• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

UP News:पूर्व आयुष मंत्री धरम सिंह सैनी की BJP में वापसी की उम्मीदों पर कैसे फिरा पानी, जानिए पूरी कहानी

पूर्व मंत्री धरम सिंह सैनी की बीजेपी वापसी लटक गई है। बुधवार को वह योगी की मोजूदगी में बीजेपी में शामिल होने वाले थे लेकिन विरोध की वजह से उनक काफिला बीच रास्ते से ही वापस लौट गया।
Google Oneindia News

उत्तर प्रदेश में इसी साल की शुरुआत में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी का दामन छोड़कर सपा का झंडा पकड़ने वाले पूर्व मंत्री धरम सिंह सैनी की बीजेपी में वापसी की उम्मीदों पर पानी फिर गया है। बीजेपी के सूत्रों की माने तो स्थानीय नेताओं और एक मंत्री की आपत्ति के बाद बुधवार को पूर्व मंत्री धरम सिंह सैनी की भाजपा में वापसी की कोशिश विफल हो गई। सैनी ने समाजवादी पार्टी में शामिल होने के लिए 2022 के यूपी चुनाव से पहले भाजपा छोड़ दी थी।

अखिलेश यादव

धरम सिंह सैनी की वापसी पर लगा ग्रहण ?

राजनीति में कोई स्थाई दोस्त या दुश्मन नहीं होता। पूर्व मंत्री धरम सिंह सैनी, एक प्रमुख ओबीसी नेता, जिन्होंने स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ, समाजवादी पार्टी में शामिल होने के लिए 2022 के यूपी चुनाव से ठीक पहले भारतीय जनता पार्टी छोड़ दी थी, वापसी कर रहे हैं। यूपी के पूर्व मंत्री धरम सिंह सैनी आज बीजेपी में वापसी करने वाले हैं। सैनी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उपस्थिति में भगवा पार्टी में फिर से शामिल होने की उम्मीद थी, जो बुधवार को उपचुनाव के लिए एक रैली को संबोधित करने के लिए खतौली विधानसभा क्षेत्र में थे।

बीच रास्ते से लौटा सैनी का काफिला

सूत्रों ने कहा कि जब सैनी रैली स्थल पर जा रहे थे, तब उन्हें भाजपा पदाधिकारियों द्वारा सूचित किया गया कि इस समय उनका शामिल होना संभव नहीं होगा क्योंकि स्थानीय नेता इसके खिलाफ थे। बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने नाम न छापने की शर्त पर टीओआई को बताया कि सैनी जल्दबाजी में थे और उन्होंने इस मुद्दे पर बयान देने से पहले राज्य बीजेपी नेतृत्व से अंतिम मंजूरी का इंतजार नहीं किया।

योगी की मौजूदगी में बीजेपी शामिल होने की थी प्लानिंग

मंगलवार को मीडियाकर्मियों से बात करते हुए सैनी ने पुष्टि की थी कि वह अपने समर्थकों के साथ सीएम की उपस्थिति में भाजपा में शामिल होंगे। योगी आदित्यनाथ सरकार के पहले कार्यकाल में आयुष मंत्री के रूप में कार्य करने वाले सैनी ने 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले भगवा खेमे में शामिल होने के लिए बहुजन समाज पार्टी छोड़ दी थी। 2022 के विधानसभा चुनावों से पहले, सैनी, स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ, भाजपा छोड़कर सपा में चले गए।

बीजेपी नेता बने धरम सिंह सैनी की राह में रोड़ा

भाजपा के कई वरिष्ठ नेताओं को हैरान कर दिया था और डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने यहां तक ​​ट्वीट किया था कि सैनी को भाजपा नेताओं से बात करनी चाहिए और जल्दबाजी में कोई फैसला नहीं लेना चाहिए। हालांकि, एक अविश्वसनीय चेहरे के तौर पर सामने आए सैनी सपा में शामिल हो गए और भाजपा के मुकेश चौधरी के हाथों नकुर निर्वाचन क्षेत्र में हार का सामना करना पड़ा था। दरअसल सैनी पिछले कई महीने से बीजेपी में वापसी करने के लिए भाजपा नेताओं से संपर्क कर रहे थे।

आयुष घोटाले को लेकर लगा बीजेपी में नो एंट्री का बोर्ड ?

सूत्रों के मुताबिक, कई नेता उनकी दोबारा एंट्री के पक्ष में थे और उन्होंने कहा था कि अगर सब कुछ ठीक रहा तो वह बुधवार को सीएम की रैली के दौरान पार्टी में शामिल होंगे। हालांकि, कई स्थानीय नेताओं और योगी सरकार में एक मंत्री, जो सैनी के ही समुदाय से हैं, ने उनकी पार्टी में वापसी पर आपत्ति जताई। एक अन्य सूत्र ने कहा कि तथ्य यह है कि योगी सरकार 1.0 में वह जिस आयुष विभाग का नेतृत्व कर रहे थे वहां आयुष कॉलेजों में एडमिशन में हुए कथित फर्जीवाड़े की सीबीआई जांच चल रही है।

यह भी पढ़ें-विकास के नए कीर्तिमान स्थापित कर रही डबल इंजन सरकार- योगी आदित्यनाथयह भी पढ़ें-विकास के नए कीर्तिमान स्थापित कर रही डबल इंजन सरकार- योगी आदित्यनाथ

Comments
English summary
UP News: How former AYUSH minister Dharam Singh Saini's returning to BJP were dashed
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X