• search
उदयपुर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

जानिए कौन हैं उदयपुर प्रिंस लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ जिन्हें Thar 700 कार की चाबी देने खुद आनंद महिन्द्रा पहुंचे

|

उदयपुर। आपने दुबई प्रिंस के बारे में तो खूब सुना होगा। उनकी लग्जरी लााइफ के चर्चे भी आए दिन होते ही रहते हैं, मगर उदयपुर के प्रिंस को भी हल्के में मत लेना। राजस्थान के सबसे खूबसूरत शहरों में शुमार और लेकसिटी के नाम से दुनियाभर में फेमस उदयपुर के प्रिंस का नाम लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ है।

udaipur prince lakshyaraj singh mewar biography in hindi

लग्जरी कारों और एसयूवी के प्रति उदयपुर राजकुमार लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ और मेवाड़ फैमिली की दीवानगी किसी से छुपी हुई नहीं है। शहर में विंटेज कार म्यूजियम भी इस बात का सबूत है। महिंदा थार 700 खरीदकर उदयपुर प्रिंस एक बार फिर चर्चा में हैं। आइए इस मौके पर जानते हैं उदयपुर प्रिंस लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ के जीवन के बारे में।

राजस्थान कांग्रेस में दिग्गज जाट नेता रामेश्वर डूडी की हत्या का प्लान, इस जगह गोली से उड़ाना चाहते थे बदमाश

9.99 लाख रुपए है महिंद्रा थार 700 की कीमत

बता दें कि भारत की प्रमुख वाहन निर्माता कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा की हाल हीलोकप्रिय एसयूवी महिंदा थार 700 घरेलु बाजार में उतारी है। लिमिटेड एडिशन मॉडल वाली इस कार की कीमत 9.99 लाख रुपए है। कंपनी इसके केवल 700 यूनिट्स का ही निर्माण कंपनी करेगी। इस एसयूवी के साइड में कंपनी द्वारा ऑटोमोटिव इंडस्ट्री में 70 साल पूरे किए जाने का बैज लगाया गया है। कंपनी के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने खुद अपने हाथों से इस एसयूवी की चाबी उदयपुर के राजकुमार को सौंपी है।

ऑस्ट्रेलिया से ग्रेजुएशन

ऑस्ट्रेलिया से ग्रेजुएशन

उदयपुर के अरविंद सिंह मेवाड़ के बेटे का नाम लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ हैं। इन्हें महाराणा प्रताप का वंशज माना जाता है। इनकी पढ़ाई उदयपुर महाराजा मेवाड़ स्कूल, अजमेर के मेयो कॉलेज और मुंबई के जीडी सोमानी स्कूल से पूरी हुई। इन्होंने ऑस्ट्रेलिया के ब्लू माउंटेन स्कूल से ग्रेजुएशन पूरा किया। मेवाड़ राजघराने के राजकुमार लक्ष्यराज सिंह एचआरएच ग्रुप ऑफ होटल्स के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर हैं। राजस्थान में आज भी लोग लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ को राजकुमार कहकर बुलाते हैं।

37 साल बाद मेवाड़ राजघराने में आई बहू

37 साल बाद मेवाड़ राजघराने में आई बहू

राजस्थान के मेवाड़ राजघराने 28 जनवरी 1985 को जन्मे लक्ष्यराज सिंह की शादी ओडिशा के बालांगीर के पूर्व रियासत परिवार की निवृत्ति कुमारी देव से हुई। 21 जनवरी 2014 को निवृत्ति कुमारी ने उदयपुर शाही सिटी पैलेस में नई बहू ने कदम रखा था। तब बीते 37 साल बाद पहला मौका था उदयपुर राजघराने के परिवार में बहू आई हो। इससे पहले इससे पहले इनके पिता अरविंद सिंह मेवाड़ विजिया राज कुमारी को ब्याह कर लाए थे।

जब लक्ष्यराज ने क्रिकेट में तोड़ा रिकॉर्ड

जब लक्ष्यराज ने क्रिकेट में तोड़ा रिकॉर्ड

उदयपुर की बड़ी होटल चेन के मालिक होने के कारण वे अक्सर पेज 3 पार्टीज का हिस्सा बनते रहते हैं और कई सेलेब्रिटीज व क्रिकेटर्स के साथ दिखते हैं। पीएम मोदी भी उदयपुर के दौरे में मेवाड़ राजघराने के सदस्यों से मिल चुके हैं। लक्ष्यराज एक बार मेयो की तरफ से यूरोपीय देश में क्रिकेट खेल रहे थे। तब उन्होंने वहां का एक 40 साल पुराना रिकॉर्ड भी तोड़ दिया था।

गिफ्ट या खरीदी का संशय हुआ दूर

लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ को गाड़ी चाबी सौंपते की तस्वीर सामने आने के बाद मीडिया में एक चर्चा शुरू हो गई थी कि महिंद्रा एंड महिंद्रा की ओर से यह नई कार मेवाड़ राजकुमार लक्ष्यराज सिंह को बतौर तोहफा भेंट की गई है लेकिन इस पर खुद महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर कहा कि उदयपुर ​प्रिंस ने गाड़ी की पूरी कीमत चुकाई हैं। उन्हें तोहफे के लिए मेरी जरूरत नहीं है।

MBA पति-CA पत्नी ने लाखों का पैकेज ठुकराकर शुरू की खेती, 50 लाख तक पहुंचा सालाना टर्न ओवर

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
udaipur prince lakshyaraj singh mewar biography in hindi
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X