• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

Dussehra 2022: क्यों रावण के थे 10 सिर? क्या है उनका मतलब? क्यों कहलाता है वो 'दशानन'?

Google Oneindia News

Dussehra 2022: बुराई पर भलाई के जीत का प्रतीक दशहरे का पर्व 5 अक्टूबर को है। देश में कई जगहों पर रावण दहन की तैयारियां जोर-शोर से चल रही है। रावण एक ऐसा असुर था, जो कि बहुत मायावी था। उसके दस सिर थे, इसलिए उसे दशानन भी कहा जाता है लेकिन कुछ लोगों का मानना है कि रावण के दस सिर थे ही नहीं, वो मायावी था और 65 प्रकार की कलाओं को जानता था इसलिए वो अपने दस सिर लोगों को दिखाकर भ्रम पैदा करता था, हालांकि गोस्वामी तुलसीदास रचित रामचरित मानस में रावण के दस सिरों का वर्णन विस्तार से किया गया है।

रावण के दस सिर दस बुराइयों के मानक

रावण के दस सिर दस बुराइयों के मानक

आपको बता दें कि रावण के दस सिर दस बुराइयों के मानक हैं। ये दस बुराईयां हैं काम, क्रोध, लोभ, मोह, मद, मत्सर, वासना, भ्रष्टाचार,अहंकार और अनैतिकता, इसलिए ही जब रावण को दशहरे पर जलाया जाता है तो उसके साथ इन दस बुराइयों का अंत भी किया जाता है।

आखिर रावण के 10 सिर आए कहां से?

आखिर रावण के 10 सिर आए कहां से?

अब सवाल ये उठता है कि आखिर रावण के 10 सिर आए कहां से? तो तुलसीदास ने लिखा है कि 'रावण भगवान शिव का परम भक्त था। कई सालों तक जब भगवान शंकर उसके सामने प्रकट नहीं हुए तो उसने निराश और दुखी होकर अपना सिर काटकर शिव के चरणों में रख दिया लेकिन उसके धड़ में फिर से सिर लग जाता है। ऐसा वो दस बार करता है और दसों बार उसके धड़ में सिर लग जाता है।'

'आज से तुम दशानन कहलाओगे'

'आज से तुम दशानन कहलाओगे'

अपने साथ हो रही इस घटना से खुद रावण भी हैरान होता है लेकिन उसकी इस बात शिव-शंकर खुश होते हैं और उसके सामने प्रकट होते हैं और कहते हैं कि 'वो अलग योनी से जन्मा है और इसलिए उसके साथ ऐसा हो रहा है। आज से तुम दशानन यानी और दस मुख वाले कहलाओगे, तुम्हारा अंत तभी होगा जब कोई तुम्हारे नाभि पर प्रहार करेगा।'

भाई विभिषण ने किया था इशारा

भाई विभिषण ने किया था इशारा

भगवान शिव के इस वरदान को पाकर तो रावण के पैर तो आसमान में रहने लगे थे, उसने सोच लिया था कि उसका अंत अब कभी नहीं होगा। युद्द भूमि में जब प्रभु राम उस पर तीर चला रहे थे तो वो दस मुख से घमंड के साथ अट्टहास कर रहा था, तब रावण के भाई विभिषण ने आकर प्रभु राम को उसके नाभि पर तीर चलाने का इशारा किया था और इसके बाद उसका अंत हुआ था। इसलिए कहा जाता है कि घर का भेदी लंका ढाए।

Dussehra 2022: विजयादशमी पर करें अपराजिता स्तोत्र का पाठ, कभी हार नहीं होगीDussehra 2022: विजयादशमी पर करें अपराजिता स्तोत्र का पाठ, कभी हार नहीं होगी

Comments
English summary
Dussehra is going to be celebrated on 5th October, 2022. Ravana had 10 heads. Here are 10 facts about Ravan.read details.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X