• search
भोपाल न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

उपार्जन केंद्रों पर गेहूं, धान, चना, मसूर और सरसों बेचने आने वाले किसानों की बायोमेट्रिक सिस्टम से होगी पहचान

|
Google Oneindia News

भोपाल। मध्य प्रदेश में एमएसपी यानी न्यूनतम सम​र्थन मूल्य का फायदा सिर्फ किसानों को ही मिले और बिचौलिए इसका लाभ न उठा सकें इसके लिए शिवराज सरकार तकनीक का उपयोग करने जा रही है. अब राज्य में गेहूं, धान, चना, मसूर और सरसों बेचने उपार्जन केंद्रों पर आने वाले किसानों की पहचान बायोमैट्रिक्स सिस्टम से पुख्ता की जाएगी. आधार नंबर के जरिए किसानों को वेरिफिकेशन होगा. खरीद केंद्रों पाइंट ऑफ सेल्स मशीन (पीओएस) का उपयोग भी पर किया जाएगा.

Farmers in Madhya Pradesh will be identified by biometric system

इस व्यवस्था को लागू करने के लिए राज्य नागरिक आपूर्ति निगम ई-उपार्जन पोर्टल में दर्ज किसानों के डिटेल्स प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के किसानों से मैच करवा रहा है. मध्य प्रदेश इलेक्ट्रानिक्स डेवलपमेंट कार्पोरेशन को यह जिम्मेदारी सौंपी गई है. आपको बता दें कि राजधानी दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन में एमएसपी का मुद्दा सबसे बड़ा है. किसान सरकार से एमएसपी पर खरीद का कानून बनाने की मांग कर रहे हैं. वहीं सरकार कह रही है कि एमएसपी पर खरीद पहले की तरह जारी रहेगी.

मध्य प्रदेश सीएम बोले-'प्रदेशवासियों को कोरोना से डरने की बजाय सावधान रहने की जरूरत है'मध्य प्रदेश सीएम बोले-'प्रदेशवासियों को कोरोना से डरने की बजाय सावधान रहने की जरूरत है'

ऐसी शिकायतें भी आ रही हैं कि एमएसपी पर खरीद का लाभ छोटे किसानों को न मिलकर आढ़तियों को मिलता है. इसमें सच्चाई भी है. छोटे किसान अपनी फसल को लेकर खरीद केंद्रों तक नहीं पहुंच पाते. आढ़तिए किसानों से उनकी फसल कम दाम में खरीदकर उपार्जन केंद्रों पर एमएसपी रेट पर बेचते हैं. इसको रोकने के लिए ही केंद्र सरकार अब एमएसपी का पैसा सीधे किसानों के बैंक खातों में भेजने पर विचार कर रही है.

मध्य प्रदेश में गेहूं, धान सहित अन्य फसलों की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद बढ़ती जा रही है. पिछले साल 129 लाख टन गेहूं खरीदकर मध्य प्रदेश ने पंजाब को पीछे छोड़ दिया था. राज्य में धान की भी रिकॉर्ड खरीद एमएसपी पर हुई है. इस बीच एमएसपी पर खरीद को लेकर किसान फर्जीवाड़े का आरोप भी लगते रहे हैं. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वयं शिकायतें मिलने पर कलेक्टरों से जांच कराई थी. खाद्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि सरकार भी चाहती है कि समर्थन मूल्य पर होने वाली खरीद का लाभ वास्तविक किसानों को ही मिले.

मध्य प्रदेश में कोरोना को काबू में करने के लिए लागू हो सकता है माइक्रो कंटेनमेंट जोन का फार्मूलामध्य प्रदेश में कोरोना को काबू में करने के लिए लागू हो सकता है माइक्रो कंटेनमेंट जोन का फार्मूला

इसके लिए व्यवस्थाओं को धीरे-धीरे ऑनलाइन किया जा रहा है. किसानों को उपज का भुगतान सीधे खातों में किया जा रहा है. वहीं, पंजीकृत किसानों से ही खरीद की व्यवस्था लागू की गई है. राजस्व विभाग के गिरदावरी एप में किसान अपनी जानकारी दर्ज करता है. इसमें वह बताता है कि उसने कौन-सी फसल कितने क्षेत्र में बोई है। ई-उपार्जन व्यवस्था के तहत किसान पंजीयन कराते समय भी अपनी जानकारी देता है. प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के लिए भी किसानों की पूरी जानकारी जुटाई गई है. अब तकनीक के सहारे बिचौलियों पर नकेल कसने का प्रयास किया जा रहा है.

Comments
English summary
Farmers in Madhya Pradesh will be identified by biometric system
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X