• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

US Election 2020: UP, बिहार जैसे अमेरिका के ये राज्‍य, यहां जीते तो ही ट्रंप दोबारा पहुंच पाएंगे व्‍हाइट हाउस

|

वॉशिंगटन। 15 दिन का समय बचा है जब अमेरिका की जनता अपने नए राष्‍ट्रपति का चुनाव करेगी। रिपब्लिकन पार्टी के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप और डेमोक्रेट जो बाइडेन के बीच कड़ा मुकाबला है। वोटिंग डे यानी 3 नवंबर से पहले कई राज्‍यों में अर्ली वोटिंग शुरू हो गई है। सोमवार को फ्लोरिडा जो कि बैटलग्राउंड राज्‍य है, वहां पर अर्ली वोटिंग शुरू हुई। अमेरिका में कुल आठ स्विंग स्‍टेट हैं और यहां के वोटर्स को मन कब बदल जाए कोई नहीं जानता है। अगर आप बैटलग्राउंड का गणित समझ गए तो फिर आपको अमेरिकी चुनावों के बारे में सब-कुछ समझ आ जाएगा। तो फिर आज आपको बताते हैं कि क्‍या हैं ये बैटलग्राउंड या स्विंग स्‍टेट और कैसे यहां पर होने वाली वोटिंग पर ही उम्‍मीदवार को भविष्‍य निर्भर है।

यह भी पढ़ें-जानिए कितने अलग हैं अमेरिका और भारत के चुनाव

इलेक्‍टोरल पर तय होती है जीत

इलेक्‍टोरल पर तय होती है जीत

बैटलग्राउंड यानी स्विंग स्‍टेट्स अमेरिका के वो राज्‍य हैं जहां पर इलेक्‍टोरल वोट्स में हल्‍की सी स्विंग भी डेमोक्रेट या रिपब्लिकन उम्‍मीदवार को जीता देती है। अमेरिकी सरकार की वेबसाइट के मुताबिक इलेक्‍टोरल कॉलेज वोट्स यानी निर्वाचक मंडल के तहत पर चुनाव होते हैं। इसमें अमेरिकी कांग्रेस के कुछ निश्चित सदस्‍य होते हैं। दोनों उम्‍मीदवारों के लिए इलेक्‍टोरल कॉलेज वोट्स को जीतना बहुत जरूरी है। हर राज्‍य में कुछ निश्चित इलेक्‍टोरल कॉलेज वोट्स यानी निर्वाचक मंडल होते हैं। ये वोट्स हर राज्‍य की आबादी पर निर्भर करते हैं। कुल 538 इलेक्‍टोरल वोट्स हैं यानी हर उम्‍मीदवार को जीतने के लिए 270 या इससे ज्‍यादा इलेक्‍टोरल वोट्स की जरूरत होती है। इसका मतलब यह हुआ कि राज्‍स स्‍तर के वोटर्स ही कौन जीतेगा इस बात का फैसला कर देते हैं।

कौन-कौन से स्विंग स्‍टेट में कितने वोट

कौन-कौन से स्विंग स्‍टेट में कितने वोट

अमेरिका में आठ ऐसे राज्‍यों को बैटलग्राउंड के तौर पर कैंपेन की तरफ से चिन्हित किया गया है जहां पर जरा सा ट्रेंड बदला तो पूरा खेल बदल जाएगा। इन्‍हीं राज्‍यों में अब ट्रंप और बाइडेन की बाकी की रैलियां होनी हैं। एक नजर डालिए बैटलग्राउंड स्‍टेट्स पर और यहां पर मौजूद इलेक्‍टोरल वोट्स पर-

फ्लोरिडा-29 इलेक्‍टोरल वोट्स

एरिजोना-11 इलेक्‍टोरल वोट्स

जॉर्जिया-16 इलेक्‍टोरल वोट्स

मिशीगन-16 इलेक्‍टोरल वोट्स

मिनेसोटा- 10 इलेक्‍टोरल वोट्स

नॉर्थ कैरोलिना-15 इलेक्‍टोरल वोट्स

पेंसिलवेनिया-20 इलेक्‍टोरल वोट्स

विस्‍कोन्सिन-10 इलेक्‍टोरल वोट्स

कैसे होता है स्विंग स्‍टेट का निर्धारण

कैसे होता है स्विंग स्‍टेट का निर्धारण

बैटलग्राउंड या स्विंग स्‍टेट का निर्धारण वोटिंग, वहां की डेमोग्राफी यानी अलग-अलग संस्‍कृति की आबादी, पिछले चुनाव का इतिहास, मतदाता रजिस्‍ट्रेशन, राज्‍य और लोकल पार्टी के अधिकारियों की तरफ से मिली जानकारी, रणनीतियां और वोट करने का चलन। इन्‍हीं वजहों से बैटलग्राउंड स्‍टेट में क‍ब नतीजे बदल जाए कोई नहीं कह सकता है। उदाहरण के लिए फ्लोरिडा जहां 29 इलेक्‍टोरल वोट्स हैं, साल 2000 से ही राष्‍ट्रपति चुनावों में बैटलग्राउंड बना हुआ है। यह राज्‍य राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप और डेमोक्रेट जो बाइडेन, दोनों के लिए ही काफी नाजुक है मगर ट्रंप के लिए इस बार खासतौर पर निर्णायक साबित होने वाला है। फ्लोरिडा में हारने का मतलब ट्रंप के लिए 270 वोटों को जुटाना असंभव है। साल 2000 में यहां पर रिपब्लिकन पार्टी के जॉर्ज डब्‍लू बुश ने डेमोक्रेट अल गोर को बस 537 वोट्स से मात दी थी। यहां पर अक्‍सर ही करीबी संघर्ष देखने को मिलता है।

अमेरिका के यूपी, बिहार

अमेरिका के यूपी, बिहार

जिस तरह से भारत में होने वाले संसदीय चुनावों के समय पार्टियां उत्‍तर प्रदेश और बिहार जैसे राज्‍यों के वोटर्स को लुभाने की कोशिशें करती हैं, ठीक वैसे ही अमेरिका के फ्लोरिडा जैसे कुछ राज्‍यों में राष्‍ट्रपति के उम्‍मीदवार जमकर प्रचार करते हैं। ये ऐसे राज्‍य हैं जहां होने वाली वोटिंग ही व्‍हाइट हाउस का रास्‍ते के बारे में बताती है। ये बैटलग्राउंड या फिर स्विंग स्‍टेट इस बार डोनाल्‍ड ट्रंप और जो बाइडेन के लिए काफी अहम हैं। हर उम्‍मीदवार को चुनावों में जीत हासिल करने के लिए 538 में से 270 इलेक्‍टोरल वोट्स की जरूरत होती है। ये 270 वोट्स किस तरह से आएंगे, ये सब-कुछ स्विंग स्‍टेट पर निर्भर करता है। पॉपुलर वोट्स, इलेक्‍टोरल वोट्स की तुलना में बहुत कम महत्‍वपूर्ण होते हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
US Election 2020: What are battleground states and why do they matter.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X