• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Banana Covid: कोरोना से जूझ रहा है देश, किसानों को परेशान करने आई एक और बीमारी

|

नई दिल्ली। पूरी दूनिया इस वक्त कोरोना वायरस से लड़ रही है। लेकिन इस संकट के दौर में फसल और खेती पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है। वैज्ञानिकों का दावा है कि केले की खेती में TR4 नाम का फंगस पाया जा रहा है कि जोकि केले के लिए काफी खतरनाक है। यही नहीं वैज्ञानिकों का दावा है कि जिस तरह से कोरोना वायरस इंसानों के लिए खतरनाक है, उसी तरह से यह फंगस केले की खेती के लिए उतना ही खतरनाक है। इस फंगस ने केले की फसल को काफी नुकसान पहुंचाया है। बता दें कि भारत केले का सबसे बड़ा उत्पादक है।

ताइवान से फैला

ताइवान से फैला

ट्रॉपिकल रेस 4 यानि TR4 की सबसे पहले पहचान ताइवान में की गई थी, जिसके बाद यह एशियाभर में फैला और यहां से यह फंगस मिडिल ईस्ट होते हुए अफ्रीका और लैटिन अमेरिका पहुंचा। यह फंगस पहले केले के पत्ते को नुकसान पहुंचाता है, जिससे पत्ते पीले पड़ने लगते हैं और फसल आने से पहले ही खराब होने लगती है। अभी तक इस फंगस का कोई इलाज सामने नहीं आ सका है। नेशनल रिसर्च सेंटर फॉर बनाना की डायरेक्टर एस उमा का कहना है कि आप इसे पौधों की दुनिया का कोरोना कह सकते हैं। इसके हॉटस्पॉट बिहार और उत्तर प्रदेश में पाए गए हैं, जिसे हमे कंटेन करने की कोशिश कर रहे हैं।

कोरोना जितना खतरनाक, नहीं है इलाज

कोरोना जितना खतरनाक, नहीं है इलाज

युनाइटेड नेसंश की फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गेनाइजेशन का कहना है कि TR4 पौधों के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक फंगस में से एक है। जैसे कोविड-19 का कोई इलाज नहीं है, वैसे ही अभी तक इसका भी कोई इलाज नहीं है। लिहाजा वैज्ञानिकों ने राय दी है कि पौधों को भी क्वारेंटीन किया जाए ताकि इसके संक्रमण को रोका जा सके। इस फंगस की वजह से अभी तक दुनिया भर में 26 बिलियन डॉलर की केले की फसल बर्बाद हो चुकी है। केला के चिप्स को स्वास्थ्यवर्धक स्नैक्स माना जाता है और इसे पूरी दुनिया में निर्यात किया जाता है। ऐसे में इस वायरस की वजह से केले के किसानों की चिंता काफी बढ़ गई है।

भारत सबसे बड़ा उत्पादक

भारत सबसे बड़ा उत्पादक

बता दें कि भारत में 27 मिलियन टन केले का उत्पादन हर वर्ष होता है, इसकी खेती 100 अलग-अलग प्रजाति के नामों से की जाती है। TR4 फंगस ने अधिकतर खेती को प्रभावित किया है। इस फंगस ने सबसे ज्यादा ग्रैंड नैन प्रजाति के केले को प्रभावित किया है जो सबसे ज्यादा बिकता है और जिसे सबसे ज्यादा लोग खाते हैं। TR4 को रोकने में विफलता की वजह से केले महंगे हो सकते हैं। एक केले से तकरीबन 110 कैलोरी, 0 ग्राम फैट, 1 ग्राम प्रोटीन, 28 ग्राम कार्बोहाइड्रेड, 15 ग्राम सुगर, 4 ग्राम फाइबर, 350 मिलिग्राम पोटैशियम और विटामिन सी, बी6, मिलता है।

इसे भी पढ़ें- क्या भारत में कोरना वायरस पहुंच गया है थर्ड स्टेज पर?, जानने के लिए देश के इन 10 शहरों में होगा सेरो सर्वे

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Banana Covid TR4 hits plantation more than 26 billion dollar farming wasted.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X