• search
महाराष्ट्र न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

उद्धव ठाकरे के इस्तीफे से पहले सुप्रीम कोर्ट में क्या-क्या हुआ, जानिए सुनवाई की अहम बातें

Google Oneindia News

मुंबई, 29 जून: महाराष्ट्र में जारी सियासी संग्राम बुधवार रात को शिवसेना प्रमुख और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के इस्तीफे पर आकर खत्म हो गया। सुप्रीम कोर्ट में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को 30 जून को सदन में बहुमत साबित करने के निर्देश को चुनौती देने की याचिका में मिले झटके के बाद उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री पद और MLC पद से इस्तीफे दे दिया। ऐसे में जानिए शिवसेना की याचिका पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट में क्या-क्या हुआ?

Supreme Court

सुप्रीम कोर्ट में शिंदे गुट के वकील की दलील

सुप्रीम कोर्ट में शिवसेना के मुख्य सचेतक सुनील प्रभु की ओर से याचिका दायर की गई थी, जिसमें राज्यपाल के फ्लोर टेस्ट के आदेश को चुनौती दी गई थी। सुप्रीम कोर्ट में शाम को याचिका पर सुनवाई हुई, जिसमें बागी विधायक ग्रुप के नेता एकनाथ शिंदे की ओर से पेश सीनियर वकील नीरज किशन कौल ने तर्क देते हुए कोर्ट को बताया कि अयोग्यता की कार्यवाही का फ्लोर टेस्ट पर कोई असर नहीं पड़ता है। कोर्ट में वकील ने दलील देते हुए कहा कि बहुमत साबित करने में देरी से लोकतांत्रिक राजनीति को नुकसान होगा। आप फ्लोर टेस्ट में जितनी देरी करेंगे, लोकतांत्रिक राजनीति को उतना ही ज्यादा नुकसान होगा।

कोर्ट ने पूछा- बागी गुट में कितने विधायक हैं?

जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने नीरज किशन कौल से पूछा कि बागी गुट में कितने विधायक हैं? अधिवक्ता ने कहा कि 55 में से 39 विधायक है। इसलिए फ्लोर टेस्ट का सामना करने से घबराहट है। वहीं शिंदे गुट ने कहा कि बागी विधायक शिवसेना नहीं छोड़ रहे हैं। हम शिवसेना है, हमारे पास प्रचंड बहुमत है। इतना ही नहीं एकनाथ शिंदे की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता ने कहा कि फ्लोर टेस्ट का सामना करने के लिए सीएम की इच्छा का ना होना, बताता है कि उन्होंने सदन में बहुमत खो दिया है।

शिवसेना के पास केवल 16 विधायक- शिंदे गुट

इसके बाद शिवसेना के बागी विधायक ग्रुप की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता मनिंदर सिंह ने बहस शुरू की। उनका कोर्ट से कहा कि जब भी सुप्रीम कोर्ट इतनी देर से बैठा है, यह फ्लोर टेस्ट को रोकने के लिए नहीं है, यह फ्लोर टेस्ट कराने के लिए है। यह पहली बार है जब फ्लोर टेस्ट को रोकने का अनुरोध किया गया है। सीनियर वकील मनिंदर सिंह का कहना है कि शिवसेना के पास केवल 16 विधायक हैं। हमारे पास 39 विधायक हैं।

महाराष्ट्र सरकार की कोर्ट में दलील

महाराष्ट्र सरकार की ओर से इस मामले में वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने पैरवी की। वकील सिंघवी ने कहा कि एनसीपी के दो विधायक कोविड से पीड़ित हैं, जबकि कांग्रेस के दो विधायक विदेश में हैं। उन्होंने कहा कि अगर कल फ्लोर टेस्ट नहीं हुआ तो आसमान नहीं गिरेगा। सिंघवी ने कहा कि स्पीकर के हाथ बांधकर फ्लोर टेस्ट करवाना ठीक नहीं होगा। उन्होंने कहा कि या तो स्पीकर को अयोग्यता की कार्यवाही तय करने की अनुमति दें या फ्लोर टेस्ट को टाल दें।

देवेंद्र फडणवीस 1 जुलाई को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में ले सकते हैं शपथ : सूत्र देवेंद्र फडणवीस 1 जुलाई को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में ले सकते हैं शपथ : सूत्र

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उद्धव का इस्तीफा

सुप्रीम कोर्ट ने याचिका पर फैसला सुनाते हुए कहा है कि कल फ्लोर टेस्ट कराया जा सकता है। कोर्ट इसपर रोक नहीं लगा रहा। जिसके बाद फेसबुक लाइव के जरिए शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे ने इस्तीफे का ऐलान कर दिया।

Comments
English summary
What happened in Supreme Court before resignation of Uddhav Thackeray know important things of hearing
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X