• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

कुशीनगर एयरपोर्ट के बहाने पूर्वांचल पर BJP की निगाहें , जानिए अखिलेश और कांग्रेस ने क्यों किया पलटवार

|
Google Oneindia News

लखनऊ, 20 अक्टूबर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को उत्तर प्रदेश में बहुप्रतीक्षित कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का उद्घाटन किया। इस एयरपोर्ट के शुरू होने से एक तरफ जहां पूर्वांचल के विकास को नई उड़ान मिलेगी वहीं दूसरी ओर पीएम मोदी के शुभारंभ के बाद ही समाजवादी पार्टी और कांग्रेस ने बीजेपी सरकार पर तंज कसा। अखिलेश ने कहा कि पायलट बन जाने से विमान अपना नहीं हो जाता। इधर कांग्रेस ने भी इसका श्रेय लेने की कोशिश की और कहा कि यूपीए की सरकार में इस परियोजना को मंजूरी प्रदान की गई थी। हालांकि बीजेपी इसे अपनी उपलब्धि में जोड़कर इसका सियासी मायने तलाश रही है।

एयरपोर्ट कुशीनगर

मोदी ने कुशीनगर के विकास को उत्तर प्रदेश सरकार और केंद्र की प्राथमिकताओं में से एक बताते हुए कहा कि जगह के विकास के लिए श्रद्धालुओं के लिए सुविधाओं के निर्माण पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। इस बीच, केंद्र की उड़ान योजना के बारे में बोलते हुए। पिछले कुछ वर्षों में 900 से अधिक नए मार्गों को मंजूरी दी गई है, जिनमें से 350 मार्गों पर हवाई सेवाएं पहले ही शुरू हो चुकी हैं। साथ ही इस दौरान 50 नए हवाईअड्डों को चालू किया गया है।

आरपीएन सिंह ने कहा- कांग्रेस का सपना सच हुआ

कांग्रेस नेता आरपीएन सिंह ने 2014 में परियोजना को मंजूरी देने के लिए यूपीए सरकार को श्रेय दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का सपना आज सच हो गया है, उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार ने कुशीनगर में भगवान बुद्ध की पवित्र भूमि की स्थापना की थी। कुशीनगर जो उत्तर प्रदेश के उत्तर-पूर्वी भाग में स्थित है, वह स्थान है जहाँ भगवान बुद्ध ने महानिर्वाण प्राप्त किया था।

अखिलेश ने कहा- पायलट बनने से विमान अपना नहीं बनता

नए कुशीनगर हवाई अड्डे का श्रेय लेने का दावा करते हुए, समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने बुधवार को बताया कि हवाई अड्डे की मंजूरी 2014 में उनके शासन के दौरान मिली थी। यह दावा करते हुए कि भाजपा तब भी परियोजना कार्यक्रम में उतरी थी, उन्होंने कहा कि 'पायलट बनने से विमान को अपना नहीं बनाता। यादव ने अक्सर भाजपा पर उनके शासन के दौरान शुरू की गई परियोजनाओं का श्रेय लेने का आरोप लगाया है।

पीएम मोदी ने आज किया कुशीनगर एयरपोर्ट का शुभारंभ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुशीनगर एयरपोर्ट का उद्घाटन करने के बाद कहा कि अगले 3-4 सालों में कोशिश है कि 200 से अधिक एयरपोर्ट, हेलीपैड, सी-प्लेन की सर्विस चालू हो सके। कुशीनगर एयरपोर्ट बनने से किसान, पशुपालक, दुकानदार, श्रमिक सभी को इसका सीधा लाभ मिलेगा। व्यापार के साथ टूरिज्म को भी बढ़ावा मिलने जा रहा है, साथ ही युवाओं को रोजगार भी मिलने जा रहा है।

60 करोड़ की लागत से बना है यह एयरपोर्ट

कुशीनगर एयरपोर्ट 60 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित और 3,600 वर्ग मीटर में फैला है। कुशीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट उत्तर प्रदेश का सबसे लंबा रनवे वाला (3.2 किमी लंबा व 45 मीटर चौड़ा) एयरपोर्ट है। इसके रनवे की क्षमता 8 फ्लाइट (4 आगमन व 4 प्रस्थान) प्रति घंटा है। कुशीनगर यह चार प्रमुख बौद्ध सर्किटों में से एक है। ये एयरपोर्ट उत्तर प्रदेश के साथ-साथ बिहार के आसपास के जिलों के लोगों के लिए भी आसानी लेकर आएगा।

बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता हीरो वाजपेयी कहते हैं कि,

''प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 20 अक्टूबर बुधवार को कुशीनगर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का लोकार्पण वैश्विक सांस्कृतिक संबंधों की मजबूती में मील का पत्थर साबित होगा। विश्व के कोने- कोने में बसे बौद्ध धर्म के अनुयायियों को तथागत गौतम बुद्ध की महापरिनिर्वाण स्थली के दर्शन की साध पूरी करने की सुगमता होगी। इस एयरपोर्ट से एक तरफ जहां एक साथ कई घरेलू उड़ाने शुरू होने से पूर्वांचल के लोगों को लाभ मिलेगा वहीं दूसरी ओर यह एयरपोर्ट कई देशों से सीधे जुड़ेगा जिससे बाहर काम कर रहे लोग भी असानी से आ जा सकेंगे।''

यह भी पढ़ें-कुशीनगर-दिल्ली के बीच 26 नवंबर से शुरू होंगी उड़ानें, हर हफ्ते चार फ्लाइटयह भी पढ़ें-कुशीनगर-दिल्ली के बीच 26 नवंबर से शुरू होंगी उड़ानें, हर हफ्ते चार फ्लाइट

Comments
English summary
Political turmoil over Kushinagar airport, know why Akhilesh said that becoming a pilot does not make the plane his own
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X