• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

पैंगबर का अपमान अरब देशों में मुद्दा, हमारे यहां बड़ा मसला नहीं, हम इसे नहीं भड़काएंगेः बांग्लादेश

पैंगबर मोहम्मद पर कथित अपमानजनक टिप्पणी को लेकर कई देशों के विरोध का सामना कर रहे भारत को पड़ोसी देश बांग्लादेश से राहत मिली है।
Google Oneindia News

ढाका, 13 जूनः पैंगबर मोहम्मद पर कथित अपमानजनक टिप्पणी को लेकर कई देशों के विरोध का सामना कर रहे भारत को पड़ोसी देश बांग्लादेश से राहत मिली है। भाजपा की प्रवक्ता रहीं नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल की ओर से पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी को बांग्लादेश के वरिष्ठ मंत्री ने भारत का आंतरिक मामला बताया है। बता दें कि ढाका में भी कुछ संगठनों ने इस मसले पर 10 जून को विरोध प्रदर्शन किए थे।

भारत का आंतरिक मसला

भारत का आंतरिक मसला

बांग्लादेश के सूचना एवं प्रसारण मंत्री हसन महमूद ने इस विवाद को लेकर कहा कि यह भारत का आंतरिक मसला है और इस पर सरकार को प्रतिक्रिया देने की कोई जरूरत नहीं है। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक पत्रकारों का जवाब देते हुए मंत्री ने कहा कि यह मसला भारत का है... बांग्लादेश का नहीं। हमें इस बारे में कहने की कोई जरूरत नहीं है। इसके साथ ही महमूद ने इस मामले में कार्रवाई करने के लिए भारतीय अधिकारियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि इस मामले को और आगे नहीं बढ़ाएंगे।

भारत सरकार को धन्यवाद

भारत सरकार को धन्यवाद

यह पूछे जाने पर कि जब एक दर्जन से अधिक मुस्लिम देश और 57 देशों का इस्लामिक सहयोग संगठन ने इस बयान का विरोध किया तब बांग्लादेश की चुप्पी किसी समझौते को लेकर है? इस पर बांग्लादेश के मंत्री ने कहा कि हमने किसी भी प्रकार का कोई समझौता नहीं किया है। हम पवित्र पैगंबर की निंदा की कड़ी निंदा करते हैं। लेकिन चूंकि भारत सरकार इस पर पहले ही कार्रवाई कर चुकी है इसलिए हम उनका धन्यवाद करते हैं। अब कानून अपना काम करेगा।

Recommended Video

    Nupur Sharma की बढ़ीं मुश्किलें, Prophet Muhammad के बयान पर Kolkata में FIR |वनइंडिया हिंदी| *News
    हमारा काम मुद्दे को भड़काना नहीं

    हमारा काम मुद्दे को भड़काना नहीं

    वरिष्ठ मंत्री ने कहा कि बांग्लादेश में पैगंबर का अपमान इतना बड़ा मुद्दा नहीं है तो मैं क्यों इसे भड़काऊं? उन्होंने सवालिया लहजे में पूछा कि क्या इस पहले ही पर्याप्त ध्यान नहीं दिया गया है। मेरा काम मुद्दे को भड़काना नहीं है। बांग्लादेश की सरकार पैगंबर मोहम्मद पर की गई टिप्पणी पर समझौता नहीं कर रही है और न ही ऐसा किया जाएगा। मैं खुद इसकी निंदा करता हूं और सार्वजनिक सभा में भी इस पर बात की थी।

    बांग्लादेश में यह इतना बड़ा मुद्दा नहीं

    बांग्लादेश में यह इतना बड़ा मुद्दा नहीं

    इस मसले पर सरकार की ओर से सार्वजनिक बयान न जारी किए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह हमारे देश का आंतरिक मामला नहीं है। उन्होंने कहा कि यह बांग्लादेश के लिए आंतरिक मामला नहीं है बल्कि बाहरी केस है। यह भारत का आंतरिक मामला है। पूरी दुनिया में जब भी मुसलमानों के मुद्दे को लेकर ऐसा कुछ कहीं भी होता है तो फिर कुछ इस्लामिक दल यहां भी प्रोटेस्ट करते हैं। यह कोई नई बात नहीं है, ऐसा अक्सर होता है। लेकिन यह बांग्लादेश में यह इतना बड़ा मसला नहीं है, जितना अरब देशों, पाकिस्तान और मलेशिया में होता है।

    बांग्लादेश में भी कुछ कट्टरपंथी मुस्लिम तत्व

    बांग्लादेश में भी कुछ कट्टरपंथी मुस्लिम तत्व

    महमूद ने कहा कि यदि पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ दुनिया में कहीं भी कुछ होता है तो उसकी निंदा की जानी चाहिए। हम भारत सरकार को कानूनी कार्रवाई के लिए बधाई देते हैं। महमूद ने कहा कि बांग्लादेश में भी कुछ बेहद कट्टरपंथी मुस्लिमों के संगठन हैं। इनकी संख्या बहुत कम है और इन्हें सपोर्ट भी नहीं मिल रहा है, लेकिन ये शोर काफी ज्यादा करते हैं।

    भारत और बांग्लादेश के बीच खून का रिश्ता

    भारत और बांग्लादेश के बीच खून का रिश्ता

    वरिष्ठ मंत्री ने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के नेतृत्व में दोनों देशों के संबंध नई ऊंचाइयों पर पहुंचे हैं। उन्होंने साल 1971 में देश के मुक्ति संग्राम के दौरान बांग्लादेश के साथ खड़े होने के लोगों और भारत सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि भारत के लोगों ने बांग्लादेश के लोगों के लिए अपना खून बहाया। आपने हमारे लिए अपने दरवाजे और दिल खोल दिए। उन्होंने आगे कहा कि भारत और बांग्लादेश के लोगों के बीच संबंध युद्ध की राख से पैदा हुए थे और हमारे खून में बने थे। हम वास्तव में खून के रिश्ते में भाई हैं।

    The Lady Of Heaven फिल्म में ऐसा क्या है जिसे पूरी दुनिया के मुस्लिम बैन करवाना चाहते हैंThe Lady Of Heaven फिल्म में ऐसा क्या है जिसे पूरी दुनिया के मुस्लिम बैन करवाना चाहते हैं

    Comments
    English summary
    derogatory references to the Prophet is India’s internal matter, Dhaka need not respond to it
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X