• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

Uttar Pradesh: Covid 19 को लेकर लखनऊ के लोगों के लिए आई बड़ी खबर, जानिए इसकी अहमियत

उत्तर प्रदेश में यूं तो 23 जिले कोरोना से मुक्त हो गए हैं लेकिन सबसे बड़ी खबर लखनऊ के लोगों को लेकर आई है। 999 दिनों बाद लखनऊ आखिरकार कोरोना से मुक्त हो गया है। इसको लेकर अब सरकार ने राहत की सांस ली है।
Google Oneindia News
कोरोना वायरस

Lucknow became free from Kovid 19: उत्तर प्रदेश ही नहीं पुरी दुनिया में कोरोना के प्रकोप से हाहाकार मचा हुआ था लेकिन धीरे धीरे ही सही कोरोना पूरी तरह से खत्म हो रहा है। यूपी के चिकित्सकों की माने तो वैश्विक महामारी के प्रकोप के एक हजार दिनों के भीषण प्रकोप के बाद लखनऊ में कोरोना का अब एक भी एक्टिव मामला नहीं चल रहा है। इससे राहत यूपी सरकार ने राहत की सांस ली है। हालांकि सरकार से जुड़े सूत्रों का कहना है कि यूपी के लखनऊ समेत यूपी के 23 जिले ऐसे हैं जो कोविड फ्री हो गए हैं। लखनऊ को इससे मुक्त होने में काफी समय लगा।

999 दिनों के बाद लखनऊ हुआ कोरोना फ्री

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार, रविवार को केवल एक सक्रिय मामला था - एक 65 वर्षीय व्यक्ति, जिसे श्वसन संक्रमण विकसित होने के बाद कमांड अस्पताल में नौ दिन पहले कोविड -19 का पता चला था। उनकी नौ दिन की होम आइसोलेशन की अवधि रविवार रात समाप्त हो जाएगी। इनमें कोई लक्षण नहीं दिखा और सोमवार को बीमारी से उबरने की घोषणा की जाएगी। चूंकि पिछले चार दिनों से कोई नया मामला सामने नहीं आया है, तब शहर का सक्रिय केसलोड शून्य हो जाएगा। यह एक सपने की तरह है। हजारों स्वास्थ्य कर्मचारी, फ्रंटलाइन कार्यकर्ता दो साल और नौ महीने से अथक परिश्रम कर रहे थे।

पूरे शहर ने झेली कोरोना की विभिषिका

पूरे शहर के लिए यह देखना भी एक क्षण होगा कि महामारी जो तीन लाख से अधिक संक्रमणों का कारण बना। लगभग 3,000 लोगों की जान ले ली। संयोग से, लखनऊ में पहला मामला टोरंटो के एक 35 वर्षीय डॉक्टर का था, जो सेना के एक सेवानिवृत्त अधिकारी की बहू थी। उसे 11 मार्च, 2020 को संक्रमण का पता चला था। पिछले 21 महीनों में, शहर ने कोविड -19 महामारी की तीन लहरों का खामियाजा भुगता और अंतिम व्यक्ति भी सेना के परिवार से ही जुड़ा हुआ है।

दूसरी और तीसरी लहर ज्यादा घातक थी

कोरोना की पहली लहर सबसे लंबी थी जो नौ महीने तक चली थी। इसने 80,000 से अधिक मामलों को संक्रमित किया और 1,100 से अधिक लोगों की जान ले ली। डेल्टा वैरिएंट की दूसरी लहर तीनों में सबसे घातक थी। इसने 81 दिनों में 1.5 लाख से अधिक संक्रमण का कारण बना और 1,400 लोगों की जान ले ली। जिला निगरानी अधिकारी डॉ. निशांत निर्वाण ने लोगों से एहतियात बरतने का आग्रह करते हुए कहा, "मास्क केवल कोविड-19 से सुरक्षा नहीं देता है बल्कि इसके इस्तेमाल से अन्य संचारी रोगों जैसे तपेदिक और फ्लू को फैलने से रोका जा सकता है। इसलिए इसका इस्तेमाल जितना संभव हो करना ही चाहिए।"

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. मनोज अग्रवाल ने कहा,

"हमें कोविड-19 को तब तक हल्के में नहीं लेना चाहिए जब तक कि यह पूरी तरह से खत्म न हो जाए। लोगों को हाथ की स्वच्छता का पालन करना चाहिए और मास्क पहनने से प्रदूषण से बचाव होगा और सांस की बीमारियों से लड़ने में भी मदद मिलेगी।"

तीसरी लहर में ओमिक्रान ने लोगों को संक्रमित किया

फेफड़े, गंभीर बीमारी का कारण बनते हैं और उच्च अस्पताल में भर्ती होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप शहर में बेड और ऑक्सीजन का संकट होता है। तीसरी और आखिरी लहर ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण हुई जिसने बड़ी संख्या में लोगों को संक्रमित किया, लेकिन गंभीरता कम थी। कम से कम अस्पताल में भर्ती होने के साथ रिकवरी जल्दी हुई। पहली और दूसरी लहर के बीच, कोविड-19 के खिलाफ बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान शुरू किया गया था।

यह भी पढ़ें-पश्चिमी यूपी में डरा रहे हैं कोरोना के बढ़ते आंकड़े, जानिए सरकार ने क्यों उठाया ये बड़ा कदमयह भी पढ़ें-पश्चिमी यूपी में डरा रहे हैं कोरोना के बढ़ते आंकड़े, जानिए सरकार ने क्यों उठाया ये बड़ा कदम

Comments
English summary
Big news for the people of Lucknow regarding Covid 19 after 999 days, cm yogi update
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X