इस लड़की ने सऊदी में महिलाओं को दिलाया योग का हक, धर्मगुरुओं से धमकी मिलने के बाद भी करती रही काम

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi
Saudi Arabia की महिलाओं को इस लड़की ने दिलाया योग कर हक । वनइंडिया हिंदी

नई दिल्ली। सऊदी अरब में ड्राइविंग के अधिकार के बाद अब महिलाओं को एक और अधिकार दिया गया है। सऊदी ने योग को खेल का दर्जा दे दिया है। अब भले ही इस कट्टर देश ने उसे ये दर्जा दिया हो, लेकिन इसके पीछे की लड़ाई बड़ी लंबी है। कई सालों से ये लड़ाई नाउफ मारवाई अकेले ही लड़ रही हैं। ये उन्हीं की मेहनत का फल है दो सऊदी अरब ने इसे खेल में शामिल किया है।

ड्राइविंग के बाद मिला योग का हक

ड्राइविंग के बाद मिला योग का हक

सऊदी अरब में महिलाओं पर कई तरह की पाबंदी है। ड्राइविंग को लेकर तो लंबी लड़ाई के बाद उन्हें ये हक मिल ही गया, अब धीरे-धीरे बाकी हक भी वो सरकार से ले रही हैं। सऊदी ने योग को खेलों में शामिल कर लिया है। इसके पीछे नाउफ मारवाई हैं जो सालों के योग को ये दर्जा दिलवाने के लिए काम कर रही हैं।

19 साल की उम्र से कर रही हैं योग

19 साल की उम्र से कर रही हैं योग

नाउफ सऊदी अरब की पहली सर्टिफाइट योग शिक्षिका हैं। सऊदी अरब में उन्होंने योग को पॉपुलर बनाने के लिए काफी काम किया है। नाउफ 19 साल की उम्र से योग कर रही हैं और तभी से वो इसे प्रमोट भी कर रही हैं। उन्होंने केरल से योग सीखा है और यहीं उन्हें योगाचारिणी का खिताब मिला।

धमकी देते थे मुस्लिम धर्मगुरु

धमकी देते थे मुस्लिम धर्मगुरु

भारतीय काउंसलेट भी उनके इस काम के बाद उन्हें सम्मानित कर चुका है। एक पितृसत्तात्मक समाज में नाउफ के लिए योग आसान नहीं था। उन्हें रोजाना धमकियां मिलती थीं। एक इंटरव्यू में नाउफ ने बताया था कि मुस्लिम धर्म गुरु उन्हें धमकी देते थे। योग पर लिखे उनके आर्टिकल पर तो यहां तक कह दिया गया था कि वो योग नहीं सिखा सकतीं।

बिजनेसवुमेन भी हैं नाउफ

बिजनेसवुमेन भी हैं नाउफ

लेकिन इन धमकियों के बावजूद नाउफ ने लोग सिखाना जारी रखा और आज नाउफ की मेहनत रंग लाई है। योग शिक्ष के अलावा नाउफ एक बिजनेसवुमेन हैं। वो जिद्दाह में रियाद-चायनीज मेडिकल सेंटर की संस्थापक भी हैं।

ये भी पढ़ें:मरने के बाद भी करोड़ों कमा रहे हैं 'किंग ऑफ पॉप' माइकल जैक्सन, फोर्ब्स ने जारी की टॉप 10 की लिस्ट

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Nouf Marwaai stuggled all her life so she can teach yoga in Saudi Arab. Now the government has finally approved yoga as a sport.
Please Wait while comments are loading...