• search
कानपुर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

आंगन में गड्ढा खोदकर महिला तांत्रिक ने ली समाधि, पुलिस ने निकाला बाहर तो बोली- भुगतेंगे सभी सजा

|

Kanpur News, कानपुर। आस्था के नाम पर अंधविश्वास को बढ़ावा देने वाला एक अनोखा नजारा उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में देखने को मिला। दरअसल, यहां एक महिला तांत्रिक ने घर के आंगन में बनाए गड्ढे में जिंदा समाधि ले ली। जैसे ही इस बात का पता ग्रामीणों को चला, तो वो महिला के घर पहुंच गए। इस दौरान ग्रामीणों ने समाधि स्थल पर ढोल-मजीरों के साथ भजन-कीर्तन शुरू कर दिया था। वहीं, इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद पुलिस-प्रशासन भी हरकत में आ गया। आनन-फानन पुलिस अमला मौके पर पहुंचा और बेहोशी की हालत में महिला को समाधि से बाहर निकालकर अस्पताल में भर्ती कराया। हालांकि, होश में आने के बाद महिला ने कहा कि मेरी समाधि भंग कर मुझे जगाने वालों अब भगवान का प्रकोप झेलना पड़ेगा, उन्हें माफी नहीं मिलेगी।

क्या है पूरा मामला

क्या है पूरा मामला

ये पूरा मामला कानपुर जिले के घाटमपुर थाना क्षेत्र के मढ़ा गांव का है। गांव निवासी राम सजीवन पेशे से एक किसान है। परिवार में पत्नी गयाश्री, बेटे अरविंद और बेटी सुमित्रा हैं। बता दें कि राम सजीवन की पत्नी गयाश्री पिछले 5 साल से भगवान शिव शंकर की अराधना कर रही हैं। परिजनों के मुताबिक, गयाश्री भगवान शिव से सीधे बात करती थी। एक दिन भगवान शिव गयाश्री के सामने प्रकट हुए और जिंदा समाधि लेने की बात कही थी, इसलिए गयाश्री ने 48 घंटे के लिए जिंदा समाधि ली है। गयाश्री के पति राम सजीवन ने दावा किया है कि 48 घंटे बाद पत्नी को जिंदा निकालेंगे।

ग्रामीण चढ़ाने लगे थे चढ़ावा

ग्रामीण चढ़ाने लगे थे चढ़ावा

महिला तांत्रिक के समाधि लेने के बात का पता जैसे ही ग्रामीणों को चला, तो वो महिला के घर पहुंच गए। इस दौरान ग्रामीणों ने समाधि स्थल पर ढोल-मजीरों के साथ भजन-कीर्तन शुरू कर दिया था। अन्य ग्रामीणों ने चढ़ावा चढ़ाना भी शुरू कर दिया। वहीं, महिला द्वारा समाधि लिए जाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो पुलिस-प्रशासन भी हरकत में आ गया। आनन-फानन में एसडीएम अरुण कुमार व सीओ गिरीश कुमार सिंह सर्किल के फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे गए। करीब दो घंटे बाद पुलिस ने समाधि खोदकर महिला को बेहोशी की हालत में बाहर निकाला और इलाज के लिए सीएचसी भिजवाया गया।

सभी को भेजा गया जेल

सभी को भेजा गया जेल

समाधि लेने वाली महिला गयाश्री, उसके पति राम सजीवन, बेटी सुमित्रा व पुत्र समेत छह लोगों को गुरुवार को कड़ी सुरक्षा में पुलिस ने एसडीएम कोर्ट में पेश किया। जहां से सभी को जेल भेज दिया गया है। पुलिस अभिरक्षा में एसडीएम कोर्ट में पेश करने के लिए लाई गई महिला तांत्रिक काफी गुस्से में दिखी। मीडिया द्वारा सवाल पूछे जाने पर गयाश्री चिल्लाकर बोली, भगवान के आदेश पर समाधि ली थी। बिना अनुमति क्रिया के बीच में समाधि खंडित किए जाने से वह क्रोध में हैं। भगवान व मेरे बीच आने वाले सभी लोगों को देर सवेर ही सही सजा जरूर मिलेगी। किसी को भी माफी नहीं मिलेगी।

समाधि के लिए खोदा था पांच फीट का गड्ढा

समाधि के लिए खोदा था पांच फीट का गड्ढा

समाधि लेने के लिए घर के आगमन में पांच फीट का गहर गड्ढा खोदा गया था, जिसमें महिला तांत्रिक गयाश्री ने समाधि ली थी। इस बात की जानकारी महिला तांत्रिक के बेटे अरविंद ने मीडियाकर्मियों को दी। उसने बताया कि मां पिछले कई दिनों से इसकी तैयारी कर रही थी। उन्हें पूरे विधि-विधान के साथ समाधि दिलाई गई थी। परिवार ने कहा कि 48 घंटे बाद महिला को गड्ढा खोदकर बाहर निकाला जाएगा। हालांकि, पुलिस को जैसे ही सूचना मिली, वैसे ही मौके पर पहुंचकर उन्होंने महिला को समाधि से बाहर निकलवाया।

ये भी पढ़ें:- प्रेमी और मंगेतर के साथ मिलकर गर्लफ्रेंड ने किया नितिन का कत्ल, शव को किचन में फेंककर हुए फरार

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Woman tantrik buried herself in soil police saved her life
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X