• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

दुनिया की फ़ौजों में भारत नंबर चार पर, पाकिस्तान की भी तेज छलांग

By Bbc Hindi
भारतीय टैंक
Getty Images
भारतीय टैंक

फ़ौजी ताक़त के हिसाब से भारत दुनिया में चौथी सबसे बड़ी फ़ौज बन चुका है. युद्ध हथियारों की मौजूदगी और सशस्त्र बलों की बुनियाद पर भारत, अमरीका, रूस और चीन से पीछे है जबकि फ़्रांस और ब्रिटेन भारत से पीछे हैं.

दुनिया के आधुनिक बलों और फ़ौजी ताक़त का विश्लेषण करने वाले शोध संस्थान 'ग्लोबल फ़ायर पावर' ने 2017 में फ़ौजी ताक़त के हिसाब से 133 देशों की जो सूची जारी की है, उसमें अमरीका पहले की तरह इस बार भी सबसे बड़ी फ़ौजी ताक़त है.

फ़ौज के लिए जिन सैन्य हथियारों का विश्लेषण किया गया है उसमें सिर्फ़ पारंपरिक युद्ध हथियारों और उपकरणों को शामिल किया गया है. इसमें परमाणु हथियारों को शामिल नहीं किया गया है.

'कश्मीर में सेना की भूमिका को कम करने की सख़्त ज़रूरत'

ऑपरेशन कैक्टसः जब मालदीव पहुंची थी भारतीय सेना

भारतीय मिसाइल
Getty Images
भारतीय मिसाइल

पाकिस्तान 13वें नंबर पर

बीबीसी संवाददाता शकील अख़्तर के मुताबिक़, इस सूची में बताया गया है कि पाकिस्तान दुनिया में 13वीं सबसे बड़ी फ़ौजी ताक़त है.

रक्षा बलों के मामले में पाकिस्तान ने पिछले कुछ सालों के मुक़ाबले 2017 में अपनी ताक़त में बढ़ोतरी की है और शीर्ष 15 देशों की सूची में जगह बना ली है.

अमरीका का रक्षा बजट 587 अरब डॉलर था जबकि चीन ने 161 अरब डॉलर रक्षा बजट के लिए रखा था. चीन में सक्रिय सैनिकों की संख्या 22 लाख और रिज़र्व सैनिकों की संख्या 14 लाख है. उसके पास तीन हज़ार लड़ाकू विमान और साढ़े छह हज़ार टैंक हैं.

हालांकि चीन, अमरीका और रूस से पीछे है लेकिन वह बड़ी तेज़ी से ऊपर आ रहा है और वह दूसरे स्थान पर आ सकता है. इसका बजट भारत से तीन गुना से भी अधिक है.

भारत का रक्षा बजट 51 अरब डॉलर था.

भारतीय सैनिक
Getty Images
भारतीय सैनिक

13 लाख से अधिक सक्रिय जवान

ग्लोबल फ़ायर पावर के मुताबिक़ अमरीका के पास 13 हज़ार से अधिक जहाज़ हैं जिनमें लड़ाकू, परिवहन और हेलिकॉप्टर शामिल हैं. चीन के पास तक़रीबन तीन हज़ार लड़ाकू जहाज़ हैं.

भारत के पास लड़ाकू जहाज़ों की संख्या दो हज़ार से अधिक है. सक्रिय सैनिकों की संख्या 13 लाख से अधिक है. इसके अलावा 28 लाख रिज़र्व जवान भी हैं जो ज़रूरत पड़ने पर फ़ौज की मदद कर सकती है.

भारत में टैंकों की संख्या तकरीबन 4400 है. युद्ध पोतों की संख्या तीन बताई गई है. हालांकि, इसमें से कम से कम एक युद्ध पोत समुद्र से हटा लिया गया है.

BUDGET SPECIAL: मोदी राज में कितनी मजबूत हुई भारतीय सेना?

भारत से भी छोटी सेना क्यों करने जा रहा है चीन?

युद्धपोत
Getty Images
युद्धपोत

पाकिस्तान के पास युद्ध पोत नहीं

इस सूची के अनुसार पाकिस्तान दुनिया का 13वां सबसे शक्तिशाली देश है. देश का रक्षा बजट सात अरब डॉलर है और सक्रिय सैनिकों की संख्या छह लाख 37 हज़ार है. इसके अलावा तक़रीबन तीन लाख रिज़र्व सैनिक भी हैं.

हेलिकॉप्टर और ट्रांसपोर्ट जहाज़ों समेत लड़ाकू जहाज़ों की संख्या तक़रीबन एक हज़ार और टैंकों की संख्या तीन हज़ार के क़रीब है. पाकिस्तान के पास युद्ध पोत नहीं है लेकिन दूसरे प्रकार के समुद्री जहाज़ों की तादाद तक़रीबन 200 है.

इस सूची के अनुसार 81 लाख की आबादी वाला देश इसराइल नौवें नंबर पर है. उसके पास 650 लड़ाकू विमान और ढाई हज़ार से अधिक टैंक हैं.

'हिंद महासागर में चीन से टकराने के लिए फ्रांस का साथ अहम'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

lok-sabha-home
BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
indian army is world's fourth strongest, paksitan has also taken a huge leap

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X