• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

Kanya Pujan 2022: आखिर क्यों 3 से 9 साल की कन्याओं की होती है पूजा? क्या है इसके पीछे कारण ?

Google Oneindia News

Kanya Pujan 2022: शारदीय नवरात्र का आज आठवां दिन है, आज का दिन मां दुर्गा के 8वें रूप को समर्पित है, जिसे कि 'महागौरी' कहते हैं। कहते हैं कि मां की पूजा तब तक अधूरी है, जब तक कि आप कन्या पूजन ना करें। जिसे कि 'कंचक' खिलाना भी कहते हैं।

केवल 3 से 9 साल की कन्याओं की पूजा क्यों होती है?

केवल 3 से 9 साल की कन्याओं की पूजा क्यों होती है?

आज के दिन छोटी-छोटी कन्याएं जब सजधजकर घर के आंगन में विचरती हैं, तो ऐसा मालूम होता है कि जैसे सच में मां दुर्गा ने बाल रूप धारण कर लिया है। लेकिन क्या आपको पता हैकि कन्या पूजन में केवल 3 से 9 साल की कन्याओं की पूजा क्यों होती है?

बाल रूप को 3 से 9 साल के बीच ही गिना जाता है

बाल रूप को 3 से 9 साल के बीच ही गिना जाता है

दरअसल बाल रूप को 3 से 9 साल के बीच ही गिना जाता है। जिस तरह से मां के नौ रूपों के नौ नाम हैं, ठीक उसी तरह से 3 से 9 साल की कन्याओं को भी अलग-अलग नामों से पुकारा जाता है।

जो कि निम्लिखित हैं..

कन्याओं के नाम अलग-अलग

कन्याओं के नाम अलग-अलग

  • 3 वर्ष की कन्या 'कौमारी' कहलाती हैं।
  • 4 वर्ष की कन्या 'त्रिमूर्ति' कहलाती हैं।
  • 5 वर्ष की कन्या 'कल्याणी' कहलाती हैं।
  • 6 वर्ष की कन्या 'रोहणी' कहलाती हैं।
  • 7 वर्ष की कन्या 'चंडिका' कहलाती हैं।
  • 8 वर्ष की कन्या 'शाम्भवी' कहलाती हैं।
  • 9 वर्ष की कन्या 'सिद्धिदात्री' रूप कहलाती हैं।
 इंसान को हर कष्ट से मुक्ति मिलती है

इंसान को हर कष्ट से मुक्ति मिलती है

कन्याओं के इन अलग-अलग रूपों को पूजने से इंसान को हर कष्ट से मुक्ति मिलती है, उसके सारे दुखों का अंत होता है। वो जिस चीज की इच्छा रखता है, उसे वो सबकुछ हासिल होता है। मां अपने हर भक्त पर दोनों हाथों से खुशियां लुटाती हैं। महागौरी वैसे भी सरस और कोमल हृदय की माता है, जिनके शरण मात्र से ही इंसान को सुख, शांति और समृद्धि की प्राप्ति होती है।

शाम 04 बजकर 37 मिनट

शाम 04 बजकर 37 मिनट

आपको बता दें कि आज शाम 04 बजकर 37 मिनट तक ही महाअष्टमी है, इसके बाद महानवमी लग जाएगी। ऐसे में अगर आप हवन करना चाहते हैं तो आप हवन कर सकते हैं।

  • गोधूलि मुहूर्त- 05:53 PM से 06:17 PM।
  • अमृत काल- 07:54 PM से 09:25 PM।

अभी रवियोग लग चुका है, जो कि शाम 6 बजकर 15 मिनट तक रहेगा।

Shardiya Navratri 2022: आज है 'महाअष्टमी', क्या है कन्या पूजन का मुहूर्त? क्या आज ही लगेगी नवमी?Shardiya Navratri 2022: आज है 'महाअष्टमी', क्या है कन्या पूजन का मुहूर्त? क्या आज ही लगेगी नवमी?

Comments
English summary
Shardiya Navratri 2022 is going on. Today is Maha Ashtami. here is importance of Kanya Pujan. read details.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X