• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

ट्रैक्टर रैली के दौरान लाल किले पर तैनात एसएचओ ने बताई अपने ऊपर हुए हमले की पूरी कहानी

|

नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस के दिन किसानों द्वारा कृषि कानूनों के विरोध में निकाली गई ट्रैक्टर रैली के दौरान दिल्ली में जो हिंसक झड़पें हुई उससे सार्वजनिक संपत्ति को काफी नुकसान हुआ है। प्रदर्शनकारी किसानों ने इस दौरान जमकर बवाल काटा। उनकी सुरक्षाकर्मियों के साथ हिंसक झड़पें भी हुईं, जिसमें कई सुरक्षाकर्मी घायल हो गए। जब प्रदर्शनकारी किसानों ने दिल्ली के लालकिले पर चढ़ाई की उस वक्त लालकिले पर वजीराबाद के एसएचओ पीसी यादव तैनात थे।

PC YADAV

इस हिंसा में वह भी घायल हुए। उनके सिर, नाक और हाथ पर चोट आई है। उन्होंने मीडिया से उस पूरे हमले की कहानी बयां की। उन्होंने कहा,"हम लाल किले में तैनात थे जब कई लोग वहां घुस गए। हमने उन्हें किले की प्राचीर से हटाने की कोशिश की, लेकिन वे आक्रामक हो गए .... हम किसानों के खिलाफ बल का उपयोग नहीं करना चाहते थे इसलिए हमने यथासंभव संयम बरता।" उन्होंने कहा कि इस घटना में हमारे कई साथी घायल हो गए। हमार एक साथी गंभीर रूप से घायल हो गया। उन्होंने यह भी बताया कि सभी प्रदर्शनकारियों के हाथ में हथियार थे।

दिल्ली में मचे उत्पात पर किसान करेंगे मंथन, सिंघू बॉर्डर पर दोपहर 3 बजे किसान संगठनों की अहम बैठक

उनके अलावा इस हिंसा में घायल हुए डीसीपी नॉर्थ, दिल्ली के संचालक संदीप ने बताया कि, "कई हिंसक लोग अचानक लाल किला पहुंच गए। नशे में धुत किसान या वे जो भी थे, उन्होंने हम पर अचानक तलवार, लाठी और अन्य हथियारों से हमला किया।

स्थिति बिगड़ रही थी और हिंसक भीड़ को नियंत्रित करना हमारे लिए बहुत मुश्किल था।" गौरतलब है, गणतंत्र दिवस के दिन दिल्ली में प्रस्तावित किसान ट्रैक्ट्रर रैली अचानक उग्र हो गई थी जिसके बार पूरी दिल्ली में हिंसा भड़क गई थी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
During the tractor rally, the SHO posted on the Red Fort told the full story of the attack on himself.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X