आतंकी बुरहान वानी के पिता ने शहीद भगत सिंह से कर डाली बेटे की तुलना, सेना पर उठाए सवाल

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

श्रीनगर। सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए हिजबुल आतंकी बुरहान वानी के पिता मुजफ्फर वानी ने उरी आतंकी हमले और कश्मीर हिंसा को लेकर बड़ा बयान दिया है। वानी ने अपने बेटे की तुलना शहीद भगत सिंह से करते हुए कहा कि एक दिन भारतीय भी मानेंगे कि वह आजादी की लड़ाई लड़ रहा था।

पढ़ें: भारत-PAK के बीच चलने वाली समझौता एक्सप्रेस की रफ्तार थमी

टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए गए इंटरव्यू में मुजफ्फर वानी ने कहा कि कश्मीर घाटी में हुर्रियत के बंद बुलाने से हिंसा नहीं भड़कती। लोगों ने इतने ज्यादा अपनों को खो दिया है कि अब वे समाधान चाहते हैं। उन्होंने कहा, 'भारत-पाकिस्तान के बीच बातचीत के जरिए कश्मीर का मुद्दा सुलझाया जाना ही बेहतर है। सभी भारतीय और सभी पाकिस्तानी हमारे भाई हैं। हम सभी को प्यार करते हैं।'

आंख, दिल, गुर्दे निकालकर बेचती है पाकिस्तानी फौज !

'कश्मीर आने वाला हर आतंकी कश्मीरी हो जाता है'

'कश्मीर आने वाला हर आतंकी कश्मीरी हो जाता है'

उरी आतंकी हमले में 19 जवानों के शहीद होने और हमले में पाकिस्तान का हाथ होने की बात पर मुजफ्फर वानी ने कहा, 'पाकिस्तान कैसे हो सकता है? लड़ाका बनकर जो भी कश्मीर में प्रवेश करता है वह कश्मीरी हो जाता है। भारत से भी कोई मुसलमान आ सकता है। यह हमला कश्मीरी लड़ाकों की ओर से भी हो सकता है।' सेना पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि जब तक कश्मीर की समस्या हल नहीं होती ऐसे हमले होते रह सकते हैं, लेकिन भारतीय फौज क्या कर रही है। जब सीमाएं सील हैं तो कोई सीमा पार से कैसे आ सकता है? और कोई सीमा पार कर पंपोर तक कैसे पहुंच सकता है?

पढ़ें: हवाई हमले में शीर्ष तालिबान कमांडर समेत मारे गए 11 आतंकी

'फौज में भर्ती होना चाहता था बुरहान'

'फौज में भर्ती होना चाहता था बुरहान'

मुजफ्फर वानी ने कहा कि उनके बेटे ने 2010 में घर छोड़ा था, उसके बाद से वह दो-तीन बार ही उससे मिले। 10 साल की उम्र में उसने कहा था कि वह आगे चलकर सेना में भर्ती होगा। वह क्रिकेट खेलना चाहता था। उन्होंने कहा, 'मेरा बेटा अगर क्रिकेट खेलता तो भारत के लिए खेलता पाकिस्तान के लिए नहीं।'

पढ़ें: पेरिस समझौते पर हामी भरने से भारत को होंगे ये बड़े फायदे

नवाज शरीफ के भाषण पर जताई सहमति

नवाज शरीफ के भाषण पर जताई सहमति

मुजफ्फर वानी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के भाषण की तारीफ की और कहा कि उन्होंने सब कुछ सच कहा है। वानी ने कहा, 'जब भगत सिंह अंग्रेजों के खिलाफ लड़ रहे थे तो वो उन्हें आतंकी कहते थे, लेकिन भारतीय हमेशा उन्हें स्वतंत्रता सेनानी मानते रहे। इसी तरह जब कश्मीर समस्या हल हो जाएगी तो भारतीयों को अहसास होगा कि बुरहान वानी भी स्वतंत्रता सेनानी ही था।' उन्होने कहा कि नवाज शरीफ ने अपने भाषण में जैसा कहा कि बुरहान की मौत कश्मीर में आजादी की लड़ाई की नई मुहिम बन गई है, वह सही है।

पढ़ें: एलियंस से संपर्क साधने के लिए चीन ने उठाया ये कदम

पीएम मोदी पर भी उठाए सवाल

पीएम मोदी पर भी उठाए सवाल

आतंकी बुरहान के पिता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी सवाल उठाए और कहा कि मोदी को सिर्फ जवानों के मारे जाने की फिक्र हुई, कश्मीर में 100 से ज्यादा लोग मारे गए उनके बारे में कुछ नहीं कहा।

पढ़ें: सावधान! 10 रुपये का सिक्का आपको देशद्रोही बना सकता है

मुजफ्फर वानी ने फिलहाल राजनीति में आने से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि वह सरकारी नौकरी में हैं और अभी सर्विस के छह साल बचे हैं। वानी ने कहा, 'मुझे नहीं लगता कि मैं राजनीति में आना चाहता हूं।'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
burhan wani was a freedom fighter and wanted to join army says his father
Please Wait while comments are loading...