• search

एक ऐसी सेक्स बीमारी जो 'सुपरबग बन सकती है'

By Bbc Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    सांकेतिक तस्वीर
    Getty Images
    सांकेतिक तस्वीर

    एमजी. एमजी वो संक्रामक यौन बीमारी है, जिस पर अगर ध्यान न दिया गया तो यह अगला सुपरबग साबित हो सकती है. दुनिया भर के स्वास्थ्य विशेषज्ञ ये चेतावनी दे रहे हैं.

    आम तौर पर माइकोप्लाज़्मा जेनिटेलियम (एमजी) के कोई शुरुआती लक्षण नहीं होते, लेकिन इससे महिलाओं और पुरुषों, दोनों के जननांगों में संक्रमण हो सकता है. ये इतना ख़तरनाक है कि इससे औरतों में बांझपन भी हो सकता है.

    एमजी के शुरुआती लक्षण आसानी से समझ में नहीं आते इसलिए इसका इलाज भी मुश्किल है और अगर इलाज ठीक से न हो तो इस पर एंटीबायोटिक्स भी बेअसर हो सकता है.

    'ब्रिटिश सोसिएशन ऑफ़ सेक्शुअल हेल्थ ऐंड एचआईवी' ने हालात की गंभीरता को देखते हुए बीमारी के बारे में नई सलाहें जारी की हैं.

    Sexually transmitted disease, symbolic image
    Getty Images
    Sexually transmitted disease, symbolic image

    एमजी क्या है?

    माइकोप्लाज़्मा जेनिटेलियम एक जीवाणु है जिससे पुरुषों को पेशाब के रास्ते में सूजन हो सकती है. इससे जननांग से स्राव होता है और पेशाब करने में तकलीफ़ होती है.

    औरतों के जननांगों (गर्भाशय और फ़ैलोपियन ट्यूब) में एमजी की वजह से सूजन हो सकती है. इसका नतीजा दर्द, रक्तस्राव और बुखार के रूप में देखने को मिल सकता है.

    असुरक्षित यौन संबंध एमजी का सबसे बड़ा कारण बताया जा रहा है. कंडोम इस संक्रमण को रोकने में कारगर साबित हो सकते हैं.

    इसका पहली बार पता 1980 के दशक में ब्रिटेन में चला और माना गया कि एक से दो फ़ीसदी आबादी इससे प्रभावित रही.

    एमजी के लक्षण हमेशा पता नहीं चल पाते और हमेशा इसके इलाज की ज़रूरत भी नहीं पड़ती, लेकिन ये नज़रअंदाज़ हो सकता है या फिर इससे क्लमेडिया जैसी दूसरी यौन संक्रमण वाली बीमारी होने का भ्रम भी हो सकता है.

    इलाज

    एमजी की जांच के लिए हाल में कुछ टेस्ट किए गए हैं, लेकिन ये सभी अस्पतालों में उपलब्ध नहीं हैं. इसका इलाज दवाइयों और एंटीबायोटिक्स से मुमकिन है, लेकिन कई मामलों में बीमारी पर दवाइयों का असर नहीं होता.

    Sexually transmitted disease, symbolic image
    Getty Images
    Sexually transmitted disease, symbolic image

    कंडोम से बेहतर रोकथाम

    एमजी के इलाज में इस्तेमाल की जाने वाली एंटीबायोटिक्स 'मैक्रोलिड्स' का असर दुनिया भर में कम हुआ है. ब्रिटेन में लोगों पर इसके असर में तक़रीबन 40% कमी आई है. राहत की बात ये है कि दूसरी एंटीबायोटिक 'एज़िथ्रोमाइसिन' अब भी ज़्यादातर मामलों में कारगर है.

    ब्रिस्टल में डॉक्टर पीटर ग्रीनहाउस का का कहना है कि लोगों में एमजी को लेकर जितनी जागरूकता होगी, इसकी रोकथाम में उतनी ज़्यादा मदद मिलेगी. उन्होंने लोगों से कंडोम इस्तेमाल करने और सुरक्षित यौन संबंध बनाने की सलाह दी है.

    पैडी हॉर्नर एमजी की रोकथाम के लिए नए दिशा-निर्देश लिखने वाले स्वास्थ्य विशेषज्ञों में से एक हैं.

    उन्होंने कहा, "नए दिशा-निर्देश इसलिए जारी किए गए हैं क्योंकि 15 साल पुराने ढर्रे पर नहीं चल सकता. अगर हम पुराना तरीका अपनाते रहे तो इसमें कोई शक़ नहीं है कि सुपरबग जैसी बड़ी समस्या हमारे सामने होगी जो 'हेल्थ इमरजेंसी' से कम नहीं होगी."

    ये भी पढ़ें: थाईलैंड में 'मिशन इंपॉसिबल' के ये नायक

    'शहरी नक्सलियों' का हौव्वा क्यों खड़ा हो रहा है

    बुराड़ी मामला: दैवीय शक्ति या मानसिक बीमारी?

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    One such sex disease that can become a superbug

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X