• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

'आफताब को श्रद्धा से अपनी बहन की तरह प्यार करना चाहिए था, गैर-मुस्लिम से शादी करने की इजाजत नहीं देता इस्लाम'

श्रद्धा वाकर हत्या मामले में दारुल उलूम रहमानिया मदरसा के मौलाना ने आपत्तिजनक बयान दिया है। दारुल उलूम रहमानिया मदरसा के मौलाना वकील अहमद कासमी ने कहा कि आफताब को श्रद्धा वाकर को अपनी बहन की तरह प्यार करना चाहिए था।
Google Oneindia News

श्रद्धा वाकर हत्या मामले में दारुल उलूम रहमानिया मदरसा के मौलाना ने आपत्तिजनक बयान दिया है। यूपी के सीतापुर के लहरपुर में स्थित दारुल उलूम रहमानिया मदरसा के मौलाना वकील अहमद कासमी और जमीयत-उल-हिंद के जिला महासचिव ने अपने बयान में कहा कि आफताब पूनावाला को श्रद्धा वाकर को अपनी बहन की तरह प्यार करना चाहिए था। मौलाना ने दोनों के बीच रिश्ते को नकारते हुए कहा कि इस्लाम सेम सेक्स (समलैंगिक) संबंधों को मान्यता देता है।

'इस्लाम मुसलमानों को गैर-मुसलमानों से शादी करने की इजाजत नहीं देता'

'इस्लाम मुसलमानों को गैर-मुसलमानों से शादी करने की इजाजत नहीं देता'

मौलाना कासमी ने आफताब और श्रद्धा के रिश्ते का विरोध करते हुए कहा कि इस्लाम मुसलमानों को गैर-मुसलमानों से शादी करने की इजाजत नहीं देता है। आफताब के LGBTQ सपोर्टर होने के बारे में बोलते हुए कासमी ने कहा कि इस्लाम में कानून संहिताबद्ध हैं, और जो कुछ भी उनके खिलाफ जाता है, इस्लाम उसे बोलने या करने की अनुमति नहीं देता है। हम इस्लामी कानून के बाहर कुछ भी करने वाले किसी भी व्यक्ति को दंडित नहीं कर सकते हैं, लेकिन अल्लाह मृत्यु के बाद उस व्यक्ति को दंडित करता है।

समलैंगिक संबंध मानवता के लिए घिनौनी

समलैंगिक संबंध मानवता के लिए घिनौनी

उन्होंने कहा कि दुनिया जानती है कि शादी में एक पुरुष और एक महिला का होना जरूरी है। इस दुनिया में कोई भी धर्म एक लड़के को एक लड़के से या एक लड़की को एक लड़की से शादी करने का औचित्य नहीं दे सकता है। भगवान ने पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग लिंग बनाया है। व्यक्ति को शांति तभी प्राप्त हो सकती है जब विवाह के लिए बनाई गई व्यवस्था को प्राप्त किया जाए। समलैंगिक संबंध मानवता के लिहाज से भी एक घिनौनी चीज है।

ऐसे शादी में बच्चे कहां से आएंगे?

ऐसे शादी में बच्चे कहां से आएंगे?

उन्होंने आगे कहा कि लड़का लड़के के पास जाकर क्या करेगा? शादी के बाद दो चीजें होती हैं। एक तो यह कि पति-पत्नी साथ रहते हैं और एक-दूसरे से प्रेम करते हैं। वे रात बिताते हैं, और परिणामस्वरूप बच्चे पैदा होते हैं। हालांकि, अगर एक पुरुष एक पुरुष से शादी करता है और एक महिला एक महिला से शादी करती है तो बच्चे कहां से आएंगे?

लिव-इन रिलेशनशिप इस्लाम का उल्लंघन

लिव-इन रिलेशनशिप इस्लाम का उल्लंघन

कासमी ने कहा कि लिव-इन रिलेशनशिप इस्लाम का उल्लंघन है। किसी भी मुसलमान को इसमें लिप्त नहीं होना चाहिए। आफताब और श्रद्धा के लिव-इन रिलेशनशिप को लेकर कासमी ने कहा कि इस्लामी कानून लिव-इन रिलेशनशिप की इजाजत नहीं देता। किसी व्यक्ति को बिना विवाह के संबंध बनाने की अनुमति नहीं है। दोस्ती की बुनियाद अलग होती है, लेकिन बिना शादी के कोई पति-पत्नी के बराबर रिश्ते में आ जाए तो उसे 'जीना' कहते हैं। आफताब ने अपराध किया है।

मुसलमान को एक मुसलमान से ही शादी करनी चाहिए

मुसलमान को एक मुसलमान से ही शादी करनी चाहिए

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि एक मुसलमान को एक मुसलमान से ही शादी करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर उन्हें किसी गैर-मुस्लिम से प्यार हुआ होता तो उन्हें उसे बहन की तरह प्यार करना चाहिए था। मुस्लिम समुदाय में शादी के लिए कई लड़कियां हैं। शादी के लिए धार्मिक व्यवस्था का इस्तेमाल करना गलत है।

यह भी पढ़ें- श्रद्धा वाकर हत्याकांड: केंद्रीय मंत्री के बयान से लोगों में गुस्सा, शिवसेना MP ने PM से बर्खास्त करने की मांग

Comments
English summary
Aftab poonawala should have loved Shraddha walker like his own sister Maulana Qasmi marry non Muslims
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X