Covid-19 मरीजों के इलाज में प्लाज्मा थेरेपी पर बहुत सी उम्मीदें टिकी हुई हैं और उन्हें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि आईसीएमआर ने इस पर सहमति प्रदान कर दी है।

कोरोना वैक्सीन: ऑक्सफोर्ड ही नहीं, ये 6 वैक्सीन भी पहुंच चुकी हैं थर्ड फेज के ट्रायल में

plasma
    Coronavirus : दो दिन तक Rapid Test Kit से नहीं होंगे Corona Test, ICMR ने लगाई रोक | वनइंडिया हिंदी

    एचसीजी बेंगलुरु इंस्टीट्यूट ऑफ ओन्कोलॉजी (H।C।G Bangalore Institute Of Oncology) के डॉ. विशाल राव को संबोधित एक पत्र में उन्होंने कहा कि प्लाज्मा थेरेपी के जरिए उन्हें भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद द्वारा इलाज की अनुमति मिल गई है। दरअसल, आसीएमआर ने विगत 12 अप्रैल को Covid-19 के इलाज के लिए प्लाज्मा विधि पर शोध के लिए घोषणा करके इच्छुक संस्थानों से संपर्क करने को कहा था।

    12 अगस्‍त को रूस से आ रही है पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन, जानिए इसके बारे में सबकुछ

    जानिए, लॉकडाउन के दौरान भारत में कितनी बढ़ी है इंटरनेट की खपत? हैरतअंगेज हैं आंकड़े!

    plasma

    गौरतलब है Covid-19 के इलाज के लिए ठीक हो चुके मरीज के खून के प्लाज्मा थैरेपी का इस्तेमाल करने में कई भारतीय संस्थानों ने रुचि दिखाई थी। आइसीएमआर को कुल 99 संस्थानों के ऐसे आवेदन मिले थे, जो इलाज को और अधिक नियंत्रित व सुरक्षित वातावरण में प्रयोग करके देखने में सहयोग करने के इच्छुक थे।

    मुंबई की इन दो झुग्गियों में मलेरिया रोधी दवा HCQ का परीक्षण कर सकता है प्रशासन?

    कोविड-19 के मरीजों के इलाज में होगा प्लाज्मा तकनीकी का प्रयोग

    कोविड-19 के मरीजों के इलाज में होगा प्लाज्मा तकनीकी का प्रयोग

    ICMR से मिली मंजूरी के बाद अब इस प्लाज्मा थेरेपी तकनीकी का प्रयोग 'COVID19 खतरनाक SARS-Cov-2' वायरस से संक्रमित लोगों के इलाज के लिए किया जाएगा। एचसीजी बेंगलुरु इंस्टीट्यूट ऑफ ओन्कोलॉजी के डा. विशाल राव इस देश में इस तकनीकी के विशेषज्ञों में से एक हैं।

    कर्नाटक में संक्रमित लोगों की संख्या 400 के पार, 17 की हुई मौत

    कर्नाटक में संक्रमित लोगों की संख्या 400 के पार, 17 की हुई मौत

    कर्नाटक के कलबुर्गी जिले में कोविड-19 से 80 साल के एक बुजुर्ग की मौत के बाद राज्य में मृतकों की संख्या 17 हो गई है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री के। सुधाकर ने मंगलवार को ट्वीट कर बताया कि बुजुर्ग व्यक्ति पिछले तीन साल से पार्किन्सन बीमारी से पीड़ित थे और सोमवार को एक अस्पताल में उनकी मौत हो गई।

    कर्नाटक में लॉकडाउन प्रतिबंधों में अभी कोई ढील नहीं दी जाएगी

    कर्नाटक में लॉकडाउन प्रतिबंधों में अभी कोई ढील नहीं दी जाएगी

    कर्नाटक स्वास्थ्य विभाग की ओर से सोमवार शाम जारी बुलेटिन के मुताबिक राज्य में कोविड-19 के मरीजों की संख्या 400 के पार चली गई है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा और Covid​​-19 टास्क फोर्स को तीन या चार दिनों में बैठक करने और किसी भी ढील के बारे में निर्णय लेने के लिए अधिकृत किया। उनका कहना है कि कर्नाटक में लॉकडाउन प्रतिबंधों में अभी कोई ढील नहीं दी जाएगी।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    In a letter addressed to Dr. Vishal Rao of the HCG Bangalore Institute of Oncology (HCG Bangalore Institute of Oncology), he said that he has received treatment permission by the Indian Council of Medical Research through plasma therapy. In fact, the ACMR last April 12 announced to research on the plasma method for the treatment of Covid-19 and asked the interested institutions to approach it.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X