एलियंस से संपर्क साधने के लिए चीन ने उठाया ये कदम

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

बीजिंग। दुनिया के सबसे बड़े रेडियो टेलीस्कोप ने अंतरिक्ष में तारों और ग्रहों की टोह लेना शुरू कर दिया है। चीन के महत्वाकांक्षी अंतरिक्ष प्रोजेक्ट के तहत रविवार से इसकी शुरुआत हो गई है जो धरती से बाहर की दुनिया और वहां की जिंदगी को भी दिखाएगा।

china

चीन ने इस तरह के वैज्ञानिक प्रोजेक्ट पर करोड़ों रुपये खर्च किए हैं। साथ ही इसकी मिलिट्री आधारित स्पेस प्रोग्राम पर भी खर्च बढ़ रहे हैं। जिनमें बीते महीने दूसरा स्पेस स्टेशन लॉन्च योजना भी शामिल है।

पढ़ें: आतंकी बुरहान वानी के पिता ने शहीद भगत सिंह से कर डाली बेटे की तुलना, सेना पर उठाए सवाल

पांच साल में बनकर हुआ तैयार

करीब 500 मीटर के व्यास वाले इस टेलीस्कोप को बनाने में पांच लगे हैं। इसमें करीब 10.8 करोड़ डॉलर खर्च हुए हैं।

चीनी की सरकारी न्यूज एजेंसी ने बताया कि टेलीस्कोप की लॉन्चिंग के मौके पर सैकड़ों लोग मौजूद थे। इसका नाम फास्ट (FAST) रखा गया है।

पढ़ें: पेरिस समझौते पर हामी भरने से भारत को होंगे ये फायदे

रेडियो सिग्नल से समझेंगे बातें

प्रोजेक्ट से जुड़े एक रिसर्चर ने बताया कि इसका मुख्य उद्देश्य यूनिवर्स में हो रहे विकास को दिखाना है। उन्होंने कहा, 'अगर धरती के बाहर की दुनिया में कहीं कोई रहता है तो वहां से हमें रेडियो सिग्नल मिलेंगे। ये ऐसे सिग्नल होंगे जिन्हें हम समझ पाएंगे।'

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
china launched biggest radio telescope to look into outer space
Please Wait while comments are loading...