• search
उत्तराखंड न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

उत्तराखंड में स्टिंग प्रकरण पर बवाल, हरीश रावत के चुनाव से पहले स्टिंग का जिक्र करने की पीछे क्या है रणनीति

|
Google Oneindia News

देहरादून, 15 अक्टूबर। उत्तराखंड में एक बार फिर चुनाव से पहले स्टिंग प्रकरण सामने आ गया है। खास बात ये है कि स्टिंग प्रकरण को खुद पूर्व सीएम हरीश रावत लेकर आए हैं। ऐसे में चुनाव से ठीक पहले खुद स्टिंग प्रकरण को सामने लाकर हरीश रावत ने सियासी पारा चढ़ा दिया है। जिसके बाद हरीश रावत के इस बयान के सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। हरीश रावत ने स्टिंग प्रकरण के बहाने भाजपा और पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को निशाने पर लिया हैा

There is a ruckus in the politics of Uttarakhand over the sting episode, what is the strategy behind mentioning the sting before the election of Harish Rawat

2017 चुनाव में सामने आया था स्टिंग प्रकरण

2017 विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में हुई बगावत प्रकरण को लेकर स्टिंग सामने आया था, जिसके बाद पूर्व सीएम हरीश रावत विपक्ष के निशाने पर आ गए थे। विधानसभा चुनाव में भाजपा ने स्टिंग प्रकरण को जमकर उछाला था। इतना ही नहीं बागियों ने भी हरीश रावत पर जमकर हमला किया था। राजनीति के जानकार मानते हैं कि अब 2022 विधानसभा चुनाव से पहले एक बार फिर हरीश रावत को चुनाव में स्टिंग प्रकरण के सामने आने का डर लगने लगा है। जिससे हरीश रावत विपक्ष के निशाने पर चुनाव में फिर से आ सकते हैं। ऐसे में हरीश रावत ने चुनाव से पहले एक बड़ा दांव खेला है। जिसके जरिए हरीश रावत खुद पर आरोप लगने से पहले ही विपक्ष पर हमलावर हो गए हैं। हरीश रावत ने इस बयान के जरिए पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को कटघरे में खड़ा किया है।

हरीश रावत ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा है कि

खनन प्रेमी हैं मुख्यमंत्री हमार, कर्मकार बोर्ड के घोटाले से न होत शर्मसार, उज्याडू बल्द को बाखरी से है बड़ा दुलार, स्टिंग-स्टिंग कहने से पहले याद करलो टीएसआर, कम ऑन भाजपा, हो जाय एक बार भाजपा का स्टिंग बनाम मेरा स्टिंग। आओ रेंजर्स ग्राउंड देहरादून में दोनों स्टिंग्स, जिसमें मेरा व भाजपा स्टिंग को बड़े पर्दे पर दिखाएं। मेरे पास एक व्यक्ति ताजमहल बेचने आया, मैंने उसके नाम अमेरिकन फेडरल बैंक कर दिया।

त्रिवेंद्र को किया टारगेट
हरीश रावत ने इस पोस्ट के बहाने पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के स्टिंग का जिक्र किया है। जिससे एक बार फिर उत्तराखंड की सियासत गर्मा गई है। हरीश रावत ने अपने और भाजपा के स्टिंग को एक साथ दिखाने की मांग की है। जिससे भाजपा और हरीश रावत के बीच चल रही स्टिंग को लेकर जंग खत्म हो जाए। इसमें हरीश रावत ने त्रिवेंद्र सिंह रावत को भी टैग किया है। इस पूरे प्रकरण में हरीश रावत ने त्रिवेंद्र सिंह को टारगेट करने की भी कोशिश की है।

हरक और हरीश् में भी जारी है जुबानी जंग

कांग्रेस चुनाव अभियान की कमान संभाल रहे पूर्व सीएम हरीश रावत ने सोशल मीडिया पर भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोला हुआ है। हरक सिंह रावत से लेकर भाजपा के सभी नेताओं को हरीश रावत लगातार टारगेट कर रहे हैं। हरक सिंह रावत के साथ तो हरीश रावत की आए दिन जुबानी जंग चल रही है। बागियों को महापापी की संज्ञा देकर हरीश रावत ने हरक सिंह को चुनौती दी तो हरक सिंह ने हरीश रावत को डेनिस प्रकरण पर जमकर घेरा। इस तरह हरक और हरीश के बीच जमकर जुबानी जंग जारी है।

ये भी पढ़ें-AAP के संपर्क में भाजपा, कांग्रेस के कई नेता, करेक्टर, करप्शन और धर्म की भावना को देखकर ही एंट्री: कर्नलये भी पढ़ें-AAP के संपर्क में भाजपा, कांग्रेस के कई नेता, करेक्टर, करप्शन और धर्म की भावना को देखकर ही एंट्री: कर्नल

Comments
English summary
There is a ruckus in the politics of Uttarakhand over the sting episode, what is the strategy behind mentioning the sting before the election of Harish Rawat
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
Desktop Bottom Promotion