• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Video: भारत के साथ टकराव के बीच चीन ने चली नई चाल, पैंगोंग झील को पर्यटकों के लिए खोला!

|

बीजिंग। भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर विवाद जारी है। चार माह से दोनों देश आमने-सामने हैं। लेकिन इसके बीच ही चीन ने एक नई चाल चली है। चीन ने पैंगोंग त्‍सो झील को अंतरराष्‍ट्रीय और घरेलू पर्यटकों के लिए खोल दिया है। इस झील का कुछ हिस्‍सा भारत में तो कुछ चीन में हैं। 29 और 30 अगस्‍त को चीन ने पैंगोंग के दक्षिणी हिस्‍से में मोर्चा खोल दिया है। सात सितंबर को पैंगोंग के दक्षिणी छोर के तहत आने वाले रेजांग ला में फिर से चीन ने घुसपैठ की कोशिशें की हैं। हालांकि जो हिस्‍सा चीन ने पर्यटकों के लिए खोला है, वह उसकी सीमा में आता है।

यह भी पढ़ें-62 में चीन के साथ जंग और रेजांग ला की शौर्यगाथा

झील की सैर पर निकले सैलानी

झील की सैर पर निकले सैलानी

जो वीडियो सामने आया है उसमें एक टूरिस्‍ट को झील पर बोट की मदद से सैर करते हुए देखा जा सकता है। 4,270 मीटर की ऊंचाई पर यह झील 134 किलोमीटर लंबी है और लद्दाख से निकलते हुए तिब्‍बत और फिर चीन तक जाती है। 30 अगस्‍त की घुसपैठ के बाद सेना की तरफ से बयान जारी कर कहा गया कि चीन पैगोंग झील के दक्षिणी हिस्‍से पर घुसपैठ कर यथास्थिति को बदलना चाहता है। सेना की तरफ से यह भी कहा गया कि चीन ने बॉर्डर पर शांति और स्थिरता के लिए हुए सभी समझौतों का उल्‍लंघन किया है। सेना की तरफ से पैगोंग के दक्षिणी किनारे पर सैन्‍य गतिविधियों की बात कही गई।

झील का 45 किमी हिस्‍सा भारत में

पैंगोंग का मतलब लद्दाख की भाषा में होता है गहरा संपर्क और त्‍सो एक तिब्‍बती शब्‍द है जिसका अर्थ है झील। झील, लेह से दक्षिण पूर्व में करीब 54 किलोमीटर की दूरी पर है। 135 किलोमीटर लंबी झील करीब 600 स्क्वायर किमी एरिया में फैली है। झील के करीब दो-तिहाई हिस्से पर चीन का कब्जा है, जबकि करीब 45 किमी का हिस्सा भारत के हिस्‍से आती है। सर्दियों में पूरी तरह से जम जाने वाली झील के बारे में कहते हैं कि 19वीं सदी में डोगरा साम्राज्‍य के जनरल जोरावर सिंह ने अपने सैनिकों और घोड़ों को जमी हुई झील पर ट्रेनिंग दी थी। इसके बाद वह तिब्‍बत में दाखिल हुए थे। भारत और चीन के बीच सीमाओं का निर्धारण नहीं हुआ है। एलएसी में अलग-अलग नजरिए की वजह से पैंगोंग के कई सेक्‍टर्स पर भी विवाद है।

पैंगोंग के आसपास अक्‍सर होता है विवाद

पैंगोंग के आसपास अक्‍सर होता है विवाद

पांच मई को भारत और चीन के बीच पैंगोंग त्‍सो से ही टकराव शुरू हुआ था। अभी तक चीन की तरफ से पैंगोंग के उत्‍तरी किनारे पर ही गतिविधियां जारी थीं। यह पहली बार है जब पीएलए ने दक्षिणी किनारे पर कब्‍जे की कोशिश की थी। पैंगोंग त्‍सो 4, 270 मीटर की ऊंचाई पर है। पैंगोंग झील, पूर्वी लद्दाख में 826 किलोमीटर के बॉर्डर के केंद्र के एकदम करीब है। 19 अगस्‍त 2017 को भी पैंगोंग झील पर दोनों देशों की सेनाओं के बीच झड़प हुई थी। झील का पानी एकदम साफ है लेकिन खारा होने की वजह ये यह पीने योग्‍य नहीं है। झील सर्दियों में पूरी तरह से जम जाती है और जमी हुई झील से कभी-कभी गाड़‍ियां तक गुजर जाती हैं।

उत्‍तरी किनारे पर फिंगर एरिया

उत्‍तरी किनारे पर फिंगर एरिया

झील के उत्‍तरी किनारे पर अंतरराष्‍ट्रीय बॉर्डर है जो खुरनाक किले के करीब है। भारत का कहना है कि एलएसी झील के 15 किलोमीटर पश्चिम तक है। झील के उत्‍तरी किनारे पर बंजर पहाड़ियां हैं जिन्‍हें छांग छेनमो कहते हैं। इन पहाड़ियों के उभरे हुए हिस्‍से को ही सेना 'फिंगर्स' के तौर पर बुलाती है। भारत का दावा है कि एलएसी की सीमा फिंगर आठ तक है लेकिन वह फिंगर 4 तक के इलाके को ही नियंत्रित करती है।फिंगर 8 पर चीन की बॉर्डर पोस्‍ट्स हैं। जबकि वह मानती है कि एलएसी फिंगर 2 से गुजरती है। करीब छह साल पहले चीन की सेना ने फिंगर 4 पर स्‍थायी निर्माण की कोशिश की थी। इसे बाद में भारत की तरफ से हुए कड़े विरोध के बाद गिरा दिया गया था।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Video: China opens Pangong Tso lake for tourists amid standoff with India.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X