• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Shani Jayanti 2020: कैसे करें शनिदेव की पूजा, क्या होता है लाभ

By Pt. Gajendra Sharma
|

नई दिल्ली। 22 मई को आ रही शनि जयंती के दिन शनिदेव की पूजा, अभिषेक, मंत्र जप करने से शनि की समस्त पीड़ा से मुक्ति मिलती है। शनिदेव की पूजा में उपयोग की जाने वाली सामग्री का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए, शनि जयंती के दिन उपवास भी रखा जाता है। व्रती को प्रातःकाल उठने के पश्चात नित्यकर्म से निवृत होकर स्नानादि करना चाहिए। इसके बाद लकड़ी की चौकी पर साफ-सुथरा काले रंग का कपड़ा बिछाएं।

 शनिदेव की प्रतिमा या चित्र स्थापित करें

शनिदेव की प्रतिमा या चित्र स्थापित करें

इस पर शनिदेव की प्रतिमा या चित्र स्थापित करें। यदि प्रतिमा या तस्वीर न हो तो एक सुपारी के दोनों और शुद्ध घी व तेल का दीपक जलाएं। इसके बाद धूप जलाएं। फिर इस स्वरूप को पंचगव्य, पंचामृत, इत्र आदि से स्नान करवाएं। सिंदूर, कुमकुम, काजल, अबीर, गुलाल आदि के साथ नीले फूल शनिदेव को अर्पित करें। इमरती व तेल से बने पदार्थ अर्पित करें। श्रीफल के साथ-साथ अन्य फल भी अर्पित कर सकते हैं। पंचोपचार व पूजन की इस प्रक्रिया के बाद शनि मंत्र की एक माला का जाप करें। माला जाप के बाद शनि चालीसा का पाठ करें। फिर शनिदेव की आरती उतार कर पूजा संपन्न करें।

यह पढ़ें:शनि जयंती 22 मई को, जानिए कैसे हुआ शनिदेव का जन्म

ओम शं शनैश्चराय नमः मंत्र का जाप करें

ओम शं शनैश्चराय नमः मंत्र का जाप करें

  • शनि जयंती के दिन उपवास रखें. शनि मंदिर जाएं और तेलाभिषेकम करें।
  • शनि की शांति के लिए शनि शांति पूजा और शनि यज्ञ करवाएं।
  • भिखारियों, जरूरतमंदों, कोढि़यों को भोजन करवाएं।
  • इस दिन स्वयं या योग्य पंडितों द्वारा शनि के 23 हजार जाप भी करवाएं।
  • शनि जयंती के दिन काले घोड़े की नाल से बनी अंगूठी धारण करें।
  • तेल, लोहे की कील, काले तिल, काला कपड़ा, काले उड़द शनिदेव की प्रतिमा पर अर्पित करें।
  • शनि जयंती के दिन नवग्रह शांति पूजा कुंडली के समस्त दोषों का निवारण करने में समर्थ है।
  • इस दिन शनि यंत्र की स्थापना करें।
  • परिवार में कोई सदस्य लगातार बीमार रहता हो तो शनि पूजा के साथ महामृत्युंजय जाप करवाएं।
  • ओम शं शनैश्चराय नमः मंत्र का जाप करें।
शनि पूजा के लाभ

शनि पूजा के लाभ

  • शनि की अनुकूलता से व्यक्ति पर से साढ़ेसाती, ढैया और कुंडली में मौजूद कमजोर शनि का प्रभाव समाप्त होता है।
  • कार्यों में आ रही बाधाएं समाप्त होती हैं। व्यापारियों को तरक्की, नौकरीपेशा को पदोन्नति मिलती है।
  • दांपत्य जीवन में आ रही परेशानियां समाप्त होती हैं।
  • जिन लोगों की बार-बार वाहन दुर्घटना हो रही हो, बीमारियों से परेशान हैं, उन्हें शनि शांति पूजा से राहत मिलती है।
  • शनि की कृपा से कोर्ट-कचहरी, पुलिस आदि के मामलों से छुटकारा मिलता है।
  • शत्रुओं की शांति भी शनि की पूजा से होना संभव है।

यह पढ़ें: नौतपा 25 मई से 2 जून 2020 तक, गर्मी कम और आंधी ज्यादा चलेगी

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
This year, the festival is being celebrated on May 22. The day marks the birth anniversary of Lord Shani. Worshipping Lord Shani blesses one with life sans obstructions, here is Easy Ways To Impress Lord Shan.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X