• search
उदयपुर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

उदयपुर : दो महिलाओं की जान बचाने के लिए अकील मंसूरी ने रोजा तोड़कर प्लाज्मा डोनेट किया

|

उदयपुर, 16 अप्रैल। पाक माह रमजान में हर किसी के दिल को छू देने वाली खबर सामने आई है। राजस्थान के उदयपुर में रोजेदार ने जो फैसला किया, उससे दो महिलाओं की जान बच गई।

Udaipur Akil Mansoori breaks roza and donates plasma To save lives of two women

हुआ यूं कि उदयपुर के पेसिफिक हॉस्पिटल में छोटी सादड़ी निवासी 36 वर्षीय निर्मला चार दिन से और ऋषभदेव निवासी 30 वर्षीय अलका दो दिन से भर्ती थी। दोनों की तबीयत बिगड़ गई। उनका ब्लड ग्रुप ए-पॉजिटिव था। दोनों को प्लाज्मा की जरूरत पड़ी।

राजस्थान : उदयपुर की पिछोला झील में अभिनेत्री जान्हवी कपूर ने की बोटिंग, शेयर किया वीडियो

डॉक्टरों ने तुरंत व्यवस्था करने को कहा, लेकिन कहीं से बंदोबस्त नहीं हो पा रहा था। इस बीच रक्त युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं तक सूचना पहुंची। वे भी प्लाज्मा की तलाश में जुटे तो अकील मंसूरी याद आए, क्योंकि वे 17 बार रक्तदान कर चुके थे और पता था कि उनका ब्लड ग्रुप भी ए पॉजिटिव है। दोनों महिलाओं को कोई ए पॉजिटिव ही प्लाज्मा दे सकता था। वाहिनी के अर्पित कोठारी ने उनसे प्लाज्मा देने के लिए निवेदन किया। अकील ने रोजा रखा हुआ था। वे प्लाज्मा डोनेट करने पहुंच गए, लेकिन डॉक्टरों ने कहा कि खाली पेट प्लाज्मा नहीं ले सकते।

उदयपुर पहुंचीं कंगना रनौत, ट्विटर पर दिल का निशान बनाकर लिखा-'मेरे सबसे खास व्यक्ति से मिलने आई हूं'

अकील ने पहला रोजा तोड़ना तय किया और अल्लाह का शुक्रिया करते हुए कहा कि उनका जीवन किसी का जीवन बचाने के काम आ रहा है, इससे बड़ा क्या धर्म होगा। उन्होंने इसके बाद नाश्ता किया, फिर डॉक्टरों ने उनका एंटी बॉडी टेस्ट किया और प्लाज्मा लिया। ये दाेनाें महिलाओं काे चढ़ाया गया। अकील ने तीसरी बार प्लाज्मा डोनेट किया।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Udaipur Akil Mansoori breaks roza and donates plasma To save lives of two women
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X