• search
पंजाब न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

टमाटर के बाद अब अमरूद भी 2 रुपए किलो के भाव, घाटा झेल रहे किसान खफा, भरी ट्रॉली उड़ेली

Google Oneindia News

लुधियाना। हाल ही में कर्नाटक में टमाटर 2 रुपए किलो बिकने की खबर आई थी। टमाटर उगाने वाले किसानों ने भारी घाटा होने पर टमाटर से भरे ट्रक सड़क पर उड़ेल दिए थे। इसी तरह की एक खबर अब पंजाब के लुधियाना से आई है। यहां लहरागागा के निकट गांव गुलाड़ एवं गांव खंडेबाद में अमरूदों के बाग हैं। जहां किसान बड़े पैमाने पर अमरूद की पैदावार करते हैं..लेकिन इन दिनों मंडी में थोक में अमरूद के दाम 2 रुपये तक गिर जाने के कारण उन्हें घाटा हो रहा है। ऐसे में अब उन्हें अपने फल की फसल फेंकनी पड़ रही है।

टमाटर के बाद अमरूद की बर्बादी की खबर

टमाटर के बाद अमरूद की बर्बादी की खबर

बीरबल और लक्षमण सिंह नामक किसानों ने बताया कि, उन्होंने गांव खंडेबाद के भोला सिंह से चार एकड़ जमीन साढ़े तीन लाख रुपये में ठेके पर लेकर उसमें अमरूद का बाग लगाया था। मेहनत ने फल तो भरपूर दिया, लेकिन फल का सही मूल्य न मिलने से उन्हें जेब से लेबर खर्च उठाकर अमरूद तुड़वाकर व्यर्थ ही फेंकने पड़ रहे हैं। उन्होंने कहा, "मंडी में अमरूद का थोक भाव 2 रुपये किलो है। और, इस बार पौधों की देख-रेख, खाद, स्प्रे, निराई, गुड़ाई में एक लाख रुपये से अधिक खर्च हुआ। हमने अमरूद की तुड़ाई के लिए 15 दिहाड़ीदार 300 रुपये पर भी रखे। इसके अलावा अमरूद की छंटाई के लिए अलग से दिहाड़ी देनी होती है। अगर हम कैंटर के जरिए करनाल, भिवानी, मालेरकोटला व संगरूर मंडी में फसल बेचने जाते हैं तो लगभग 3 हजार रुपये किराया लग जाता है। फिर मंडियों में 45 कैरेट पर 70 से 80 रुपये रेट मिलता है, अब हम दूर से अमरूद लेकर यहां आते हैं तो वो बचत नहीं होती।"

सुप्रसिद्ध इलाहाबादी अमरूदों पर 'फ्रूट फ्लाई' का हमला, अंदर मिल रहे अंडों से बिगड़ा स्वादसुप्रसिद्ध इलाहाबादी अमरूदों पर 'फ्रूट फ्लाई' का हमला, अंदर मिल रहे अंडों से बिगड़ा स्वाद

यह बोले बागवानी करने वाले किसान

यह बोले बागवानी करने वाले किसान

किसानों ने कहा, "हमारा ताजा पका अमरूद कौड़ी के भाव बिक रहा है..फेंकना भी पड़ रहा है...जबकि अभी देश के बहुत से हिस्सों में लोग इस फल के लिए तरस रहे हैं। कई बड़े शहरों में लोग पूरे सीजन तक भी अमरूद के लिए तरसते हैं। अब यदि हमारा पूरा अमरूद उचित भाव में बिकता तो हम भी फायदे में होते और लोगों को भी अमरूद खाने को मिलते।"
उन्होंने कहा, "मगर हालत चिंताजनक हैं। क्योंकि, हमें मंदी के चलते 10 लाख रुपए तक का घाटा झेलना पड़ सकता है। उधर, ठेकेदारों ने मांग की है कि पंजाब सरकार दूसरी फसलों की तरह फलों का मंडीकरण यकीनी बनाए, ताकि ठेके पर जमीन लेकर बागवानी करने वाले किसान आर्थिक तौर पर मजबूत बन सकें।"

सिर्फ 2 रुपए किलो बिक रहे टमाटर, किसानों को भारी घाटा, नागपुर-मुंबई हाईवे पर ऐसे उड़ेल दीं ट्रॉलियांसिर्फ 2 रुपए किलो बिक रहे टमाटर, किसानों को भारी घाटा, नागपुर-मुंबई हाईवे पर ऐसे उड़ेल दीं ट्रॉलियां

सर्दियों में महंगा बिकेगा अमरूद: हरदीप सिंह

सर्दियों में महंगा बिकेगा अमरूद: हरदीप सिंह

पंजाब के कई क्षेत्रों में अमरूदों की पैदावार पर डिप्टी डायरेक्टर बागवानी संगरूर डॉ. हरदीप सिंह कहते हैं कि, फल की बागवानी करने वाले किसानों ने इस बार अच्छी पैदावार की है। मगर, रेट अभी कम हैं। हरदीप सिंह ने कहा कि, मैं मानता हूं कि इस साल अमरूद की फसल बहुत ज्यादा है। दूसरा, गर्मियों में यह फसल एकदम पक जाती है...और बारिश का असर भी पड़ा है। इस मौसम के अमरूद में सर्दियों के सीजन के मुकाबले स्वाद कम होता है।

गुजरात सरकार ने ड्रैगन फ्रूट का नाम बदला, CM रूपाणी बोले- इसका बाहरी आकार कमल जैसा, अब कमलम कहेंगे, जानें इस फल के फायदेगुजरात सरकार ने ड्रैगन फ्रूट का नाम बदला, CM रूपाणी बोले- इसका बाहरी आकार कमल जैसा, अब कमलम कहेंगे, जानें इस फल के फायदे

वहीं, सर्दियों की फसल धीरे से पकती है, जिसे कई दिनों तक घरों व स्टोर में रखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि, अमरूद की कीमत सर्दी में ज्यादा होती है और उसकी क्वालिटी भी अच्छी होती है। इसलिए, अमरूदों के रेट में आने वाले सीजन में तेजी आने की संभावना है।

Comments
English summary
Farmers of punjab throw tons of guava fruit at field due to low procurement rates
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X