• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

मंगल पर एलियन के निशान खोजने में जुटा नासा का रोवर, ग्रह पर मिले क्रेटर से मिलेगा सुराग

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, जुलाई 21: पृथ्वी से लॉन्च होने के लगभग एक साल बाद, नासा के मार्स 2020 पर्सीवरेंस रोवर ने लाल ग्रह पर एलियन जीवन की खोज शुरू कर दी है। नवीनतम तकनीक से लैस रोवर ने चित्रों और डेटा को नासा को वापस भेज दिया है। वैज्ञानिकों का कहना है कि यह मंगल ग्रह की धूल का अब तक का सबसे अच्छा संयोजन विश्लेषण है। वर्तमान में, छह पहियों वाला मंगल जांच जेजेरो क्रेटर के क्रेटेड फ्लोर फ्रैक्चर्ड रफ क्षेत्र में है।

जेज़ेरो क्रेटर मिल सकते है जीवन के प्रमाण

जेज़ेरो क्रेटर मिल सकते है जीवन के प्रमाण

वैज्ञानिकों के अनुसार, गड्ढा अरबों साल पहले एक झील थी, जो बाद में सूख गई। अब, रोवर इसी लाल जमीन पर मौजूद है और जांच के लिए नमूनों की तलाश कर रहा है। नासा के जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरीज के एस्ट्रोबायोलॉजिस्ट एबीगेल ऑलवुड ने एक बयान में कहा, अगर जेज़ेरो क्रेटर में जीवन रहा होगा, तो उस जीवन के प्रमाण मिल सकते है। ऑलवुड पीआईएक्सएल के चीफ हैं। पीआईएक्सएल ही मंगल पर जीवर खोजने की कोशिश कर रहा है।

रोवर इन उपकरणों की मदद से खोज रहा है जीवन

रोवर इन उपकरणों की मदद से खोज रहा है जीवन

पीआईएक्सएल के अलावा, दो और हंटर रोवर SHERLOC और WATSON का भी उपयोग किया जा रहा है। SHERLOC एक पराबैंगनी लेजर का उपयोग करके मंगल ग्रह की चट्टानों में खनिजों की पहचान करता है। जबकि कैमरा वाटसन क्लोज़-अप तस्वीरें लेता है जिसे वैज्ञानिक गोलाई, बनावट और ग्रेन के आकार के लिए उनका विश्लेषण कर सकते हैं। मास्टर PIXL एक्स-रे का उपयोग करके चट्टान की रासायनिक संरचना का मानचित्रण करता है। ये अपनी सभी पावर को एक साथ मिलाकर, वे एक मजबूत इन्वेस्टीगेशन टीम बनाते हैं।

500 KM प्रति घंटे की रफ्तार से जा रहे 'UFO' का पीछा करते हुए दिखा जेट, VIDEO वायरल500 KM प्रति घंटे की रफ्तार से जा रहे 'UFO' का पीछा करते हुए दिखा जेट, VIDEO वायरल

वैज्ञानिकों ने मंगल ग्रह पर

वैज्ञानिकों ने मंगल ग्रह पर "सीमेंट" की उपस्थिति का पता लगाया

वाटसन द्वारा उसकी शुरुआती तस्वीरों ने पहले ही डेटा का एक संग्रह तैयार कर लिया है। वहीं वैज्ञानिकों ने डेटा का उपयोग करके मंगल ग्रह पर "सीमेंट" की उपस्थिति का पता लगाया है। वैज्ञानिकों का मानना है कि आगे के भूवैज्ञानिक निष्कर्ष हमें ग्रह के निर्माण के बारे में बताएंगे। इसके अलावा ग्रह पर एलियन जीवन की जांच करने में अहम साबित हो सकता है। मंगल के भूविज्ञान और जलवायु को चित्रित करके पर्सीवरेंस रोवर की यात्रा का उद्देश्य वर्तमान या पिछले एलियन जीवन के प्रमाण खोजना और लाल ग्रह की दुनिया में भविष्य के मानव अन्वेषण का मार्ग प्रशस्त करना है।

English summary
NASA's rover engaged in finding traces of aliens on Mars
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X